दादामुनी अशोक कुमार और लेखक शरतचंद्र चट्टोपाध्याय के बीच की दोस्ताना कैमिस्ट्री का एक मजेदार वाकेआ रहा. अशोक कुमार जब छोटे थे तो छुट्टियों में अपने ननिहाल जरूर जाया करते थे. उन की अपने नाना राजा साहब से बहुत बनती थी. वे बालक अशोक को रोज कहानी सुनाते थे.

अशोक ने भी एक दिन उन को एक दिलचस्प कहानी सुनाई. वे बोले कि नाना जब आप घर पर नहीं थे तो तो मैं जंगल में गया था. वहां शेर से मेरा सामना हुआ, लेकिन शेर मेरा कुछ भी नहीं बिगाड़ पाया. नाना ने आश्चर्य से पूछा क्यों? तो अशोक बोले कि उसी समय मैं ने अपने शरीर में छिपे पंखों को बाहर निकाल लिया और शेर मेरे पास आता कि इस से पहले मैं उड़ गया और शेर देखता रह गया. वे अशोक की बातों पर खूब हंसे और बोले कि जरा हमें भी अपने पंख दिखाओ, तो अशोक ने बड़ी तत्परता से बाल सुलभ जवाब दिया कि आप पहले शेर बन कर दिखाओ.

शरतचंद्र अशोक के नाना के घर के पास ही रहते थे. वे एक दिन शरतचंद्र से अशोक को मिलवाने ले गए और उन से कहा कि यह भी तुम्हारी तरह बातें बनाने में माहिर है. तभी अशोक ने शरतचंद्र से कहा कि दादा, आप ने कभी चांदी के चावल और परवल खाए हैं? शरतचंद्र ने जवाब दिया कि अभी तक तो नहीं, जब खाऊंगा तुम्हें जरूर बताऊंगा.

वक्त का पहिया घूमा और बालक अशोक सुपर स्टार अशोक कुमार बन गए. इस दौरान शरत बाबू और अशोक कुमार की कोई मुलाकात नहीं हुई. फिर एक दिन किसी ने अशोक कुमार को शरत बाबू से मिलवाया, लेकिन अशोक कुमार उस बचपन की मुलाकात को बिलकुल भूल गए थे. लेकिन शरत बाबू ने जब कहा कि अशोक मुझे अभी तक चांदी के चावल और परवल नहीं मिले, तब अशोक कुमार को बचपन की घटना याद आ गई और वे शरत बाबू के गले लग गए.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT