आजकल तकनीक का जमाना है और उसी का एक हिस्सा है सोशल मीडिया. फेसबुक, व्हाट्स एप, ट्विटर, यू ट्यूब जैसे अनेकों प्लेटफॉर्म आज मौजूद हैं जिनसे जिंदगी काफी आसान भी हुई है. कोरोना काल में जब मेल मुलाकातों का सर्वथा अभाव था तो व्हाट्स एप पर ही लोगों ने एकदूसरे का सम्बल बढ़ाया.

व्हाट्स एप पर ग्रुप बनाना आजकल बड़ी ही आसान और सहज बात है. आजकल व्हाट्स पर ग्रुप बनाकर बड़े बड़े ऑफिसेज के क्रिया कलाप किये जाते हैं. यहां पर ग्रुप बनाने से लाभ यह होता है कि एक साथ आप कई लोगों तक अपनी बात पहुंचा पाते हैं. यद्यपि आजकल टेलीग्राम पर भी ग्रुप बनाकर चर्चा की जाती है परन्तु टेलीग्राम की अपेक्षा व्हाट्स एप अधिक चलन में है. ग्रुप में जुड़ना तो आसान है परन्तु वहां के नियम कायदों को फॉलो करना अत्यंत आवश्यक होता है. यहां पर प्रस्तुत है व्हाट्स एप ग्रुप के 7 एटिकेट्स जिन्हें हम सबको आवश्यक रूप से अपनाना चाहिए-

1. -पूछना है जरूरी

किसी भी प्रकार का ग्रुप बनाते समय सम्बंधित सदस्यों को ग्रुप में जोड़ने से पहले पूछ अवश्य लें कि वे ग्रुप में जुड़ना चाहते हैं अथवा नहीं क्योंकि कई बार आपके परिचित ही एक दूसरे को आपस में जानते नहीं है ऐसे में वे ग्रुप में स्वयम को असहज अनुभव करते हैं और ग्रुप को छोड़ देते हैं इसलिए पूछना अत्यंत आवश्यक है हां परिवार के सदस्यों को आप बिना पूछे जोड़ सकते हैं.

ये भी पढ़ें- कश्मीर में है एशिया का सबसे बड़ा ट्यूलिप गार्डन

2. -नियमों का करें पालन

पारिवारिक के अलावा अक्सर ग्रुप किसी व्यवसाय, किसी गतिविधि या चर्चा के लिए बनाए जाते हैं. यदि आप ऐसे किसी ग्रुप के सदस्य हैं तो उस ग्रुप एडमिन के द्वारा बनाये गए नियमों का पालन अवश्य करें. उदाहरण के लिए सोसाइटी के ग्रुप आवश्यक सूचनाओं के लिए तो किसी प्रकाशन संस्थान का ग्रुप विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के लिए बनाया जाता है और ऐसे ग्रुप्स पर इमोजी, गुडमार्निंग और अन्य कोई भी सन्देश भेजना मना होता है इसी प्रकार के नियम प्रत्येक ग्रुप के होते हैं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT