समर में स्किन डार्क होने से परेशान हूं, मैं क्या करुं?

सवाल-

कहते हैं चेहरे पर बाल अगर डार्क हों तो ब्लीच करानी चाहिए. मेरे चेहरे पर बाल बिलकुल नहीं हैं पर मुझे अपनी स्किन थोड़ी डार्क नजर आने लग गई है. तो क्या मैं ब्लीच करा सकती हूं?

जवाब-

डार्क स्किन हो या बाल दोनों को ब्लीच किया जा सकता है और दोनों का रंग हलका किया जा सकता है. अगर चेहरे पर बाल नहीं हैं तो ब्लीच करते वक्त थोड़ा ज्यादा ध्यान ध्यान देने की जरूरत होती है. ब्लीच बहुत सौफ्ट और लाइट होनी चाहिए. जल्द ही रंग में फर्क आ जाता है.

ये भी पढ़ें- गरमियों में भी एड़ियां फटने से परेशान हूं, मैं क्या करुं?

सवाल-

मैं वर्किंग लेडी हूं और रोज सुबहशाम धूप का सामना करती हूं, जिस से मेरा रंग काफी डार्क होता जा रहा है. कोई घरेलू उपाय बताएं जिस से कि मैं अपना रंग साफ कर सकूं?

जवाब-

सब से पहले मैं सज्जैस्ट करूंगी कि घर से निकलने से पहले हमेशा सनस्क्रीन लगा कर ही निकलें. अगर आप धूप में बहुत ज्यादा देर रहती हैं तो 3 घंटे बाद सनस्क्रीन दोबारा भी लगाएं क्योंकि 30 या 40 एसपीएफ का सनस्क्रीन 3-4 घंटे काम करता है.

अगर आप ज्यादा देर धूप में रहें तो दोबारा सनस्क्रीन लगाना बहुत जरूरी है. हो सके तो अंब्रेला का इस्तेमाल भी करें जो आप की स्किन को तो बचाएगा ही आप के बालों को भी सन के साइड इफैक्ट से बचाएगा. फेस की टैनिंग को खत्म करने के लिए गरमियों में ऐलोवेरा बहुत अच्छा काम करता है.

आप ऐलोवेरा का एक पत्ता ले लें. उस को धो कर नीचे से टेढ़ा काट कर 1/2 घंटे के लिए किसी गिलास में रख दें. उस में से पीले रंग का एक लिक्विड निकल जाएगा. उस के बाद उस को सैंटर से 1/2-1/2 कर के जैल को निकाल लें. इस जैल में कुछ बूंदें नीबू के रस की मिलाएं और कुछ ड्रौप्स शहद की मिला लें.

इस मिक्सर से फेस पर हर रोज रात को 2 मिनट मसाज करें और सुबह धो लें. ऐसा लगातार करने से सन टैनिंग का असर खत्म हो जाएगा और आप का रंग पहले जेसा गोरा हो जाएगा.

ये भी पढ़ें- चेहरे के रंग को गोरा करने के लिए क्या प्रौमिनैंट मेकअप सही है?

अगर आपकी भी ऐसी ही कोई समस्या है तो हमें इस ईमेल आईडी पर भेजें- submit.rachna@delhipress.biz   सब्जेक्ट में लिखे…  गृहशोभा-व्यक्तिगत समस्याएं/ Personal Problem

Summer Special: जानें क्या हैं सनस्क्रीन लगाने के चार फायदे

सनस्क्रीन हमारी स्किन के लिए बनाई गई ऐसी क्रीम है जो सूरज की पराबैंगनी किरणों से हमारी स्किन पर होने वाले नुकसान से बचाती है. लोग ज्यादातर सनस्क्रीन का इस्तेमाल गर्मियों के मौसम में करते हैं. जबकि हमारी स्किन को सूरज से हर समय बचाव की जरूरत होती है. इसलिए सनस्क्रीन का इस्तेमाल ना सिर्फ गर्मियों में बल्कि हर मौसम में करना चाहिए. सनस्क्रीन हमारी स्किन के लिए एक परत का काम करती है, जिससे की अल्ट्रा वायलेट किरणे हमारी स्किन को डैमेज नहीं कर पातीं. हमारी स्किन पर ऐसी परत का होना बहुत आवश्यक है. जब भी आप बाज़ार में सनस्क्रीन खरीदने जाएं, ध्यान रहे कि सनस्क्रीन में जितना ज़्यादा एसपीएफ यानी की सन प्रोटेक्टिंग फैक्टर होगा, आपकी सनस्क्रीन उतनी ही ज़्यादा प्रभावशाली होगी.

चलिए जानते हैं सनस्क्रीन लगाने के अन्य फायदों के बारे में –

1) टैनिंग से करे बचाव-

सूरज की खतरनाक किरणें से हमारी स्किन पर बहुत भारी नुकसान होता है. स्किन में टैनिंग होना भी अन्य नुकसानों में से एक है. टैनिंग की वजह से हमारे शरीर के कुछ हिस्से काले हो जाते हैं और कुछ अपने नेचरल कलर में ही रहते हैं जिसके कारण हमारा शरीर दो रंग का दिखने लगता है. टैनिंग का सबसे अच्छा इलाज है सनस्क्रीन. जब भी आप धूप में बाहर निकलें, तो शरीर के खुले हुए हिस्सों पर सनस्क्रीन लगा कर जाएं. इससे आप टैनिंग की समस्या से बचे रहेंगे.

ये भी पढ़ें- 5 Tips: ग्लोइंग स्किन के लिए मुल्तानी मिट्टी का इस तरह करें इस्तेमाल

2) स्किन को दे हेल्थी ग्लो-

सनस्क्रीन में एसपीएफ होने के साथ साथ कई तरह के प्रोटीन पाए जाते हैं जैसे की कॉलेजिन, केराटिन और इलास्टिन, जो की हमारी स्किन को हानिकारक किरणों से बचाने के साथ साथ स्किन को एक हेल्थी ग्लो भी देते हैं. इसलिए सनस्क्रीन लगाने से स्किन भी ग्लो करने लगती है.

3) एजिंग से बचाए-

अगर स्किन को धूप से प्रोटेक्ट ना किया जाए तो स्किन रूखी और बेजान होकर डैमेज होने लगती है जिसके कारण चेहरे पर फाइन लाइंस और झुरियां दिखाई पढ़ने लगती हैं. इसलिए स्किन को किसी भी प्रकार से डैमेज से बचाने के लिए सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना बहुत आवश्यक है. सनस्क्रीन स्किन के बाहर एक परत का काम करती है जिससे हमारी स्किन डैमेज नहीं होती और जवां नज़र आती है.

4) स्किन कैंसर से बचाए-

धूप में बिना प्रोटेक्शन के बाहर निकलने से स्किन डैमेज तो होती ही है लेकिन साथ ही स्किन कैंसर जैसे की मेलोनोमा होने की संभावना भी बढ़ जाती है. स्किन कैंसर से बचने के लिए सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना बहुत जरूरी है. सनस्क्रीन स्किन के बाहरी हिस्से पर एक ऐसी परत बना लेती है जिससे हमारी स्किन पर धूप की हानिकारक किरणों का कोई असर नही हो पाता.

ये भी पढ़ें- 5 टिप्स: होममेड तरीके से पाएं डार्क सर्कल से छुटकारा

5 टिप्स: सांवली स्किन का ऐसे रखें ख्याल

सांवली स्किन के नाम से ही हम भारतीय अपनी सुंदरता में कमी महसूस करने लगते हैं. कई महिलाएं तो सांवले रंग को लेकर कम्पैरिजन का शिकार हो जाती हैं, जबकि सांवला रंग जयादा आकर्षित करता है. अगर एक ब्यूटीशियन की नजर से देखा जाए तो हर तरह की रंगत खूबसूरत होती है. सिर्फ जरूरत है अपनी स्किन को पहचानने की और उसे संवारने की. आज हम आपको कैसे सांवली स्किन का ख्याल कैसे रखें…

1. सांवली स्किन की देखभाल है जरूरी

रोज सुबह नहाने से पहले 1 चम्मच कच्चा दूध, 1 चुटकी नमक, 2 बूंदें नीबू का रस व 2 बूंदें शहद डाल कर 5 मिनट तक चेहरे पर लगाएं. बाद में साफ पानी से चेहरा धो लें. हफ्ते में 2 बार चंदन व गुलाबजल का फेस पैक जरूर लगाएं. धूप में सांवली स्किन गोरी स्किन से ज्यादा प्रभावित होती है. इसलिए हमेशा सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें. किसी अच्छी कंपनी के वाइटनिंग फेस वाश से चेहरे को दिन में 2 बार जरूर धोएं. रात को सोते समय अपनी स्किन के अनुसार वाइटनिंग क्रीम लगाएं.

ये भी पढ़ें- 4 टिप्स: बालों में कलर कराते समय ऐसे बरतें सावधानी

2. खाने का रखें ख्याल

दिन में 10-12 गिलास पानी जरूर पीएं. संतरा, मौसमी, अनन्नास और आंवला जैसे फल अधिक खाएं. विटामिन सी वाली चीजें अधिक इस्तेमाल करें. दिन में 2 बार दूध पीएं. खाली पेट खुली हवा में सैर करें.

3. कपड़ों से भी पड़ता है लुक पर असर

सांवली स्किन वालों को अधिक भड़कीले कपड़े नहीं पहनने चाहिए. नीला, हरा और पीला रंग कम पहनें. मिक्स रंग भी कम पहनें. हलका गुलाबी, मैरून, आसमानी, हलके जामुनी आदि रंग अधिक पहनें.

लाइट मेकअप से रखें स्किन का ध्यान

हलका फुलका मेकअप करें. अपने चेहरे को पाउडर या फाउंडेशन की मोटी परत से न ढकें. रंग को अधिक गोरा दिखाने वाला फाउंडेशन न लगाएं. गोल्डन आइवरी कलर का फाउंडेशन इस्तेमाल करें. सांवली रंगत पर आंखों में काजल अच्छा लगता है. आईलाइनर और मस्कारा भी जरूर लगाएं. रंगबिरंगा आईलाइनर लगाया जा सकता है पर रंग अधिक शोख नहीं होने चाहिए. ग्रे या भूरे रंग के लेंस भी लगाए जा सकते हैं. ब्लशआन का रंग गाजरी, पीच या गुलाबी होना चाहिए. चेहरा कभी भी रूखा नहीं लगना चाहिए. चेहरे पर मास्चराइजर अवश्य लगाएं. गुलाबी, मैरून या ब्राउन लिपस्टिक अच्छी लगेगी.

ये भी पढ़ें- 4 टिप्स: गरमी में हेल्दी स्किन के लिए बेस्ट है टमाटर

4. बालों का कलर स्किन के हिसाब से चुनें

सांवली स्किन पर बालों का रंग ब्राउन या काला होना चाहिए. बालों को हफ्ते में 2 बार शैंपू से अवश्य धोएं. कंडीशनर करें और बालों में हेयर सीरम लगाएं. बालों की स्ट्रेटनिंग भी करा सकती हैं. इस प्रकार अगर आप सांवलीसलोनी स्किन को संवारती रहें तो आप की सुंदरता में चार चांद लग जाएंगे.

200 की कीमत के इन कलरफुल आईलाइनर से पाएं ब्यूटीफुल आंखें

आजकल बिजी लाइफस्टाइल में चाहें कौलेज गर्ल्स हो या महिलाएं मेकअप के लिए लाइनर और लिपस्टिक लगाना पसंद करती हैं. वहीं मार्केट में लाइनर में भी कईं वैरायटी आ गई है. आजकल लाइनर के लिए अलग-अलग कलर मार्केट में पौपुलर हैं. आप चाहें तो उन्हें पार्टी हो या औफिस या कहीं घूमना हो इन आइलाइनर को लगाकर अपनी खूबसूरत आंखों को एक नया लुक दे सकते हैं, लेकिन कुछ लोग सोचते होंगे कि कलरफुल आइलाइनर महंगे आते होंगे. पर आज हम आपको 200 रूपए की कीमत में 4 आईलाइनर के बारे में बताएंगे, जिसे आप मार्केट या औनलाइन से आसानी से खरीद सकते हैं.

1. लैक्मे इंस्टा ब्लू आईलाइनर (Lakme Insta Eye Liner, Blue)

अगर आप कहीं बाहर घूमने जा रहें हैं और आपका आउटफिट ब्लू है तो ये लाईनर आपके लिए परफेक्ट है और अगर आप कोई सिंपल आउट्फिट पहन रहें हैं तो ये आपके फेस को ब्राइट लुक भी देगा. ये आपको दुकानों में 118 या 120 में आसानी से मिल जाएगा.

ये भी पढ़ें- गरमी में औयली बालों से छुटकारा दिलाएंगे ये 4 शैम्पू, कीमत 200 से भी 

2. लैक्मे इंस्टा आई लाइनर, ग्रीन (Lakme Insta Eye Liner, Green)

अगर आप लाईनर के लिए ग्रीन यानी हरा रंग ट्राई करें. इसका गहरा हरा कलर लंबे समय तक रहेगा. साथ ही वौटर प्रूफ की वजह से अगर आपको पसीने में लाईनर खराब होने का डर है. साथ ही यह लगाते समय सूख जाता है. इसे आप मार्केट से 120 रूपए में मिल जाएगा.

3. लैक्मे इंस्टा आई लाइनर, गोल्डन (Lakme Insta Eye Liner, Golden)

शादी या पार्टी में अक्सर लोग गोल्डन का पैटर्न जरूर रखते हैं. गोल्डन कलर आपको रौयल लुक देने का काम करता है. इसीलिए लैक्में का गोल्डन कलर आईलाइनर आपके लुक को भी एक रौयल लुक देगा. ये आईलाइनर आपको मार्केट से 120 रूपए से आसानी से मिल जाएगा.

ये भी पढ़ें- समर में ट्राय करें ये 4 फेस मास्क, कीमत सिर्फ 100 रूपए

4. ब्लू हैवन कलर मैट आईलाइनर (Blue Heaven Color Matte Eyeliner)

अगर आप ब्लू हैवन के प्रौडक्टस का इस्तेमाल करते हैं तो ब्लू हैवन का कलर मैट आईलाइनर का इस्तेमाल कर सकते हैं. ब्लू हैवन का ब्राउन आईलाइनर आप कौलेज या कहीं घूमने के लिए ट्राई कर सकती हैं. ये आपको मार्केट या औनलाइन 95 रूपए में खरीद सकते हैं.

स्किन को ग्लोइंग बनाने के लिए ट्राय करें 200 से कम की कीमत के ये फेसवौश

औयली स्किन हो या ड्राई स्किन फेसवौश की जरूरत हर किसी को पड़ती है. आजकल के पौल्यूशन में फेस न धोयें तो यह स्किन को नुकसान पहुंचाता है और अगर किसी नौर्मल साबुन से फेस धोएं तो यह स्किन को डैमेज भी कर सकता है. इसलिए फेस के लिए फेसवौश जरूरी है. पर मार्केट में कई तरह के फेसवौश आ गए हैं, जो स्किन के लिए तो अच्छे होते हैं, लेकिन महंगे होते हैं. आज हम आपको कुछ सस्ते और अच्छे फेसवौश के बारे में बताएंगे जिसे आप मार्केट या औनलाइन खरीद सकते हैं.

1. हिमालया मौइस्चराइजिंग एलोवेरा फेसवौश

एंजाइम, पौलीसेकेराइड और पोषक तत्वों से भरपूर, यह फेसवौश स्किन को इफेक्टिव रूप से साफ, पोषण और मौइस्चराइज करने का काम करता है. मार्केट में 200 मि.ली. का हिमालय मौइस्चराइजिंग एलोवेरा फेस वौश आपको 128 रूपए में मिल जाएगा.

ये भी पढ़ें- झुर्रियों से राहत पाने के लिए अपनाएं ये 5 टिप्स

2. लोटस हर्बल्स टीट्री फेसवौश

औयली स्किन के लिए ये फेसवौश इफेक्टिव होता है. साथ ही अगर आपको पिंपल्स की प्रौब्लम है तो ये फेसवौश आपके लिए परफेक्ट होगा. लोटस का ये फेसवौश आप 120 ग्राम 149 रूपए में आसानी से दुकानों में मिल जाएगा.

3. न्यूट्रोगेना डीप क्लीन फोमिंग क्लींजर फेसवौश

न्यूट्रोगेना फोमिंग फेस वाश आपकी स्किन के कलर और सौफ्टनेस को बरकरार रखने में मदद करता है. साथ ही ये स्किन में मौजूद डेड सेल्स को खत्म करने का भी काम करता है. ये फेसवौश आपको 40 ग्राम 133 रूपए में आसानी से दुकानों में मिल जाएगा.

इन 10 होममेड ब्लीच से पाएं पार्लर जैसा निखार

4. KHADI मेथी फेसवौश

आयुर्वेदिक फेसवौश के इस्तेमाल से आपकी स्किन सुंदर के साथ-साथ ग्लोइंग के लिए बेस्ट है. मार्केट में ये आपको 210 ग्राम 140 रूपए में मिल जाएगा.

Raksha Bandhan 2020: ग्लोइंग स्किन के लिए घर पर ऐसे करें स्क्रब

सौफ्ट और ब्यूटीफुल स्किन हर किसी को आकर्षित करती है और सभी इसे पाना चाहते हैं. लेकिन हमारा चेहरा मौसम, प्रदूषण, धूल-मिट्टी, थकान सभी कुछ  झेलता है और इस का प्रभाव सब से ज्यादा चेहरे की स्किन पर नजर आता है. थकी, ग्लो के बिना स्किन,  झांइयां और आंखों के नीचे डार्क सर्कल फेस की शाइन कम कर देते हैं. ऐसे में फेस स्क्रबिंग करना एक ऐसा जादुई तरीका है, जो मिनटों में आप की स्किन को नरम, मुलायम और चमकदार बना सकता है. स्क्रबिंग से स्किन दोबारा चमकदार व जवान लगने लगती है. इसे एक्सफोलिएशन भी कहा जाता है व इसे अपने नियमित स्किन केयर रूटीन में शामिल करना चाहिए. फेस स्क्रब से आप मेकअप के उन छिपे कणों को भी हटा सकती हैं, जो पोर्स में घुस जाते हैं और सामान्य तौर पर क्लींजर या पानी से साफ करने से नहीं हटते. कुछ फेस स्क्रब्स में मास्चराइजर भी होता है, जिस से स्किन को पोषण भी मिलता है.

ऐसे करें स्क्रबिंग

स्क्रब्स में कुछ ऐसे खुरदरे पदार्थ होते हैं, जिन्हें स्किन पर रगड़ने से डेड स्किन की ऊपरी परत हट जाती है. स्क्रब को हाथों में लेकर उंगलियों की सहायता से भी आप लगा सकती हैं और कास्मेटिक पैड की सहायता से भी. इसे आप चाहे कैसे भी लगाएं, पर एक बात का ध्यान रखें कि स्क्रब को चेहरे पर गोलाकार घुमाते हुए हलके हाथों से लगाएं, साथ ही यह भी सुनिश्चित कर लें कि यह पूरे चेहरे और गरदन पर अच्छी तरह से लग जाए. स्क्रब करने के बाद चेहरे को पानी से धो कर मास्चराइज कर लें. फेस स्क्रब में बहुत सी चीजें शामिल की जा सकती हैं जैसे बैंबू फाइबर्स, ओटमील, चोकर, चीनी, फलों का गूदा, मूंगफली के छिलके, अखरोट आदि. नमक, मिट्टी जैसी चीजें स्क्रब्स में इस्तेमाल नहीं की जातीं. एक अच्छे स्क्रब में कोई क्रीम, अच्छी क्वालिटी की खुशबू, एसेंशियल आयल, मास्चराइजर आदि भी होते हैं.

ये भी पढ़ें- बेसन के इस्तेमाल से दूर करें ये 3 ब्यूटी प्रौब्लम

स्क्रब करने से पहले करें ये काम

चेहरे पर स्क्रब लगाने से पहले उस का पैच टेस्ट जरूर कर लें. इस के लिए थोड़ा सा स्क्रब ले कर कलाई की अंदरूनी तरफ लगाएं. कलाई पर स्क्रब लगा कर थोड़ी देर रुकें और फिर साफ पानी से धो लें. यदि किसी तरह की इचिंग, जलन न हो तभी इसे चेहरे पर लगाएं. स्क्रब की हमेशा थोड़ी मात्रा ही लें. इसे फेस पैक की तरह न लगाएं. यदि आप के चेहरे पर पिंपल्स हैं तो स्क्रबिंग न करें. रगड़ने व स्क्रब में मौजूद खुरदरी चीजों से आप के पिंपल्स फूट सकते हैं. हमेशा ऐसे स्क्रब्स ही इस्तेमाल करें, जिन में मौजूद स्क्रबिंग एजेंट नमिल जाएं, वरना वे पोर्स में फंस कर उन्हें बंद कर सकते हैं.

1 आयली स्किन के लिए स्क्रब करें ट्राई

1/2 कप हरे चने मैश कर लें. उस में 1 बड़ा चम्मच दही व पानी मिला कर पेस्ट बना लें. इस से हलके हाथों से चेहरे को स्क्रब करें. ठंडे पानी से धो लें. साबुन न लगाएं.

1/2 कप चावल के आटे में 1/2 कप कच्चा पपीता मैश कर के मिला लें और इस में आधे नीबू का रस भी मिला लें. चेहरे को हलका गीला कर के इस पेस्ट से स्क्रब करें.

2 ड्राई स्किन के लिए स्क्रब करें ट्राई

विटामिन ई आयल में 1 बूंद नीबू का रस और 1 बूंद ग्लिसरीन मिला लें. इस से चेहरे की मसाज कर के ठंडे पानी से धो लें.

1/2 चम्मच बादाम के चूरे में 1 चम्मच शहद और 1 चम्मच गुलाबजल मिला कर लगा लें और फिर गीले कौटन पैड से साफ कर लें.

ये भी पढ़ें- 7 टिप्स: टैटू से ऐसे पाएं छुटकारा

3 नौर्मल स्किन के लिए स्क्रब करें ट्राई

आटे का चोकर या बारीक दलिया लें. उसमें 1 चम्मच शहद और 1 चम्मच दूध मिलाएं और चेहरे पर लगाएं. कुछ देर बाद हलके हाथों से रगड़ कर छुड़ा लें.

4 जेंटल फेस स्क्रब करें ट्राई

3 चम्मच पिसे बादाम में 3 चम्मच ओटमील, 3 चम्मच मिल्क पाउडर, 2 चम्मच सूखी गुलाब की पत्तियां और बादाम का तेल मिला लें. इस मिश्रण को कांच के जार में भर कर रख लें और सप्ताह में 1 बार इस्तेमाल करें.

बाजार से रेडीमेड स्क्रब खरीदते समय ध्यान रखें कि स्क्रब अच्छी कंपनी का ही हो और उस में किसी भी प्रकार के हानिकारक रसायन न हों. चाहे स्क्रब घरेलू हो या रेडीमेड, सप्ताह में 1 बार इस का प्रयोग अवश्य करें.

Edited by Rosy

Summer Tips: सनस्क्रीन लगाना क्यों है जरूरी

सनसक्रीन एक ऐसा स्किन केयर प्रौडक्ट है जिस का रोजाना इस्तेमाल करना हमारी स्किन के लिए बहुत जरूरी है. अधिकतर महिलाओं को लगता है सनस्क्रीन को सिर्फ गर्मियों में लगाया जाता है, लेकिन सनस्क्रीन को हर मौसम में इस्तेमाल करना चाहिए. सनस्क्रीन आप की स्किन को डैमेज होने से बचाता है.

गर्मियों में क्यों जरूरी है सनसक्रीन

गर्मियों में तेज धूप और सूरज की हानिकारक किरणों की वजह से स्किन पर टैनिंग, फ्रेक्ल्स, सनबर्न जैसी समस्या हो सकती है, जिस से आप की स्किन की खूबसूरती ढल सकती है. क्लीनिक डर्माटेक के डर्मेटोलौजिस्ट डाक्टर इंदु का कहना है, “यदि किसी को फ्रेक्ल्स, सनबर्न जैसी समस्या हो जाती है तो उसे सनस्क्रीन दिन में 3 बार जरूर लगाना चाहिए. फ्रेकलस बहुत आम समस्या है. चेहरे पर जब ब्राउन स्पौट हो जाते है, उन्हें फ्रेक्ल्स कहते हैं.

फ्रेक्ल्स को रोकने के लिए सनस्क्रीन लगाना बहुत जरूरी है. हालांकि इस का co2 लेज़र ट्रीटमेंट भी है. कई लोग घर में रहते हैं तो अपनी स्किन की देखभाल करने में आलस दिखाते हैं. अगर आप घर में किचन में ज्यादा समय बिताती हैं तो भी सनस्क्रीन का इस्तेमाल जरूर करें. सनस्क्रीन खरीदते समय एसपीएफ पर जरूर ध्यान दें.

सनसक्रीन और एसपीएफ

बढ़ती उम्र के साथ स्किन पर पडऩे वाली झुर्रियां, फाइन लाइंस, स्किन का फटना, रंगत पर प्रभाव, झांइयां इन सब का सब से बड़ा कारण अल्ट्रावायलेट किरणें हैं. जब हम ज्यादा समय धूप में बिताते हैं, तो स्किन की रंगत काली होने लगती है और स्किन से जुड़ी कुछ गंभीर समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती हैं. इसलिए सनस्क्रीन का इस्तेमाल जरूरी है.

ये भी पढ़ें- 8 Tips: बढ़ती उम्र में स्किन टाइटनिंग के बेस्ट ट्रीटमेंट्स

सनस्क्रीन खरीदते समय उस में मौजूद सन प्रोटेक्शन फैक्टर यानी एसपीएफ की मात्रा की सही जानकारी होना बहुत जरूरी है. वैसे तो एसपीएफ 15 की मात्रा वाली सनस्क्रीन लगाना बेहतर रहता है. लेकिन बढ़ती गर्मी और प्रदूषण के दौरान एसपीएफ 15 से ले कर एसपीएफ 30 वाले सनस्क्रीन लोशन ज्यादा प्रभावी माने जाते हैं. अगर आप बिना सनस्क्रीन के घर से बाहर निकलती हैं तो आप की स्किन धूप में झुलस सकती है.

सनसक्रीन में एसपीएफ बहुत अहम है. एसपीएफ की मात्रा जितनी ज्यादा होती है हमारी स्किन को प्रोटेक्शन भी उतना ज्यादा मिलता है. अगर आप की सनस्क्रीन में 30 एसपीएफ है तो आप की स्किन पर प्रोटेक्शन 30 गुना ज्यादा बढ़ जाता है.

स्किन के अनुसार चुनें सनसक्रीन

  • अधिकतर महिलाओं की शिकायत होती है कि सनस्क्रीन लगाने के बाद स्किन चिपचिपी और काली दिखने लगती है. अगर आप की स्किन ज्यादा चिपचिपी दिख रही है, तो आपने गलत सनस्क्रीन को चुना है. सनस्क्रीन हमेशा अपनी स्किन के अनुसार चुनें.
  • अगर आप की स्किन नौर्मल है तो क्रीम बेस्ड सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें.
  • अगर आप की स्किन पर पिंपल्स, मुहांसे की समस्या ज्यादा है तो आप औयल फ्री सनस्क्रीन लगाएं और आप की स्किन औयली है तो जैल बेस्ड सनस्क्रीन का चुनाव करें.
  • ड्राई स्किन वालों को मौइश्चराइजर बेस्ड सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए.

कब कितना एसपीएफ है जरूरी

स्किन को डैमेज होने से बचाने के लिए 30 एसपीएफ काफी होता है. लेकिन आप बहुत देर तक बाहर हैं, धूप में ज्यादा समय बिता रही हैं और बारबार सनस्क्रीन नहीं लगा सकतीं तो आप एसपीएफ 50 वाले सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें.

रोजाना दिनों के लिए आप एसपीएफ 30 का इस्तेमाल कर सकती हैं. घर में भी सनस्क्रीन लगाना बहुत जरूरी है. दरअसल, घर में मौजूद आर्टिफिशियल लाइट भी स्किन पर असर डालती है. इसलिए घर में आप एसपीएफ 15 वाली सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें.

ये भी पढ़ें- आपके चेहरे की झाइयों को दूर करेंगे ये अचूक उपाय

Beauty Tips: गर्मियों में मौइस्चराइजर क्यों है जरूरी

बदलते मौसम के साथ त्वचा में भी कई बदलाव देखने को मिलता है. त्वचा में होने वाले बदलाव को देख कर ही हम कौस्मेटिक का चयन करते हैं. जैसे सर्दीयों में मौइस्चराइजर का  भरपूर इस्तेमाल किया जाता है लेकिन गर्मी के आते ही मौइस्चराइजर का इस्तेमाल कम हो जाता है. दरअसल, गर्मियों में चिपचिपी त्वचा के डर से ज्यादातर महिलाएं में मौइस्चराइजर का इस्तेमाल बंद कर देती हैं. लेकिन क्या गर्मियों में सच में मौइस्चराइजर का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए? जी नहीं, गर्मी हो या सर्दी मौइस्चराइजर का इस्तेमाल आपकी त्वचा के लिए बहुत जरूरी है.

आइए, जानते है गर्मियों में मौइस्चराइजर का इस्तेमाल क्यों जरूरी है:

एक्सपर्ट का कहना है कि, “अधिकतर महिलाओं को लगता हैं की मौइस्चराइजर के इस्तेमाल से त्वचा औयली और चिपचिपी हो जाती है. इसलिए गर्मियों में मौइस्चराइजर का इस्तेमाल करना ही नहीं चाहिए. दरअसल, जब तापमान ज्यादा होता है तो मौइस्चराइजर आपकी त्वचा के लिए उतना ही जरूरी हो जाता है. और यह उन लोगों के लिए विशेष रूप से जरूरी है जो एसी में अधिक समय बिताते हैं.

ये भी पढ़ें- #lockdown: नई दुल्हन ट्राय करें ये आसान ब्यूटी टिप्स

जब हो कठोर त्वचा

गर्मी की शुरुआत होते ही त्वचा पर इसका असर दिखने लगता है. गर्मी का मौसम अपने साथ स्विमिंग और वाटर स्पोर्ट्स जैसी एक्टिविटी को लेकर आता है, जिसकी वजह से हमारी त्वचा चिलचिलाती धूप, स्विमिंग पूल के पानी में मौजूद क्लोरीन, और समंदर के खारे पानी जैसी चीजों के संपर्क में आने से खराब होने लगती है. खास कर तब जब उनकी सही देखभाल ना की जा रही हो. लेकिन सही रूप से देखभाल की जाए तो आप अपनी त्वचा को हानिकारक तत्वों से बचा सकते हैं.

जब तेज धूप का हो कहर

गर्मी के मौसम में धूप का होना वाजिब है. गर्मी की तेज धूप त्वचा को जलाने वाली होती है जिस से संबर्न, टैनिंग जैसी स्किन प्रौब्लम होने लगती है. ऐसे में संसक्रीन का इस्तेमाल त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों से बचाती है. लेकिन त्वचा की देखभाल के लिए सिर्फ संसक्रीन ही काफी नहीं है, संसक्रीन के बाद त्वचा पर अच्छे से मौइस्चराइजेसन करने से वो कोमल और किसी भी तरह की त्वचा संबंधित दिक्कतों से बच जाती है. आप गर्मी में मौइस्चराइजर बैस्ड संसक्रीन का भी इस्तेमाल कर सकती हैं.

 कैमिकल से बचने के लिए

गर्मियों आते ही हमारे कई सारे प्लान बनने लगते हैं जैसे कभी वाटर पार्क घूमने जाना, पूल पार्टी करना या बच्चों के साथ स्विमिंग क्लास्स जौइन कर लेना. लेकिन हम ये भूल जाते है की वाटर पूल में क्लोरीन नाम का कैमिकल मिलाया जाता है जो त्वचा के लिए हानिकारक होता है. यदि आप पूल में अधिक समय बिताते हैं तो अपने शरीर को अच्छी तरह क्लीन जरूर करें. त्वचा को क्लीन करने के बाद मौइस्चराइजर का इस्तेमाल जरूरी है. मौइस्चराइजर आपकी त्वचा की गहराई में जा कर त्वचा को पोषण प्रदान करता हैं. त्वचा को सही मात्रा में पोषण मिलना बहुत जरूरी है. यह त्वचा को नुकसान पहुंचने से रोकता है.

गर्मियों में रूखी त्वचा

गर्मियों में अधिकतर महिलाओं को लगता है की गर्मियों में त्वचा ड्राई नहीं होती. लेकिन यह उनकी गलतफहमी है. दरअसल गर्मियों में हमारा ज़्यादातर समय धूप, स्विमिंगपूल, और एयर कंडीशनिंग में बीतता है. यहां तक की हम कुछ ऐसे ब्यूटी प्रौडक्ट का इस्तेमाल करते है, जिस में क्लोरीन ज्यादा होता है. इनकी वजह से हमारी त्वचा शुष्क और बेजान नजर आने लगती है. इन से निबटने के लिए ईमोलिएंट्स, यानी त्वचा को सौम्य और कोमल बनाने वाले प्रौडक्ट का इस्तेमाल करना चाहिए,  जैसे की मौइस्चराइजर, रोजाना मौइस्चराइजर का इस्तेमाल आपकी त्वचा के लिए फायदेमंद होता है. इस में ईमोलिएंट्स गुण पाए जाते है, जो त्वचा को ड्राई होने से बचाते है और त्वचा को निखारते भी है.

त्वचा विशेषज्ञा भी मौइस्चराइजर इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं क्योंकि यह त्वचा पर  एक सुरक्षा परत बना कर जर्म्स और अन्य हानिकारक चीज़ों से बचाता है.

बदलते मौसम के साथ स्किन कैयर है जरूरी

त्वचा को बाहर के मौसम का कोई अंदाजा नहीं होता, इसीलिए त्वचा की खास देखभाल हर मौसम में जरूरी है. देखा जाए तो हम से बहुत से लोग साल भर त्वचा से जुड़ी परेशानियों से जूझते हैं. यानी अगर आपकी त्वचा सर्दियों में ड्राई रहती है तो आपको गर्मियों में भी एक ऐसे मौइस्चराइज़र का इस्तेमाल करना चाहिए, जिसका गाढ़ापन आपकी त्वचा अच्छे से नारिश करे. मौइस्चराइजर लगाते समय एक बात का ध्यान जरूरी दें कि मौइस्चराइजर अल्कोहल-बेस्ड  न हो. अल्कोहल बेस्ड मौइस्चराइजर आपकी त्वचा से अच्छे और ज़रूरी तेलों को हटा कर उसे और भी ज़्यादा नुक्सान पहुंचा सकते हैं.

जब हो ओपन पोर्स की दिक्कत

एक अच्छी हेल्दी स्किन के लिए क्लींजिंग, टोनिंग, और मॉइस्चराइज़िंग बहुत जरूरी है. हालांकि लोगों को ऐसा लगता है कि गर्मियों में होने वाले पसीने की वजह से उनकी त्वचा सूखी नहीं होगी, पर पसीने के वजह से त्वचा के छिद्र खुल जाते हैं. इन्हें वापस बंद करने के लिए आपको टोनर इस्तेमाल करने की जरुरत पड़ेगी, और टोनर के बाद मौइस्चराइज़र का इस्तेमाल करने से आपकी त्वचा खिल खिला उठेगी.

जब त्वचा से निकले अधिक पसीना

गर्मी के मौसम में त्वचा औयली हो सकती है, पर इसका ये मतलब नहीं कि आपकी त्वचा को मौइस्चराइज़र की जरुरत नहीं. दरअसल गर्मीयों के मौसम में ज़्यादा पसीना आने की वजह से त्वचा का मौइस्चर खो जाता है. बढ़ती गर्मी और धूप की वजह से आपकी त्वचा से पानी निकल जाता है. ऐसे में आपको आपकी त्वचा को हाइड्रेटेड रखने के लिए सिर्फ ज़्यादा पानी पीने और पानी की अधिक मात्रा वाले भोजन खाने पर निर्भर नहीं रहना चाहिए. बल्कि आपको सही मौइस्चराइज़र का इस्तेमाल भी करना चाहिए, जो आपकी त्वचा में मौइस्चर की मात्रा बनाए रखे.

ये भी पढ़ें- एक्सपर्ट से जानें Quarantine में आसानी से कैसे करें हेयर स्पा

गर्मियों में कैसे करें मौइस्चराइजर का यूज

मौइस्चराइजर हमारी त्वचा के लिए कितना जरूरी है यह तो हम जान चुके है. लेकिन इसके साथ गर्मियों में मौइस्चराइजर का इस्तेमाल कब करना चाहिए यह भी जानना जरूरी हैं.

  • नहाने के बाद मौइस्चराइजर का इस्तेमाल जरूरी करें. यह आपकी बौडी को हाइड्रेट रखती है और त्वचा में नमी बनाए रखती है.
  • आप को यदि ज्यादा पसीना आता है तो तो आप मौइश्चराइजर मास्क और टोनर का इस्तेमाल भी कर सकती है.
  • धूप में निकालने से पहले संसक्रीन के साथ मौइश्चराइजर का भी इस्तेमाल करें.
  • सिर्फ चेहरे को ही मौइस्चराइज न करें.

16 टिप्स: गरमी चुरा ना ले स्किन की रंगत

गर्मियों में सूर्य से निकलने वाली ,पराबैंगनी किरणें स्किन के लिए काफी नुकसानदायक होती हैं.बहुत देर तक धूप में रहने से स्किन जल जाती है और शरीर पर काले धब्बे पड़ जाते हैं. धूप का प्रभाव हाथ गर्दन और चेहरे पर पड़ता है ,क्योंकि यह अंग हमेशा खुले रहते हैं. देखभाल के बाद भी स्किन झुलस जाए तो, स्वयं उपचार ना करके स्किन विशेषज्ञ से राय लें.

1.  गरमी के कुप्रभावों से बचने के लिए, किसी नामी ब्रांड के साबुन से नहाएं.

2. सूती वस्त्रों को पहने और ऐसे परिधानों का चुनाव करें, जिनसे आपका पूरा शरीर ढका रहे.

3. कपड़े रोज बदले. उनसे पसीने की बदबू नहीं आनी चाहिए.

4. घर से बाहर निकलते समय छतरी का इस्तेमाल करना चाहिए. दिन में दो बार नहाना चाहिए.

ये भी पढ़ें- 9 टिप्स: रूसी से पाएं नैचुरली छुटकारा

5. दिन में दो बार सन ब्लॉक क्रीम का प्रयोग करें. यह क्रीम सूर्य की किरणों से स्किन की रक्षा करती है.

6. सन प्रोटेक्ट/ब्लौक क्रीम खरीदते समय सन प्रोटेक्शन फैक्टर यानि एस पी एफ की जांच करें.

7. सन प्रोटेक्शन का एसपीएफ 15 होना चाहिए.इस क्रीम से सूर्य की किरणों से होने वाली हानि 15% तक कम हो जाती है.

परिधानों का चुनाव

8. गर्मियों में हल्के रंग के कपड़े पहने. जो दोपहर में भी सॉफ्ट लुक दे सके.

9. बहुत अधिक चुस्त कपड़े नहीं पहने. टॉप या कोई भी ऐसी पोशाक, जो शरीर के ऊपर वाले हिस्से में पहनी जाती है. वह हल्के  कलर में हो. पैंट या स्कर्ट भले ही गहरे रंग की हो.

3. सुबह से शाम तक काम करना हो तो सूती वस्त्र धारण करें. मेकअप कम से कम इस्तेमाल करें.

10. गर्मियों के लिए सबसे अच्छे फैब्रिक जॉर्जेट ; शिफॉन और क्रेप हैं. फ्लोरल और पोलका प्रिंटस कूल कूल लुक देते हैं. आप रात की पार्टी में जा रही हैं तो, ब्राइट कलर जैसे संतरी, चेरी लाल,   चमकता पीला पहन सकती हैं. यह ब्राइट कलर हैं.

11.  गर्मियों में कुरता फैशन में होता है. जिस पर कैप  बाजू ,लेअर्ड  बाजू , पाक वाली छोटी बाजू अच्छी लगती है. इन कुर्तों में बोट गला,  छोटा वी  गला और गोल गला सिलवा सकती हैं या सिला सिलाया  खरीद सकती हैं. आप पर यह खिलेंगे और ठंडक का अहसास भी दिलाएंगे.

12. गर्मियों में कुर्तियां अधिक पसंद की जाती हैं. पुरुषों के लिए शार्ट कुर्तियां अच्छी रहती हैं. सफेद, वेज, स्टोन और ग्रीन कलर की कुर्तियां ठंडक का अहसास कराती हैं. महिलाओं के लिए भी शार्ट कुर्तियां फैशन में हैं. हल्का हरा, हल्का नीला, सफेद, क्रीम, आसमानी, लेमन व स्टोन कलर में चुनाव करें. यह कुर्तियां;  जींस व ट्राउजर, दोनों के साथ ही जंचती है.

ये भी पढ़ें- जानें क्या हैं 2020 के समर मेकअप ट्रेंड

13. ग्रेस फुल दिखने की इच्छा,  रखने वालों के लिए शिफान से बढ़िया, कोई दूसरा का फैब्रिक नहीं है. महिलाएं वह लड़कियां शिफॉन के टॉप, साड़ियां पहनकर गर्मी में ठंडक का अहसास कर सकती हैं.

14. गर्मियों का एक और ;बेहतरीन फैब्रिक है; लिनेन. लिनेन का क्रिस्पी होना, इस फैब्रिक को खास बना देता है. इस में पड़े रिंकल्स  इसे और भी अधिक अच्छा लुक देते हैं.इस पर इस्त्री करने की भी जरुरत नहीं पड़ती है. इसे कैजुअल तो पहन भी सकती हैं,  खास मौकों के  लिए भी लिनेन की पोशाक का चुनाव कर सकती हैं.

15. डेनिम फैब्रिक्स का राजा है. इस का मौसम के अनुकूल होना ही,  इसकी विशेषता है.मोटे डैनिम वजाय गर्मियों में पतला डेनिम ही पहने.

16.  पोशाकों के साथ -साथ ही जूते, घड़ी ,बेल्ट, पर्स, गहने,  आकर्षक डिजाइनों के मोबाइल फोन आदि का भी चुनाव करें,  क्योंकि फैशन केवल परिधानों तक ही सीमित नहीं है.

8 टिप्स: गरमी में ऐसे पाएं पिंक लिप्स

पिंक लिप्स किसी भी महिला की खूबसूरती में चार चांद लगाते है, लेकिन अगर किसी कारण आपके लिप्स का कलर काला पड़ जाए, तो लिपस्टिक लगाना जरुरी होता है. अगर आप लिपस्टिक के शौक़ीन नहीं है, तो ये आपकी प्रौब्लम बन जाती है. नैचुरल लुक में आप कैसे रहे?

इस बारें में हिमालया ड्रग की रिसर्च साइंटिस्ट निवृति श्वेता कहती है कि असल में स्किन पर धूप, डिहाइड्रेशन और गरमी का प्रभाव सबसे अधिक पड़ता है. सूरज की यूवी किरणों के प्रभाव से सनस्क्रीन बहुत हद तक स्किन की रक्षा कर पाती है, लेकिन लिप्स की सौफ्ट स्किन के लिए कुछ ख़ास नहीं मिलता और धूप से लिप्स को बचाने की जानकारी भी बहुत कम महिलाओं को होती है. दरअसल स्किन में मेलानिन होता है. इसका रंग इसी पिगमेंट के कारण होता है. ये पिगमेंट न केवल धूप को सोखती है, बल्कि सोखी गयी यूवी किरणों को बिखेर भी सकती है. स्किन की तुलना में लिप्स में मेलानोसाइट्स की काफी कम मात्रा होती है. यही सेल मेलानिन पिगमेंट उत्पन्न करते है. मेलानिन जितना कम होगा, धूप से सुरक्षा उतनी ही कम होगी. इसलिए लिप्स पर टैनिंग, सनबर्न जैसी समस्याएं उत्पन्न हो जाया करती है. स्किन से अधिक लिप्स का ध्यान रखना जरुरी है. धूप से बचाव के कुछ तरीके ये हैं…

  1. 30 एसपी एफ वाले लिप बाम करें इस्तेमाल

लिप्स की स्किन बौडी की स्किन से काफी पतली होती है, इसलिए इसे हमेशा धूप से बचाए रखने की जरुरत होती है, लिपस्टिक या लिपग्लौस लगाने से धूप से सुरक्षा नहीं होती, 30 एसपी एफ वाले लिप बाम लगायें.

ये भी पढ़ें- आईलैशेज एक्सटैंशन ट्रेंड में न करें ये गलतियां

  1. लिप्स को हाइड्रेटेड रखने की होती है जरुरत

स्किन को नम रखने वाला नेचुरल औयल सीबम हमारे लिप्स पर नहीं होता, इसलिए इसे बाहर से नमी देकर हाइड्रेटेड रखने जरुरत होती है, इसलिए गरमी में सन प्रोटेक्टेड लिप बाम अपने साथ में रखे,

  1. हर दो घंटे बाद लिप बाम का करें इस्तेमाल

लिप्स को कभी चाटें या छुए नहीं, क्योंकि ऐसा करने से मुंह के लार वाष्प होकर होठों को और अधिक सुखा देती है, हर दो घंटे बाद बिना भूले लिप बाम का प्रयोग करें,

  1. सोने से पहले हटाएं मेकअप

सोने से पहले होठों के मेकअप हटा दें और नमी युक्त लिप बाम का प्रयोग करें, इसके बावजूद भी अगर आपके लिप्स काले पड़ रहे हो तो तुरंत डौक्टर की सलाह लें.

इसके अलावा कुछ घरेलू उपाय भी है जिसके द्वारा लिप्स को गुलाबी रखा जा सकता है.

  1. होठों पर लगाएं नींबू

नीबू में ब्लीचिंग गुण होता है, इसके कुछ बूंदों को होठों पर लगाकर सो सकती है, इससे कुछ दिनों बाद कालापन दूर हो सकता है.

ये भी पढ़ें- 9 टिप्स: मौनसून में सही मेकअप से स्किन बनेगी ब्यूटीफुल

  1. गुलाब जल है बेस्ट

गुलाब जल की कुछ बूंदों को शहद में मिलाकर लिप्स पर लगाने से फायदा मिलता है,

  1. औलिव औयल का करें इस्तेमाल

औलिव औयल की कुछ बूंदों को लेकर लिप्स पर हलकी मालिश करने से लिप्स का काला रंग हल्का हो सकता है,

  1. नेचुरल पिंक लिप्स के लिए चुकंदर है परफेक्ट

चुकंदर में नैचुरल ब्लीचिंग होता है,इसका नैचुरल रंग लिप्स को गुलाबी भी बनाता है, चुकंदर का रस रात में लगाकर सो सकती है, इससे लिप्स गुलाबी रह सकते है.

ये भी पढ़ें- हेयरस्टाइल ट्राय करने के लिए ये 4 टिप्स से बाल रहेंगे हेल्दी

Edited by Rosy

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें