कंचन...

मेरे पापा.....

मेरे हर कदम को अपने हाथों से थाम लिया
मेरी आंखों से गिरने वाले हर एक आंसू को अपने नाम किया
दुनिया का सबसे मजबूत रिश्ता होता है वो
इस धरती में पिता कहते हैं जिनको

मेरी हर जरूरत को पूरा किया मेरे कहने से पहले,
मेरी हर तकलीफ को दूर किया मुझ तक आने से पहले,
मेरी सफलता के लिए हमेशा ढाल बनकर खड़े रहे
फिर भी मेरी हर जीत को सिर्फ मेरा नाम दिया

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT