रेटिंगः एक स्टार

निर्माताः संजय सिंघाला,प्रीति विजय जाजू,धवल जयंतीलाल गाड़ा

निर्देशकः अमजद खान

कलाकारः रीम शेख, ओम पुरी, आरिफ जाकरिया, अतुल कुलकर्णी,दिव्या दत्ता और अभिमन्यू सिंह

अवधिः दो घंटे, बारह मिनट

नोबल पुरस्कार से सम्मानित पाकिस्तानी लड़की मलाला युसुफजई की बायोपिक फिल्म के नाम पर फिल्म निर्देशक अमजद खान एक एजेंडे वाली फिल्म गुल मकई लेकर आए हैं, जिसमें उन्होंने यह साबित करने की पुरजोर कोशिश की है कि पाकिस्तानी सेना और पाकिस्तान की आईएसआई एजेंसी पूरी ताकत के साथ आतंकवादियों का सफाया करने में जुटी हुई है.

कहानीः

फिल्म की कहानी के केंद्र में 2008 से 2009 तक का पाकिस्तान का स्वात इलाका, तालिबानी आतंकवाद, मलाला युसुफजई तथा उनके पिता जियाउद्दीन के इर्द गिर्द घूमती है. फिल्म शुरू होती है तालिबानी आतंकियों के जुल्मों के चित्रण से. उधर जियाउद्दीन (अतुल कुलकर्णी) पाकिस्तान के स्वात इलाके में खुशाल हाई स्कूल नामक एक अंग्रेजी माध्यम का स्कूल चला रहे हैं, जिसके वह प्रधानाध्यापक भी है. इस स्कूल में लड़के व लड़कियां दोनों पढ़ते हैं और इसी स्कूल में उनका बेटा अटल व बेटी मलाला (रीम शेख) भी पढ़ती है. तालिबानियों के जुल्म, लड़कियों की शिक्षा के खिलाफ नित नए नए आदेशों का असर खुशाल स्कूल पर भी पड़ता है. स्कूल की तरफ से लड़कियों की पोशाक बदली जाती है. उधर तालिबानी आए दिन निर्दोष लोगों की हत्या कर रहे हैं. जियाउद्दीन शांति कमेटी के माध्यम से एक मुहिम चलाते हैं. पाकिस्तानी सेना भी तालिबानियों के खात्मे में जुटी है. इसी बीच प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो मारी जाती हैं. जरदारी प्रधानमंत्री बन जाते हैं. बीबीसी और जियो टीवी तालीबानियों की हर हरकत को लोगों तक पहुंचाने में जुटे हैं.पाकिस्तानी सेना और आई एस आई अपने काम में लगी हुई है. जियाउद्दीन भी तालिबानियों के खिलाफ इंटरव्यू देकर तालिबानियों के निशाने पर आ जाते हैं. उधर बीबीसी के लिए मलाला अपनी पहचान छिपाकर गुल मकाई के नाम से तालिबानियों के खिलाफ ब्लॉग लिखने लगती हैं और जल्द ही चर्चा में आ जाती हैं. पर पहचान छिप नहीं पाती. एक दिन तालिबानी अपने एक आतंकी को भेजकर स्कूल बस के अंदर ही मलाला पर गोली चलवा देते हैं. मलाला का इलाज पेशावर के सैनिक अस्पताल में होता है और फिर उन्हें नोबल पुरस्कार से नवाजा जाता है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

गृहशोभा डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...