मेरी प्यारी मां,

हमारी उम्र चाहे कितनी भी  हो जाएं लेकिन जब भी हमे सहारे की जरूरत होती है या यूं कहे कि जब दुनियाभर में आपको कोई अपना नजर नहीं आता तब हमें मां की गोद ही नजर आती है. जहां हम सब कुछ भूल कर सुकून प्राप्त कर सकते है, बस ऐसी ही जगह है मेरे लिए मेरी मां की गोद.

बचपन से मैने जब भी उन्हें देखा, हमेशा दूसरों के लिए समर्पित पाया. एक बार मेरी दादी ने उन्हें देख कर कहा था कि इसकी ट्रेनिंग बड़ी ही सधे हुए हाथों में हुई है. तब तो मुझे उसका मतलब समझ नही आया था पर आज जब मै भी ब्याह कर अपने घर आ  गई हूं और खुद भी एक मां बन गई हूं तब मुझे मां की फुर्ती का अहसास होता है. मैं आज भी जब अपने घर को संभालती हूं तो ऐसा लगता है कि मां साए की तरह मेरे साथ है और मुझे हर काम सिखा रही हैं.

ये भी पढ़ें- मेरी मां- “आप जैसा कोई नहीं मम्मी”

कुछ भी नहीं भूलती थी मां...

वह ज्यादा पढ़ी-लिखी नहीं थी. पर हम सब को इंग्लिश में पोयम याद कराती थी, बाबा कहते थे कि मां जो एक बार सुन लेती है वह भूलती नहीं हैं, इसलिए बाबा जब हमें पढ़ाते थे तब पास में सेव बनाती वह सब याद कर लेती और फिर परीक्षा के समय याद दिलाती कि यह पाठ याद कर लिया.

याद है मां की ये खूबी...

उनकी एक बड़ी ही दिलचस्प खूबी है जो हम भाई, बहनों को भाती थी और आज हमारे बच्चों की भी इसी खूबी के कारण वह प्रिय है. जब भी बच्चे  खाना खाते वह कहानी सुनाती और वह कहानी तब तक खत्म नहीं होती. जब तक बच्चे अपना खाना खत्म नहीं कर लेते. उनकी यही खूबी मुझे विरासत में मिली और मै भी बचपन से ही कहानियां लिखने लगी.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT