कितनी अजीब बात है कि हमारे पास जो नहीं होता है. हम उसी के लिए वियोगी हरि बने बैठे रहते हैं. अभी तक कल तक कि बात थी कि रिया मसरूफियत की नयी दास्तां लिख रही थी. मार्च का महीना मतलब कालेज में परीक्षा, रिजल्ट, नया साल और न जाने क्या क्या अपने बाल गोपाल के इम्तिहान का टेंशन और मार्च क्लोजिंग के नाम का पति वक्त बेवक्त घर आना रिया के लिए परेशानी का सबब बन गया था. रोज की भागा दौड़ी और समय पर  कालेज पहुँच ने की हड़बड़ी से आजिज आ गयी थी और आज हाउस अरेस्ट के दस ही दिन में दिमाग का बावरा पन बाहर आ गया था.

बारहवीं की परीक्षा की कापियों के मूल्यांकन के आखिरी दिन जब रात के आठ बजे गए तो रिया ने प्रभु से करबद्ध प्रार्थना की" हे भगवान कुछ दिनों की छुट्टियां दिला दो, ऐसी छुट्टी दिलाना की घर से दो कदम भी बाहर नहीं निकलना पड़े,या सारे काम घर बैठे बैठे ही हो जाए."

थोड़े आराम के लालच में आ कर जो दुआ रिया ने की थी. उसको भगवान इतनी जल्दी अंगिकृत कर देंगे इसका रिया को जरा सा भी इल्म न था. वरना वो यदि जानती कि भगवान इंस्टेंट 24 घंटे के अंदर वरदान देने के लिए बैठे हुए हैं तो वो अपने लिए बंगला, मोटर कार और थोड़ा आराम भी माँग लेती.

work-from-home-PHOTO

ये भी पढ़ें- #lockdown: सोशल डिस्टेंस रखे, मेंटल डिस्टेंस नहीं 

खैर अगले दिन रात को आठ बजे टेलीविजन की स्क्रीन पर अरबों देशवासियों के भाग्य विधाता प्रकट हुए और उन्होंने घोषणा कर दी कि आज रात 12 बजे से सारे भारत वर्ष का चक्का जाम रहेगा. लोगों को अपने घरों से बाहर निकलने की मनाही है. पहले तो रिया को लगा कि चलो भगवान ने उसके मन की मुराद को पूरा कर दिया है.पर जब प्रधान ने काम वलियों, धोबिन, माली जैसे तमाम लोगों की पगार न काटने की अपील की, तब समझ में आया कि भगवान ने होलसेल में सबों की मुराद को सीरयसली लेकर तथास्तु का वरदान दिया है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT