नया सफर: भाग-2

पिछला भाग- नया सफर: भाग-1

विजय के जाने के बाद सरिता को दिनकर से खुल कर बातें करने का वक्त मिल गया. घर में दोनों अकेले थे इसलिए खूब बातें कीं. दिनकर ने दिल खोल कर रख दिया, तो सरिता भी पीछे न रही. दोनों ने अपनेअपने दर्द बयां किए तो दोनों एकदसरे के हमदर्द बन गए और हमदर्दी पा कर प्यार की कोंपलें फूटने लगीं. दोनों को लगा कि कुदरत ने हमारे लिए जीवनसाथी बनाते समय हमारे साथ अन्याय किया है.

सरिता ने दिन भर दिनकर को शहर में घुमाया. दिनकर ने अपने जरूरी काम निबटाए फिर सरिता से कहा, ‘‘अब मैं तुम्हारे हवाले हूं मैडम, जहां मरजी ले चलो.’’

‘‘भगा ले चलूं तो…,’’ सरिता ने कार चलाते हुए कहा.

‘‘मैं तैयार हूं भागने को.’’

दिनकर के कहने का अंदाज कुछ ऐसा था कि दोनों खिलखिला कर हंस पड़े. फिर दिन भर घूमने के बाद शाम को दोनों घर लौट आए.

बच्चे स्कूल से आने वाले थे. विजय डिनर के वक्त ही घर आता था. दिनकर की फ्लाइट देर रात की थी पर सरिता चाहती थी कि कैसे भी हो दिनकर विजय के घर लौटने से पहले ही एअरपोर्ट चला जाए. जबकि दिनकर चाहता था कि कुछ समय और सरिता के साथ गुजारे.

‘‘आप अभी एयरपोर्ट चले जाइए न दिनकरजी,’’ सरिता ने विचलित भाव से कहा.

‘‘पर क्यों, अभी तो बहुत देर है फ्लाइट में, पहले जा कर क्या करूंगा?’’

‘‘यहां ट्रैफिक जाम रहता है, कहीं जाम लग गया तो आप की फ्लाइट मिस हो जाएगी.’’

‘‘नहीं होगी और अगर हो भी जाएगी तो क्या है कल चला जाऊंगा,’’ दिनकर ने टालते हुए कहा.

कुछ बोल नहीं पाई सरिता लेकिन उस के हावभाव से लग रहा था कि कुछ बात जरूर है, नहीं तो दिन भर साथ रहने वाली सरिता यों पीछा छुड़ाने का प्रयास न करती. अचानक डोर बैल बजी. सुन कर आशंकित सी हो उठी सरिता. चेहरे के भाव बदल गए. दरवाजा खोला तो विजय सामने खड़ा था. उस की शर्ट कहीं, टाई कहीं जा रही थी. उस के मुंह से तेज भभका ज्योंही सरिता के नाक तक पहुंचा वह बोली, ‘‘विजय, आप पी कर आए हैं न? आज तो न पीते दिनकर आए हुए हैं.’’

‘‘तेरा मेहमान आया है तो मैं क्या करूं? हट पीछे. तू तो जब देखो तब रोती रहती है,’’ विजय ने लड़खड़ाते कदमों से घर में प्रवेश किया.

‘‘प्लीज, विजय धीरे बोलिए, दिनकर अंदर हैं,’’ सरिता ने हाथ जोड़ते हुए कहा.

दिनकर ने सारा ड्रामा देखा और सुना तो सहम गया. पता नहीं सरिता के साथ कैसा व्यवहार करेगा विजय, कहीं मुझ से ही न उलझ जाए? विजय सीधा बैडरूम में गया और जैसे आया था वैसे ही कपड़े और जूते पहने बिस्तर पर लुढ़क गया. सरिता देखती रह गई. उस की आंखों से आंसू छलक पड़े. दिल का दर्द बह निकला. दिनकर दूर खड़े हो कर सब नजारा देख चुका था. सरिता ने दिनकर को देखा तो खुद को रोक नहीं पाई. दिनकर से लिपट कर सुबक पड़ी.

‘‘बस करो सरिता, हिम्मत रखो,’’ कह कर दिनकर ने प्यार से सरिता की पीठ पर हाथ फिराया तो सरिता को अपनत्व का एहसास हुआ.

‘‘मुझे भी साथ ले चलो दिनकर, मुझे यहां नहीं रहना,’’ सरिता ने सुबकते हुए कहा तो दिनकर अवाक रह गया. यों कहां ले जाए, कैसे ले जाए, किस रिश्ते से ले जाए? अनेक सवाल कौंध गए दिनकर के मन में. ‘‘सब ठीक हो जाएगा,’’ इतना ही बोल पाया दिनकर. उस की समझ में नहीं आ रहा था कि इस हालत में सरिता को छोड़ कर कैसे जाए, लेकिन फ्लाइट का टाइम हो रहा था, इसलिए निकल पड़ा.

दिनकर अपने शहर तो आ गया, लेकिन सरिता का चेहरा बारबार उस की आंखों के सामने घूम रहा था. उस ने सरिता को फोन किया, ‘‘हैलो सरिता, कैसी हो?’’

‘मैं बिलकुल ठीक हूं. आप बताइए, कैसे हैं?’’

‘‘तुम्हें ही याद कर रहा था. बहुत चिंता हो रही थी.’’

‘‘अरे आप टैंशन न लें. वह सब तो मेरी लाइफ बन चुका है.’’

‘‘मैं तो डर गया था तुम्हारी हालत देख कर.’’

‘‘मत सोचिए ज्यादा, मैं तो बस आप को देख कर थोड़ा इमोशनल हो गई थी,’’ सरिता ने कहा.

दिनकर और सरिता एकदूसरे के और करीब आते गए. दिनकर का आनाजाना और सरिता से मिलनाजुलना बढ़ गया. दोनों का यह मेलमिलाप कविता को फूटी आंख नहीं सुहाता था. दिनकर के प्रति उस का व्यवहार और रूखा हो गया. इस से कविता से दूर और सरिता के और करीब होता गया दिनकर. फिर एक वक्त ऐसा आया कि सरिता और दिनकर 1 घंटा भी अपनेअपने शहर में इधरउधर होते तो आशंकित हो उठते. कहां हो, क्या कर रहे हो? जैसे दोनों के सवालजवाब का आदानप्रदान होता तो उन्हें चैन मिलता. दोनों का प्यार चरम पर था. दिनकर के साथ और उस की हौसला अफजाई से सरिता में निखार आता चला गया. उस ने अपने पति विजय को भी संभाला लेकिन दिनकर से वह बहुत प्यार करती थी.

ये भी पढ़ें- अपने अपने शिखर: भाग-1

विजय का व्यवहार सरिता के प्रति धीरेधीरे ठीक होता जा रहा था, लेकिन दिनकर कविता से दूर होता जा रहा था. कविता का व्यवहार दिनकर के प्रति इस कदर रूखा और बदतमीजी वाला हो गया था कि दिनकर का जीना दूभर हो गया था. इस बीच दिनकर के बेटे की शादी भी हो गई. बहुत समझदार और सुशील बहू पा कर दिनकर ये उम्मीदें करने लगा कि कविता में कुछ सुधार हो जाएगा, लेकिन सारी उम्मीदें सिर्फ ख्वाब बन कर रह गईं. बहू ने पुत्र के रूप में नया वारिस भी दे दिया. दिनकर और सरिता के अनाम रिश्तों को 15 साल होने जा रहे थे कि अचानक सरिता के व्यवहार में परिवर्तन आ गया. वह दिनकर को कम तो विजय को ज्यादा वक्त देने लगी. सरिता के इस तरह के व्यवहार से दिनकर विचलित हो गया. उसे लगा कि सरिता उस के साथ धोखा कर रही है. साथसाथ जीनेमरने की कसम खाने वाली सरिता क्यों बदल रही थी यह बात दिनकर समझ नहीं पा रहा था. वह स्वयं को अकेला महसूस करता. कविता तो उस की हो नहीं पाई. अब सरिता भी साथ छोड़ने की ओर कदम बढ़ा रही थी.

सरिता ने आखिर वह बात कह दी जो दिनकर ने कभी सोची ही नहीं थी, ‘‘मुझे भूल जाइए दिनकर. मैं आप का साथ नहीं दे सकती.’’

‘‘पर सरिता मैं कहां जाऊं, क्या करूं?’’ दिनकर ने रुंधे गले से कहा.

‘‘मुझे माफ कर दीजिए दिनकर, मेरे बच्चे अब बड़े हो गए हैं. मैं यह दोहरा जीवन नहीं जी पा रही.’’

‘‘मुझे किस बात की सजा दे रही हो सरिता? मुझ में अचानक क्या कमी आ गई?’’

‘‘आप में कोई कमी नहीं दिनकरजी. मैं ने आप से ही जीना सीखा है. आज जो भी हूं आप की वजह से हूं,’’ कहते हुए सरिता की आंखें भर आईं.

‘‘हमारा रिश्ता इतने सालों से चल रहा है तो बाकी जिंदगी भी कट जाएगी, सरिता.’’

‘‘नहीं दिनकर, हमारे रिश्ते का कोई नाम नहीं है. यह सामाजिक और कानूनी दोनों रूप से ठीक नहीं है.’’

‘‘इस से क्या होता है सरिता, हम कौन सा किसी को नुकसान पहुंचा रहे हैं?’’

‘‘नहीं अब नहीं चलेगा. अब तक हम दुनिया की नजरों में नहीं आए तो इस का मतलब यह नहीं कि चोरीछिपे जो कर रहे हैं कभी लोग समझ नहीं पाएंगे,’’ सरिता ने सख्त लहजे में कहा तो दिनकर को लगा उस के साथ बहुत बड़ा धोखा कर रही है सरिता. उस को गहरा धक्का लगा.

‘‘तो अब तक तुम जो मेरे साथ रहीं वह वैध था? तब समाज का डर नहीं लगा तुम्हें? अब तुम्हारा पति ठीक हो गया तो तुम बदल रही हो,’’ चिल्ला पड़ा दिनकर. गुस्से से लाल हो गया उस का चेहरा.

सरिता भी कम न थी. बोली, ‘‘तो जबरदस्ती का प्यार करोगे क्या? जो चीज संभव नहीं उस की कोशिश मत करो.’’

सरिता का बदला रंग देख कर दिनकर डिप्रैस हो गया. एक ही औरत के कई रंग देख लिए थे उस ने. प्यार में मिले आघात से वह मानसिक संतुलन खो बैठा. कामकाज छोड़ दिया. रात को नींद आनी बंद हो गई. अजीब सी बातें और हरकतें करने लगा. दिन में बड़बड़ाने लगा. हर किसी को मारने दौड़ता. बातबात पर गुस्सा और आपे से बाहर होने लगा. और एक दिन ऐसी स्थिति आई कि वह हिंसक हो उठा. कविता से किसी बात पर कहासुनी हो गई तो बजाय शांत करने के कविता ने उसे और भड़का दिया. तब कोई तीखी चीज ले कर दिनकर ने कविता पर हमला करना चाहता तो बेटे ने बड़ी मुश्किल से काबू किया. उसे तुरंत डाक्टर के पास ले जाया गया. डाक्टर ने बताया कि दिनकर को किसी बात से गहरा मानसिक आघात लगा है. इसे मैंटल हौस्पिटल में इलाज की जरूरत है. इलाज लंबा भी चल सकता है. तब तय हुआ कि अपने शहर के बजाय आगरा हौस्पिटल में इलाज लेना बेहतर होगा. आज हौस्पिटल से निकले जिंदगी के 50 वसंत देख चुके दिनकर के जीवन की एक नई शुरुआत होने जा रही थी. वह अपनी पिछली जिंदगी भूल कर कविता के साथ नई जिंदगी गुजारने को तैयार था.

ये भी पढ़ें- टेढ़ा है पर मेरा है भाग-2

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें