संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती पर पहले ही बवाल थमने का नाम नही ले रहा है. इस फिल्म के बाद अब एक और फिल्म ‘द गेम आफ अयोध्या’ को लेकर नया विवाद खड़ा होता दिखाई दे रहा है. हिन्दू वाहिनी सेना ने इस फिल्म में यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री व वर्तमान में राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह की भूमिका को गलत तौर से पेश करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा है कि अगर यह फिल्म अलीगढ़ में चली तो सिनेमाघरों को फूंकने में उन्हें कोई तकलीफ नहीं होगी.

इस मामले में हिंदू युवा वाहिनी के जिला उपाध्यक्ष एवं छात्र नेता आदित्य पंडित ने अपने एक ज्ञापन में कहा है कि पूरे देश में वाहिनी इस फिल्म का विरोध करेगी, क्योंकि इस फिल्म में रामलला की मूर्तियों को धोखे से अयोध्या में स्थापित करते हुए दिखाया है, जो कि तथ्यों के अनुसार बिलकुल गलत है. उन्होंने इस गलती की जिम्मेदारी फिल्म के निर्देशक एवं लोकदल के अध्यक्ष सुनील सिंह की बताई है.

आदित्य के अनुसार राजनीतिक महत्वाकांक्षा को पूर्ण करने के लिए इस तरह के विवाद से भरपूर और हिंदू धर्म की भावनाओं को आहत करने वाली फिल्म बना रहे हैं, जिससे वे सस्ती लोकप्रियता हासिल कर सकें. उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर यह फिल्म किसी भी सिनेमाघर में चली, तो संचालक इसके दुष्परिणाम भुगतेंगे.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT