विशेषज्ञों की मानें, तो इस का सब से बड़ा कारण घंटों बिस्तर पर बैठ कर काम करने, सही ऊंचाई की मेजकुरसी न होने, आड़ेतिरछे बैठ कर काम करने और काम के बीच में न उठने से यह समस्या पैदा हो रही है.

लेकिन, अगर आप चाहें तो छोटीछोटी बातों का ध्यान रख कर इस दर्द से बचा जा सकता है, एशियन इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के मस्तिष्क एवं रीढ़ रोग विभाग के डायरेक्टर डॉ. कमल वर्मा ने बताया कि सही पोश्चर न होने से  रेडिक्युलोपैथी नैक पैन होता है, जो गरदन से शुरू हो कर हाथ तक जाता है. ऐसा स्लिप डिस्क या नर्व दबने पर होता है. ऐसे में रिलैक्सेशन एक्सरसाइज बहुत जरूरी है, इसे प्रोग्रेसिव व मसल्स रिलैक्सेशन तकनीक कहा जाता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT