डौ. पंकज गुप्ता

नारी सृष्टि की श्रेष्ठतम रचना है और मां इस सृष्टि का मधुरतम शब्द. नारी के समस्त रूपों में सर्वश्रेष्ठ स्थान मां का ही है. वाकई मां अनमोल है. मां ही बच्चों की पहली गुरु होती है, जिसके पास अपने बच्चों के लिए बिना किसी शर्त के ममत्व भरा प्यार होता है. सच में वे लोग बड़े ही भाग्यशाली होते हैं जिनके सिर पर मां के प्यार दुलार की छाया लहराती हैं.

वैसे तो अपनी मां से जुड़े बहुत सारे अविस्मरणीय क्षण ऐसे होते हैं जिनसे हमें हर पल कुछ सीख मिलती है. यहां मैं अपनी मां से जुड़ा एक यादगार पल जो लगभग 30-32 वर्ष पुराना है, साझा करना चाहूंगी जिसने मेरे जीवन को एक सकारात्मक दिशा प्रदान की.

ये भी पढ़ें- “मां का साया”: एक कविता मां के नाम

जब मैं बहुत छोटी थी तब एक बार मैं मां के साथ बाजार से घर आ रही थी. तभी देखा कि एक होटल के सामने एक बुजुर्ग व्यक्ति, जिसे देखकर ऐसा लग रहा था कि उसने काफी समय से खाना नहीं खाया, खाने के लिए गिड़गिड़ा रहा था और होटल वाला उसको दुत्कार कर दूर जाने को कह रहा था. तभी बिना एक पल गंवाये, उसकी सच्चाई को समझते हुए मां उसे अपने साथ घर तक ले आयीं और उसे भरपेट खाना खाने को दिया. तब उसकी आंखों में खुशी और संतुष्टि की जो चमक थी उसे मैं आश्चर्यचकित होकर देख रही थी और उस समय अपनी उम्र के हिसाब से थोड़ा बहुत कुछ समझ भी पा रही थी. मगर आज ये मेरे जीवन का सबसे अनमोल पाठ बन गया.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT