खाएं ये 4 फूड और झुर्रियों से रहें हमेशा दूर…

बढ़ती उम्र में भी खूबसूरत दिखना सबको अच्छा लगता है. पर जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, आपकी त्वचा लूज होती जाती है और चेहरें पर फाइन लाइन यानी झुर्रियां आ जाती हैं. पर अगर आप बढ़ती उम्र में भी जवान दिखना चाहते हैं, तो वैज्ञानिकों ने आपके सवाल का जवाब ढूंढ लिया हैं.

वैज्ञानिकों ने एक प्रोटीन की पहचान की है जो स्किन सेल्स को बढ़ाती है, जो आपके स्किन टिशूज को फिट रखने के लिए ममद करती है. यह प्रोटीन कमजोर कोशिकाओं को मिटाता है.

ये भी पढ़ें- जाने क्यूं हार्ट अटैक से अलग है कार्डियक अरेस्ट

प्रोटीन हैं आपके लिए वरदान

प्रोटीन आपकी त्वचा को युवा बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, इसलिए प्रोटीन से भरे आहार का सेवन करना महत्वपूर्ण है. यहां, 4 फूड आइटम्स हैं जिन्हें आपको अपने खाने में शामिल करना चाहिए ताकि आप अपनी फाइन लाइन यानी झुर्रियां को कम कर सके.

ये भी पढ़ें- बिजी लाइफस्टाइल में ये 4 टिप्स आपको रखेंगी सेहतमंद

1.साल्‍मन मछली का करें सेवन

यह सबसे आम समुद्री साल्मन मछली है. जो आमतौर पर  सभी मांसाहारी लोग खाते हैं. ओमेगा-3 फैटी एसिड के साथ समृद्ध होने के अलावा, यह चिकन के बराबर प्रोटीन और न्यूट्रिएंट्स को आपके शरीर में पहुंचाता है. 100 ग्राम साल्‍मन में 20 ग्राम प्रोटीन होता है.

2.कोलेजन प्रोटीन है फायदेमंद

कोलेजन आपके शरीर के अंदर एक प्रोटीन है जो आपकी त्वचा को संरचना प्रदान करता है. इसमें प्रोलिन, ग्लाइसिन और आर्जिनिन जैसे अमीनो एसिड होते हैं जो आपके शरीर के कनेक्टिव टिशूज को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं. आप बाजार में आसानी से इस प्रोटीन के पूरक पा सकते हैं, लेकिन इस प्रोटीन का सेवन करने से पहले आपको एक फूड स्पेशलिस्ट से राय लेनी चाहिए.

ये भी पढ़ें- क्या आप जानते हैं सेहत से जुड़े इन 5 मिथों का सच

3.ड्राई फ्रूट खाना है जरुरी

बादाम और अखरोट जैसे ड्राई फ्रूट प्रोटीन का एक बहुत सोर्स हैं. अगर आप 50 ग्राम बादाम का खाते हैं, तो आपको 10 ग्राम प्रोटीन मिलेगा. इसके अलावा, बादाम आपके कोलेस्ट्रौल के स्तर को मैनटेन करने में मदद करता हैं जो हृदय से संबंधित समस्याओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

ये भी पढ़ें- वर्ल्ड थायराइड डे: जाने क्यों होता है थायराइड

4.एवोकाडो है स्किन के लिए असरकारक

एवोकाडो को सुपरफूड माना जाता है जो फाइटोकेमिकल्स और अन्य महत्वपूर्ण पोषक तत्वों को ले जाता है, जो आपको उम्र बढ़ने में मदद करते हैं. एवोकाडोस 73% पानी, 15% वसा, 8.5% कार्बोहाइड्रेट और 2% प्रोटीन से बना है.

अलग-अलग त्वचा के लिए अपनाए ये बेस्ट स्किन केयर रूटीन

त्वचा की देखभाल करना हर महिला के लिए एक मुश्किल टास्क है. हम अपने स्किन पर होने वाले नुकसान के बारे में जानते हैं लेकिन फिर भी कुछ नहीं करते हैं. फ्लौलेस स्किन का सपना तो हर किसी का होता है लेकिन इस स्किन को पाने के पीछे का सीक्रेट, स्किन केयर टिप्स होते हैं, जो अलग-अलग स्किन  टाइप के लिए अलग-अलग होते हैं.

बेस्ट स्किन टिप्स वे होते हैं, जहां आप इस बात पर ध्यान देती हैं कि आपकी स्किन की जरूरत क्या है और आप उसी के अनुसार प्रोडक्ट का इस्तेमाल करती हैं.

डेली स्किन केयर की तरफ बढ़ने से पहले. अपनी स्किन टाइप के बारे में जानना बेहद जरूरी है. इसलिए हम आप को यहां बता रहे हैं कुछ ऐसे तरीके जिससे आप अपनी स्किन टाइप को आसानी से पहचान सकती हैं.

पहला तरीका…

कई महिलाओं को ये बात मालूम नहीं होती कि रोमछिद्र (पोर्स) हमारी स्किन के सब से बड़े सूचक होते हैं. इन के बंद होने का आकार और पोर्स का साइज आप को बताता हैं कि आपका स्किन रूटीन काम कर रहा है या नहीं.

ड्राई स्किन : आमतौर पर छोटे रोमछिद्र.

औयली स्किन : बड़े रोमछिद्र जो बड़ी आसानी से बंद हो जाते हैं.

कौम्बिनेशन स्किन : नाक के पास बड़े रोमछिद्र लेकिन चीक्स के पास छोटे ना दिखने वाले रोमछिद्र होते हैं.

सैंसेटिव स्किन : बड़े छिद्र लेकिन एक उत्तेजक प्रक्रिया के रूप में.

नौरमल स्किन : छोटे छिद्र जोकि बंद नहीं होते.

दूसरा तरीका…

अपनी स्किन टाइप का पता लगाने का एक बेहतरीन तरीका ये है कि क्लिंजिंग के फौरन बाद ध्यान दीजिए कि आप की स्किन कैसा महसूस करती है

ड्राई स्किन : धोने के तुरंत बाद आप को स्किन में कसाव और डिहाइड्रैट महसूस होता है.

औयली स्किन : आप को चेहरा साफ और औयल फ्री लगता है लेकिन लंबे समय तक रहता नहीं है.

कौंबिनेशन स्किन : स्किन का टी जोन फ्रेश लगता है लेकिन गाल ड्राय होते हैं

सैंसेटिव स्किन : क्लींजर के बाद आप को खुजली और इरिटेशन हो सकती है.

नौरमल स्किन : धोने के बाद त्वचा फ्रेश और साफ लगती है इसमें कोई ड्रायनेस नहीं होती. 

तीसरा तरीका…

डेली स्किन केयर रूटीन में मौइश्चराइज की इंपोरटेंस आप को आप की स्किन टाइप के बारे में काफी कुछ कहती है.

ड्राई स्किन : आपको अपनी स्किन को मौइश्चराइज करने की जरूरत है ताकि उस पर मौसम का असर न पड़े.

औयली स्किन : आप को स्किन बारबार मौइश्चराइज करने की जरूरत नहीं है ऐसा करने पर आप की स्किन बेहद औयली हो जाएगी.

कौंबिनेशन स्किन : अपने चेहरे को मौइश्चराइज करें. लेकिन टी जोन एरिया को मौइश्चराइज करने की जरूरत नहीं है.

सैंसेटिव स्किन : आप को लगातार नमी शामिल करने की जरूरत है लेकिन तभी जब आप को सही प्रौडक्ट मिले.

नौर्मल स्किन : अपने चेहरे को दिन में एक बार मौइश्चराइज करना काफी है.

चौथा तरीका…

ब्लौटिंग पेपर के जरीए अपनी स्किन टाइप को पहचानना सब से स्मार्ट तरीकों में से एक है. सुबह उठने के तुरंत बाद ही इस टेस्ट को करें. सोने से पहले अपने चेहरे को धोएं और चेहरे पर कुछ ना लगाएं. अगली सुबह ब्लौटिंग पेपर को अपने चेहरे पर रखकर देखें कि किस हिस्से पर औयल हैं और कौन सा हिस्सा औयली नहीं है.

ड्राई स्किन : ब्लोटिंग पेपर पर थोड़ा औयल होगा या नहीं होगा.

औयली स्किन : ब्लोटिंग पेपर पर अधिक मात्रा में औयल होगा.

कौंबिनेशन स्किन : पेपर के कुछ भाग पर औयल होगा जबकि कुछ पर नहीं होगा.

सैंसेटिव स्किन : ब्लोटिंग पेपर पर थोड़ा सा औयल होगा या बिल्कुल नहीं  होगा.

नौर्मल स्किन : ब्लोटिंग पेपर पर नौर्मल मात्रा में औयल है.

आइए जानें कुछ खास स्किन केयर रूटीन और टिप्स…

  1. ड्राई स्किन :

इस प्रकार की स्किन के कुछ खास लक्षण हैं, जिस में खिंचाव, रूखापन, फ्लेकिंग और स्केलिंग शामिल हैं. कोरनियोस लेयर में लगातार मौइश्चराइजर की कमी के कारण आप की स्किन खासतौर से चीक्स और आंखों के आसपास से बेहद ही बेजान लगती है. मौसम, कौस्मेटिक और दवाइयों के अधिक यूज से त्वचा में लचीलापन आ जाता है, जिस के कारण आप के चेहरे पर झुर्रियां पड़ने लगती हैं. आइए जानते हैं ड्राई स्किन के लिए डेली स्किन केयर रूटीन और डेली प्रोडक्ट.

यहां से खरीदें…

क्लिंजर : O3 + हाइड्रैटिंग एंड सूदिंग फेश वाश

टोनर : फेस शॉप चिया सीड सूदिंग मिस्ट टोनर

मौइश्चराइजर : सीटाफिल डेलीएडवांस अल्ट्रा हाइड्रेटिंग लोशन

सनस्क्रीन : न्यूट्रोजेना अल्ट्राशीअर ड्राई टच सनब्लोक एसपीएफ 50+

नाइट क्रीम : कामा आयुर्वेद रिजूवनैटिंग एंड ब्राइटनिंग आयुर्वेदिक नाइट क्रीम

आई क्रीम : सैंट बोटानिका अंडर आई जैल

naykaa

 

हर हफ्ते यूज करें ये प्रोडक्ट…

स्क्रब: O3 + मिल्क स्क्रब ड्राई स्किन डरमल जोन

मास्क : डियर पैकर लैब कलेक्शन मास्क : एंटी ड्राई एंड हाइड्रेटिंग 

  1. औयली स्किन :

इस स्किन की खासियत है कि अति सक्रिय सिबेशस ग्लैंड के कारण इस की लेयर पर लिपिड की मात्रा बढ़ जाती है. हालांकि औयली स्किन बेहद चमकदार होती है, इस प्रकार की स्किन पर बड़े छिद्र होने के कारण ब्लैकहेड्स, वाइटहेड्स और दागधब्बे जैसी समस्या होती है. इसलिए औयली स्किन की देखभाल के लिए आप को औयल फ्री प्रौडक्ट की जरूरत होती है. आइए जानते हैं औयली स्किन के लिए डेली स्किन केयर रूटीन और प्रोडक्ट…

क्लिंजर :  किल्स अल्ट्रा फेशियल औयल फ्री क्लिंजर

स्क्रब : न्यूट्रोजैना डीप क्लीन ब्लैक हेड एलिमिनेटिंग डेली स्क्रब

टोनर : फैब इंडिया टी ट्री स्किन टोनर

मौइश्चराइजर : प्लम ग्रीन टी मैटीफाइंग मौइश्चराइजर

सनस्क्रीन : ROC सोलेइल-प्रोटेक्ट एंटी शाइन मैटीफाइंग फ्लूयिड एसपीएफ 30 

नाइट क्रीम :  प्लम ग्रीन टी रीन्यूड क्लरेटी नाइट जैल

3-32

हर हफ्ते यूज करें ये प्रोडक्ट…

मास्क : फेस शौप द सौल्यूशन पोर केयर फेश मास्क  

3. कौंबिनेशन स्किन :

जब आप के चेहरे का कुछ हिस्सा औयली और कुछ हिस्सा ड्राई लगे तो समझ जाइए कि आप की कौंबिनेशन स्किन है. आप के गाल और आंखों के नीचे की स्किन ड्राई होंगीं, लेकिन आप का टी जोन, जिस में आप का माथा, नाक, और चिन आती है वह औयली होंगी, इसलिए इस प्रकार की स्किन के लिए आप को अलग तरह की देखभाल की जरूरत पड़ती है. आइए जानते हैं कौंबिनेशन स्किन के लिए डेली स्किन केयर रूटीन और सही प्रोडक्ट.

क्लिंजर: एलिजाबेथ आर्डेन विजिबल डिफरेंस स्किन बैलेंसिंग एक्सफोलिएटिंग क्लिंजर

टोनर : लैक्मी ऐब्सल्यूट पोर फिक्स टोनर

मौइश्चराइजर : न्यूट्रोजैना औयल फ्री मौइश्चराइजर एसपीएफ 15

नाइट क्रीम : हिमालय हर्बल  रिवाइटलायजिंग नाईट क्रीम

आई क्रीम :  इनिसफ्री द ग्रीन टी सीड आई क्रीम

4-3

 

हर हफ्ते यूज करें ये प्रोडक्ट…

स्क्रब : टीजोरी अरोमटिक फैनेल फेस स्क्रब

मास्क : इनिसफ्री स्किन रीसैट पीलिंग मास्क :कौंबिनेशन

4. सैंसिटिव स्किन :

इस प्रकार की स्किन के लिए ध्यान से सोच समझ कर ही कोई प्रौडक्ट का इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि ऐसी स्किन पर एलर्जी, त्वचा के विकार आदि का असर जल्दी ही होता है. लालपन, खुजली, जलन आदि इस के लक्षण हैं. इसलिए सैंसिटिव स्किन के लिए अच्छे प्रौडक्ट का इस्तेमाल करें. आइए जानते हैं सैंसिटिव स्किन के लिए डेली स्किन केयर रूटीन और प्रोडक्ट.

क्लिंजर: कामा आयुवेद सैंसिटिव स्किन क्लिंजिंग फौम

टोनर: एवेने थर्मल स्प्रिंग वाटर 

मौइश्चराइजर: डर्मालोजिका सुपर सैंसिटिव शील्ड एसपीएफ 30

सनस्क्रीन: काया सन डिफेंस सनस्क्रीन फौर सैंसिटिव स्किन-सन केयर एसपीएफ 15

नाइट जैल: O3 + एलो डर्मा हाइड्रेटिंग जैल फौर सैंसिटिव स्किन

6-1

 

हर हफ्ते यूज करें ये प्रोडक्ट…

स्क्रब: नेटियो अरोमाथेरेपी जेंटल फेशियल स्क्रब

मास्क : सीसौल डेड सी मौरोक्कन अर्गन हाइड्रेटिंग मास्क फौर ड्राई एंड सैंसिटिव स्किन

5. नौर्मल स्किन :

इसे सब से हेल्दी स्किन माना गया है. स्मूथ टैक्सचर और फाइन पोर्स इस के लक्षण हैं. इस स्किन पर आप को कोई ग्रीसी पैचेस नजर नहीं आएंगे. यह सीबम प्रौडक्शन और मौइश्चर कंटैंट के साथ बहुत अच्छे से बैलेंस होती है. कम उम्र की लड़कियों की स्किन ऐसी ही होती है. इस तरह की स्किन को बहुत ज्यादा देखभाल की जरूरत नहीं होती है. आइए जानते हैं नौर्मल स्किन के लिए डेली स्किन केयर रूटीन.

नौर्मल स्किन के लिए इन प्रौडक्ट को जरूर आजमाएं…

क्लिंजर: O3+ डीप कंसर्न 1 ब्राइटन अप क्लिंजर नौर्मल स्किन

टोनर : प्लम ग्रीन टी एल्कोहल फ्री टोनर

मौइश्चराइजर : लैक्टो कैलेमाइन औयल बैलेंस लोशन (कौंबिनेशन टू नौर्मल स्किन)

सनस्क्रीन : अवेन वैरी हाई प्रोटेक्शन सनस्क्रीन एमल्शन एसपीएफ 50+

हर हफ्ते यूज करें ये प्रोडक्ट…

स्क्रब :  हैप्पली अनमैरिड फेश स्क्रब: ड्राई टू नौर्मल

मास्क : फौरस्ट एशैंसियलस फेशियल उबटन मुल्तानी मिट्टी

स्किन से जुड़े कुछ अहम सवाल…

क्या समय के साथ त्वचा का प्रकार बदलता है? 

हार्मोंनल चैंजेंस, बाहरी प्रदूषण, लाइफ स्टाइल और मौसम आपकी स्किन को नुकसान पहुंचा सकते हैं.  इसलिए जरूरी है कि आप समय समय पर अपनी स्किन की देखभाल करने का तरीका बदले. आप जिन प्रोक्ट्स को इस्तेमाल कर रही हैं उनका आकलन करें और अगर आपको लगे कि वो असरदार  नहीं है तो आप उन्हें बदल भी सकती हैं. मौसम के हिसाब से ऐसे प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करना चाहिए जो आपकी त्वचा के अनुकूल हो.

मेरी स्किन केयर रूटीन के लिए कोई बेहद खास स्टेप जो दूसरे से ज्यादा अहम हो?

बेस्ट स्किन केयर वह होता है जब आप हर दिन अच्छे से फौलो करते हैं. कुछ खास तरह की स्किन के लिए कई स्टेप्स ज्यादा महत्तवपूर्ण होते हैं जैसे कि ड्राई स्किन के लिए मौइश्चराइजेशन जरूरी है, वैसे ही जब औयली स्किन की बात आती है, तो उस के लिए टोनिंग को नकारा नहीं जा सकता है.

क्या मैं ऐसे प्रोडक्ट्स यूज कर सकती हूं जो डिफरेंट स्किन टाइप के लिए बने हो ?

कभी-कभी मौसम के अनुसार आपकी स्किन का टाइप बदल जाता है, जैसे की आपकी स्किन औयली है लेकिन सरदियों में ड्राई और पैची हो जाती हैं. ऐसे में आप अपनी स्किन की जरूरतों को समझे और उसे पूरा करते हुए एक पोषण से भरपूर फौर्मूला इस्तेमाल करें. जो आप की स्किन को सूट करे.

 

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें