राइनोप्लास्टी यानी नाक की सर्जरी का बढ़ता क्रेज

नाक की सर्जरी, या राइनोप्लास्टी, किशोरों में की जाने वाली सबसे प्रचलित कौस्मेटिक सर्जरी है और इसकी लोकप्रियता दिन प्रतिदिन बढ़ रही है. क्योंकि ह्रितिक रोशन के हाइ चीकबोन्स. जौन अब्राहम-सा सीना… परफेक्ट लुक के लिए कौस्मेटिक सर्जरी की राह अपना रहे युवा. पूर्णता की चाहत पाल रहे युवकों को सर्जन की छूरी से कोई परहेज नहीं है. वे महशूर हस्तियों की नकल करने की कोशिश कर रहे सर्वेक्षण से पता चलता है कि कौस्मेटिक सर्जरी के सालाना आंकड़ों में भारत चौथे पायदान पर है और यह दुनियाभर में होने वाली सभी सर्जरी का 5.2 फीसदी है. सर्वेक्षण में यह भी बताया गया है कि भारत में होने वाली 10 में से तीन सर्जरी युवक करा रहे हैं.

पूर्णता की चाहत पाल रहे युवकों को सर्जन की छुरी से कोई परहेज नहीं है. सिल्वर स्क्रीन के सितारे शर्ट उतारकर अपने गठीले शरीर का प्रदर्शन कर रहे हैं, नाक इलाज के लिए आने वाले लोग अक्सर अपने पसंदीदा हीरो की तस्वीर साथ लाते हैं और अपनी नाक या जौलाइन अपने पसंदीदा हीरो जैसे बनवाना चाहते हैं.इलाज के लिए आने वाले लोग अक्सर अपने पसंदीदा हीरो की तस्वीर साथ लाते हैं और अपनी नाक या जौलाइन अपने पसंदीदा हीरो जैसे बनवाना चाहते हैं.

 नाक की आकृति

नाक को मनचाहा आकार देने के लिए यह नाक की सर्जरी या राइनोप्लास्टी की जाती है और यह दुनिया की सबसे आम कौस्मेटिक सर्जरी प्रक्रियाओं में से एक है. यह नाक को संकीर्ण या बड़ा दिखाने, नाक संरेखण को बढ़ाने या नथुने के आकार या आकार को बढ़ाने के लिए किया जा सकता है. नाक की त्वचा को हड्डी और उपास्थि से अलग किया जाता है, और हड्डी और उपास्थि को आवश्यक परिणाम उत्पन्न करने के लिए शल्य चिकित्सा द्वारा फिर से आकार दिया जाता है. यह चेहरे की उपस्थिति और अन्य चेहरे की विशेषताओं के अनुपात को बढ़ाने के लिए नाक को फिर से आकार देने के लिए एक शल्य प्रक्रिया है.

ये भी पढ़ें- फेस कट के हिसाब से ऐसे करें मेकअप

 समय

राइनोप्लास्टी, हालांकि, एक औपरेशन है .जिसमें समय महत्वपूर्ण है. चेहरे की हड्डियां भी एक बच्चे के परिपक्व होने के रूप में बढ़ती हैं, और इस चेहरे के विकास केंद्र की समय से पहले की गड़बड़ी से चेहरे का असामान्य विकास हो सकता है. अमेरिकन सोसाइटी फौर एस्थेटिक प्लास्टिक सर्जरी के अनुसार, जब  लड़कियां 14 साल की उम्र तक पहुंच जाती हैं और लड़के 16 साल की उम्र तक पहुंच जाते हैं, तब तक नाक आमतौर पर उनके विकास का 90 प्रतिशत समाप्त हो चुका होता है.

अपोलो अस्पताल के वरिष्ठ कौस्मेटिक सर्जन डौ .अनूप धीर का सुझाव है कि 15-16 वर्ष की आयु से पहले राइनोप्लास्टी नहीं की जानी चाहिए क्योंकि चेहरे और नाक की हड्डियाँ बढ़ती रहती हैं. चेहरे की हड्डियों ने मध्य-किशोरियों के माध्यम से अपना पूर्ण परिपक्व आकार और आकार प्राप्त किया. राइनोप्लास्टी इस उम्र के बाद किसी भी समय किया जा सकता है जब तक कि व्यक्ति उत्कृष्ट समग्र स्वास्थ्य में न हो.

सर्जरी के बाद नाक  में कुछ दर्द, सूजन रहती है, लेकिन यह धीरे-धीरे कम हो जाती है. सरल एनाल्जेसिक दर्द को नियंत्रित कर सकते हैं. ऊतक को ठीक करने के लिए एक महत्वपूर्ण मात्रा में समय की आवश्यकता होती है .इसलिए, कई महीनों तक औपरेशन के परिणाम पर चिंतित ना हो. लगभग 1 साल तक लग सकता है जब तक  उपचार पूरा न हो जाए.

ये भी पढ़ें- फेस पर वैक्स करने से पहले जरूर जान लें ये बातें

 जरूरी बात

अगर पेशेंट मन से पूरी तरह से निश्चित नहीं है तो सर्जरी में देरी करना बेहतर है क्योंकि इसे बाद में आसानी से किया जा सकता है, लेकिन राइनोप्लास्टी को फिर से करना बहुत कठिन है. अगर आप एक राय चाहते हैं तो पूरी तरह से योग्य प्लास्टिक और कॉस्मेटिक सर्जन से जांच करें.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें