नेताजी की नौकरी

शोभा को आखिरकार ठौर मिल गई. आज उसे शहर के नेताजी के कार्यालय में एक छोटी सी नौकरी मिल गई, वह बहुत खुश थी.

सहेली रश्मि के प्रति वह हृदय से कृतज्ञ थी, मित्रता अगर निभाई तो रश्मि ने. अन्यथा आज के जमाने में कौन किसके साथ आता है. सबके अपने-अपने स्वार्थ. अभी 17 वे वर्ष में ही शोभा ने कदम रखा है, मगर मानो दुनिया देख ली है . पग पग पर आंखों से खा जाने वाले लोग, अपने ही अपनों का खून पीने वाले लोग. ओह… यह दुनिया कितनी सुंदर और कितनी बर्बर है. यह सोचते शोभा की आंखें फटी की फटी रह जाती हैं.

पिता की अचानक मृत्यु के बाद घर परिवार का सारा बोझ उसके नाजुक कंधों पर आ गया था. मां और दो छोटे भाई की देखरेख, पालन पोषण उसी का जिम्मा हो गया था. जिसे उसने सहज ही स्वीकार कर लिया . अभी उसकी पढ़ाई अधूरी थी, बारहवीं कक्षा की परीक्षा दी है. आज के जमाने में 12वीं की शिक्षा का क्या महत्व है, उसे कौन देगा सरकारी नौकरी ? वह एक कपड़े वाले सेठ के यहां एक दिन पहुंची और नौकरी की गुजारिश की. श्रीराम क्लास सेंटर शहर की पुरानी कपड़ों की दुकान है.उसके पिता अक्सर यही से कपड़े क्रय किया करते थे.

शोभा को यही दुकान और उसका मालिक सबसे पहले नौकरी के लिए याद आया. एक दिन अचानक वह दुकान पर पहुंची. शोभा को स्मरण है,जब वह पिता के साथ इस दुकान पर खरीददारी के लिए आती, तो सेठ जी कैसे आत्मीयता से बातचीत करते थे. मानो हम उसके परिवार के सदस्य हैं चाय, पानी, नाश्ता सब कुछ सेठ जी मंगा लेते थे.

ना ना… करने के बाद भी वह आत्मीयता से, उसके पिता के सामने यह सब प्रस्तुत करते. और हो हो कर हंसते हुए कहते-” रामनाथ जी ! जीवन में प्रेम ही तो सब कुछ है. आप हमारी दुकान पर आए हो, अहो भाग्य हमारा. क्या आपकी हम इतनी सेवा भी नहीं कर सकते फिर बिटिया रानी भी साथ आई है भूख लगी होगी बच्ची है…”

शोभा सब कुछ स्मरण करती हुई बड़े विश्वास के साथ श्री राम क्लॉथ पहुंची. सेठ जी से मिली और याद दिलाया कि वह अपने पिता के साथ अक्सर कपड़े लेने आया करती थी. सेठ जी बड़े खुश हुए,मगर जैसे ही शोभा ने नौकरी की बात कही उनका रंग ही बदल गया. चाय पानी तो क्या शोभा को बैठने के लिए भी नहीं कहा . वह हैरान परेशान घर लौट आई उस दिन मानो जीवन की सच्चाई से शोभा का पहला सामना हुआ था. इसके बाद एक-एक करके वह सभी परिचितों के पास नौकरी मांगने गई, मगर कोई उसे आठ सौ कोई हजार रुपए की नौकरी ऑफर करता. वह उसे सहज भाव से इंकार कर देती. आज की इस महंगाई में भला हजार रुपए मे क्या होगा ? उसका छोटा सा परिवार आठ सौ, हजार रुपये की नौकरी में नहीं चल सकता यह वह जानती थी.

ऐसे में रश्मि ने उसे नेताजी के दाएं हाथ सुरेंद्र भैया से मिलवाया .नेताजी का बड़ा नाम और काम था. शहर में नेताजी की तूती बोलती थी. करोड़ों के ठेके चलते थे और आगामी समय में आप विधायक बनने का ख्वाब देख रहे थे. रश्मि ने मानो उस पर बड़ा उपकार किया उसे सीधे छ: हजार रूपय की नौकरी नेता जी के यहां मिल गई . वह बहुत बहुत खुश थी . उसके मन में नेताजी के प्रति श्रद्धा उमड़ पड़ी. चाहे जैसे भी हो, ठेके ले, भ्रष्टाचार करें मगर उसके जैसे कितने गरीबों का भला भी तो अप्रत्यक्ष कर ही रहे हैं . ईश्वर नेताजी का भला करें. उसने खुशी-खुशी मां को बताया और दूसरे दिन सज संवर कर दफ्तर पहुंच गई . दिनभर आराम से एयर कंडीशन रूम में बैठी रही कुर्सियां साफ की कुछ फाइलें इधर उधर पलटी और लोगों के आने-जाने को रजिस्टर में नोट करती रही . शाम के छ: बजने पर उसने सुरेंद्र भैया की और देखा और कहा, -“मैं अब चलती हूँ .”

सुरेंद्र नेताजी के दाएं हाथ के रूप में जाने जाते हैं. वह मुस्कुरा कर बोला – “शोभा ! कैसा है काम….! कोई दिक्कत परेशानी हो तो बताओ….नहीं तो इससे भी आराम तलब काम भी है हमारे पास !”

शोभा सुरेंद्र की आंखों का भाव पढ़ नहीं पाई उसने सहजता से कहा- “भैया ! मैं यही ठीक हूं ।”

-” देखो ! भैया नहीं, सर कहां करो ।”सुरेंद्र बोला और उसके इकदम पास पहुंच गया. शोभा घबराई. मगर दरवाजा बंद हो चुका था सुरेंद्र ने कहा- “देखो ! तुम्हें छ: हजार की नौकरी दी है यह तुम्हें नहीं तुम्हारी सूरत को देख कर दी है ,यह दस हजार हो जाएगी. मैं जो कहूं वह तुम्हें मंजूर करना पड़ेगा.”

शोभा घबरा गई, मगर उसने दुनिया देखी थी.उसकी निगाहें नीचे हो गई.वह अब दुनिया के सामने हाथ पसारे नौकरी की भीख मांगने को तैयार नहीं थी. उस दिन से शोभा नेताजी के ऑफिस की शोभा बन गई. आने वाले अति वरिष्ठजन के आगे बिछ जाना उसकी नियती बन गई.जिसे उसने खुशी-खुशी स्वीकार कर लिया.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें