औफिस गोइंग महिलाओं में व्यवस्तता बढ़ जाने के कारण हैल्दी ईटिंग की आदत लगातार कम होती जाती है. समय की कमी की वजह से आप को जो भी खाने को मिलता है उसे खाती जाती हैं, जैसे बर्गर, पिज्जा, पोटैटो चिप्स या फिर कैंडी.

अगर आप दिन भर में 3 बार खाना खाती हैं, तो कई बार ऐसा भी होता है कि खाना खाने के बाद भी भूख लगती है. वह समय दिन में खासकर 4 से 5 बजे का होता है जब आप कुछ हलकाफुलका नाश्ता लेना पसंद करती हैं.
स्नैक्स मुख्य भोजन के बीच के अंतर को भरता है. अगर आप स्नैक्स नहीं लेती हैं, तो कमजोरी महसूस करती हैं.
ऐसे में यह सोचना पड़ता है कि आप खाएं तो खाएं क्या, जो थोड़े समय के लिए आप की भूख को कम करे, साथ ही आप की सेहत पर भी बुरा असर न पड़े.

रेडीमेड स्नैक्स

ऐनर्जी लेवल को कायम रखने के लिए आजकल कई ऐसे लो फैट उत्पाद बाजार में उपलब्ध हैं जिन्हें आप खा सकती हैं. उन में वसा की मात्रा कम और प्रोटीन की अधिक रहती है.
बड़े शहरों में बदलती हुई लाइफस्टाइल को देखते हुए स्नैक्स निर्माता कंपनियां मल्टीग्रेन बिस्कुट, जीरो कैलोरी चिप्स जैसे उत्पाद बाजार में उतार रही हैं. इन में स्वाद भी है और ये सेहतमंद भी हैं.
आज की पीढ़ी के लिए स्वादिष्ठ अल्पाहार (स्नैक्स) बहुत आवश्यक है. शोध में पाया गया है कि लोग आजकल अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक हो चुके हैं. कोई भी उत्पाद वे आसानी से नहीं खाना चाहते.
 

घरेलू स्नैक्स

औफिस के लिए लंच ले जाने के साथ ही अगर घर में बने स्नैक्स ले जाएं, तो यह एक अच्छा विकल्प हो सकता है.
अंकुरित चने, सोयाबीन से बना सलाद, ड्राई व नमकीन ओटमील या दलिया शाम की चाय को और भी हैल्दी बना देंगे. इन को तैयार करने में समय भी कम लगता है. ऊर्जावान रखता है

इस बारे में फिटनैस ऐंड वैलनैस ऐक्सपर्ट अनुराधा नरसिंहम कहती हैं कि हमारे देश में परंपरागत दालरोटी, चावल, सब्जी खाने की प्रथा कम हो चुकी है. ऐसे में जंक फूड का प्रचलन बढ़ा है. फलस्वरूप कम उम्र में ब्लडप्रैशर, मधुमेह, मोटापा और लिवर की बीमारी का सामना करना पड़ता है. जब आप घर पर कुछ बनाते हैं, तो आप उस की सामग्री पर ध्यान रखते हैं, जिस में आप ताजा फल या सब्जियों का प्रयोग करते हैं. लेकिन औफिस में काम करते वक्त यह मुमकिन नहीं होता.

ऐसे में कोई भी स्नैक्स लेते समय कुछ बातें ध्यान में रखनी आवश्यक हैं:

– स्नैक्स लेते समय उस में कितना कैलोरी है, इस की जांच कर लें. एक समय में 100 से 200 कैलोरी तक लेना ठीक रहता है.
– वसारहित स्नैक्स खाएं.
– जीरो ट्रांसफैट वाले स्नैक्स खाएं.
– मल्टीग्रेन युक्त और फाइबर वाले स्नैक्स खाएं, क्योंकि इस में खाना जल्दी पचता नहीं है, जिस से भूख कम लगती है और मोटापा घटता है.
– कभी भी मसालेदार स्नैक्स न खाएं.

COMMENT