Raksha Bandhan 2020: प्रैगनैंसी में मेकअप के साइड इफैक्ट्स

खूबसूरत दिखने के लिए मेकअप करना जरूरी है, मगर प्रैगनैंसी यानी गर्भावस्था के दौरान मेकअप करने में कुछ सावधानियां बरतने की जरूरत होती है, क्योंकि इस समय आप को अपना सब से ज्यादा खयाल रखने की जरूरत होती है. इस समय आप किसी भी तरह का रिस्क नहीं ले सकती हैं. इस का कारण यह है कि ब्यूटी प्रोडक्ट्स बनाने में कई ऐसी चीजों का इस्तेमाल किया जाता है, जो आप की त्वचा से अंदर जा कर आप के पेट में पल रहे बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती हैं.

प्रैगनैंसी के दौरान इन सौंदर्य प्रसाधनों का प्रयोग करने से बचना चाहिए:

डियो या परफ्यूम: प्रैगनैंसी के दौरान ज्यादा खुशबू वाले प्रोडक्ट्स जैसेकि डियो, परफ्यूम, रूम फ्रैशनर आदि का इस्तेमाल कम करें या फिर करें ही नहीं. मार्केट में मौजूद ज्यादातर डियो में हानिकारक कैमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है, जो त्वचा के अंदर प्रवेश कर आप या आप के होने वाले बच्चे को नुकसान पहुंचा सकते हैं. इन से शिशु के हारमोंस में गड़बड़ी पैदा हो सकती है.

लिपस्टिक: इस का इस्तेमाल अमूमन हर महिला और युवती करती है. लेकिन प्रैगनैंट महिला को लिपस्टिक लगाने से बचना चाहिए, क्योंकि यह मां और होने वाले बच्चे दोनों के लिए बेहतर होगा. लिपस्टिक में लेड होता है, जो खानेपीने के दौरान शरीर के अंदर चला जाता है. शरीर में लेड भ्रूण के विकास में बाधा बन सकता है या उस में और कई परेशानियां पैदा कर सकता है. अत: इस के प्रयोग से बचें.

टैटू: टैटू आजकल युवा लड़केलड़कियों में काफी ट्रैंडी है. प्रैगनैंसी के समय या उस की प्लानिंग कर रही हैं, तो टैटू न गुदवाएं वरना वह आप के लिए खतरनाक हो सकता है, क्योंकि टैटू कई बार इन्फैक्शन का कारण भी बनता है. टैटू बनाने में प्रयोग किए जाने वाले कैमिकल्स भी त्वचा के लिए सुरक्षित नहीं माने जाते हैं. इसलिए इस दौरान टैटू बनवाने से परहेज करें.

ये  भी पढ़ें- Raksha Bandhan 2020: टिप्स फोर सैक्सी लैग्स

सनस्क्रीन मौइश्चराइजर: अमूमन महिलाएं सनस्क्रीन लगाए बिना बाहर नहीं निकलतीं, मगर प्रैगनैंट महिला इस का प्रयोग कम करे या हो सके तो बाहर निकलना कम कर दे.  ज्यादातर सनस्क्रीन में रैटिनील पामिटेट या विटामिन पामिटेट होता है. ये तत्त्व धूप के संपर्क में आने पर त्वचा से रिएक्शन करते हैं. लंबे समय तक इस्तेमाल करने से कैंसर का कारण भी बनते हैं. इसलिए गर्भावस्था के दौरान सनस्क्रीन के इस्तेमाल से पहले चैक कर लें कि आप जो सनस्क्रीन इस्तेमाल करने जा रही हैं उस में ये दोनों तत्त्व मौजूद तो नहीं हैं.

हेयर रिमूवर क्रीम: ऐसे तो अभी तक यह सिद्ध नहीं हुआ है कि प्रैगनैंसी के समय हेयर रिमूवर क्रीम इस्तेमाल नहीं करनी चाहिए, पर यह ध्यान रखना जरूरी है कि इस में थियोग्लाइकोलिक ऐसिड पाया जाता है, जो गर्भावस्था में हानिकारक साबित हो सकता है. गर्भावस्था के दौरान शरीर में कई तरह के हारमोंस परिवर्तन होते हैं, जिन के कारण कैमिकल युक्त हेयर रिमूविंग क्रीम का इस्तेमाल करने से त्वचा में ऐलर्जी भी हो सकती है और होने वाले बच्चे को भी नुकसान पहुंच सकता है. इसलिए खुद की और होने वाले बच्चे की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इस का इस्तेमाल न करें. इस की जगह किसी नैचुरल हेयर रिमूवर क्रीम का इस्तेमाल कर सकती हैं.

नेल केयर: प्रैगनैंसी के दौरान नेल प्रोडक्ट्स का प्रयोग भी न करें, क्योंकि इन के अंदर मौजूद जहरीले पदार्थ आप के होने वाले बच्चे को नुकसान पहुंचा सकते हैं. एक शोध में पाया गया है कि नेल केयर प्रोडक्ट्स के निर्माण से जुड़ी कंपनियों में काम करने वाली महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ा. कई महिलाओं का भू्रण विकास धीमा रहा तो कुछ में जन्म के बाद भी बच्चे के विकास में धीमी गति पाई गई.

फेयरनैस क्रीम: अगर आप किसी भी फेयरनैस क्रीम का प्रयोग करती हैं, तो इस दौैरान इस के प्रयोग से बचें, क्योंकि इस का प्रयोग आप और होने वाले बच्चे दोनों के लिए खतरनाक हो सकता है. इस में हाइड्रोक्यूनोन नाम का एक कैमिकल मिलाया जाता है जो जन्म से पहले शिशु के ऊपर गलत प्रभाव डाल सकता है, इसलिए गोरा करने वाली क्रीम प्रैगनैंसी के दौरान बिलकुल यूज न करें.

ये भी पढ़ें- Raksha Bandhan 2020: डस्की स्किन मेकअप टिप्स

एक शोध के मुताबिक जो महिलाएं प्रैगनैंसी के दौरान बहुत अधिक मेकअप का इस्तेमाल करती हैं, उन में समय से पहले प्रसव होने की आशंका बढ़ जाती है यानी प्रीमैच्योर बेबी. इस के अलावा इस से शिशु के वजन और आकार पर भी असर पड़ता है.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें