5 टिप्स: बदलते मौसम में स्किन का रखें खास ख्याल

बदलते मौसम का स्किन पर बहुत गहरा असर पड़ता है. आपकी स्किन भी क्या धूप के गहरे प्रभाव में आ जाती है या फिर ठंडी हवा से रुखी हो जाती है. आज हम आपको बता रहे हैं कैसे बदलते मौसम में आप अपनी स्किन की देखभाल करें. बदलते मौसम के दौरान ये जरूरी होता है कि स्किन को एक अच्छे क्लीनजर और मॉइस्चराइजर से सुरक्षित किया जाए. आपके शरीर के अन्य हिस्सों के मुकाबले चेहरे की स्किन के टिश्‍यूज ज्यादा नाजुक होते हैं, इसीलिए इन्हें अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता होती है.

आपके चेहरे के लिए सही प्रोडक्‍ट्स के चयन से आप हर मौसम में अच्‍छी स्किन पा सकते हैं. जैसे सर्दियों में स्किन को मॉइस्चराइज रखना बहुत जरूरी होता है, क्योंकि सर्दियों में स्किन की नमी खोकर यह रूखी हो जाती है. वैसे ही गर्मियों के दिनों में स्किन को तैलीय होने से बचाना चाहिए. बदलते मौसम में स्किन की सुरक्षा के लिए जरूरी बातें..

1. स्किन के हाइड्रेशन का रखें ख्याल

ये बात न भूलें कि आपके शरीर के हर जगह पर स्किन की मोटाई, अलग-अलग होती है, इसलिए इनके उपाय भी अलग-अलग होते हैं. आप ये बात नहीं जानते होंगे कि आपके शरीर में हाथ और पैर कम तेल उत्पन्न करते हैं, इसलिए इन्हें बार-बार मॉइस्चराइज करने की जरूरत पड़ती है. आपको रात में सोते समय मॉइस्चराइज का इस्तेमाल करना चाहिए. स्किन को मुलायम, लचीला तथा युवा बनाए रखने के लिए मिनरल ऑइल आधारित बॉडी लोशन लगाएं.

ये भी पढ़ें- 200 से कम की कीमत के ये 4 लिप बाम, रखेंगे आपके होठों का ख्याल

2. खरीदने से पहले जानें साबुन के बारे में

साबुन खरीदते समय ध्यान दें कि आप 5 से 5.5 की पीएच वैल्यू के बीच का ही मुलायम साबुन खरीदें. आपको यह बात भी ध्यान रखना चाहिए कि आपके साबुन में पर्याप्त मात्रा में मिनरल ऑयल या ग्लिसरीन मौजूद हो. यदि बाजार में आपको ऐसा साबुन नहीं मिलता. तो आप नहाने के बाद मिनरल्स ऑयल पर आधारित बॉडी लोशन या मॉइस्चराइज भी लगा सकते हैं.

3. मौइस्चराइज से जुड़ी बातें जानें

मिनरल ऑइल आपकी स्किन के लिए बहुत फायदेमंद होता है. अलग-अलग उम्र में शरीर विभिन्न हॉर्मोन्स पैदा करते हैं और एक उम्र के बाद ऐसा होना बंद हो जाता है, जिससे आपकी स्किन रूखी होने लगती है. इसलिए शरीर को नियमित तौर पर मॉइस्चराइज करना बहुत जरूरी होती है.

4. नहाते समय ध्यान रखें ये बात

अपने शरीर में हमेशा नमी बनाए रखने के लिए एक बात यह ध्यान रखें कि नहाने के बाद आप शरीर को पूरी तरह न सुखाकर, इसे हल्के से पोंछ कर एक अच्छी मॉइस्चराइज क्रीम लगाना चाहिए.

ये भी पढ़ें- Valentine’s Day: खास दिन के लिए ऐसे करें मेकअप

5. पैर का रखें ख्याल

पैरों को सबसे ज्यादा एक्सफोलिएट करने और मॉइस्चराइज करने की जरूरत होती है. आप ये कर सकते हैं कि एक हिस्सा मिनरल ऑइल के साथ दो हिस्सा ग्लिसरीन लें और इसे लगाकर पूरी रात लगाकर रखें. इससे आपकी स्किन हाइड्रेट होती है और नर्म एवं मुलायम भी बनेगी. गर्मियों के मौसम में भी पैरों को इसकी जरूरत होती है.

Valentine’s Special: जानें क्या है महिलाओं के अच्छे बाल और स्किन के लिए पोषण की जरुरतें

स्वस्थ शरीर और बेहतर जीवनशैली के लिए सही पोषण जरुरी है. आप का पूरा व्यक्तित्व खासकर आप की स्किन, बाल और नाखून आप के स्वास्थ्य का आईना कहे जाते हैं. सही पोषण आप को आकर्षक और सेहतमंद दिखाने में मददगार है. इस सन्दर्भ में स्पर्श हॉस्पिटल की न्यूट्रीशनिस्ट आनंधी अय्यर से जानते हैं पोषण से जुड़ी आवश्यक जानकारी ;

स्किन:

स्किन शरीर का सब से बड़ा अवयव है. यह रोगाणुओं और संक्रमण से हमारे शरीर की रक्षा करता है. स्वस्थ चमकती स्किन अच्छी सेहत का संकेतक है. स्किनकेयर इंडस्ट्री में एंटीएजिंग क्रीम एक फलनेफूलने वाली इंडस्ट्री है. लेकिन एक अनिवार्य सच्चाई यह है कि हम जो कुछ शरीर के अंदर लेते हैं उसी के अनुरुप हमारा शरीर बाहर से चमकता है.

स्किन कम उम्र की लगे इस के लिए क्या खाना चाहिए?

स्वस्थ भोजन लेना महत्वपूर्ण है और हमें एंटी-ऑक्सिडेंट्स , फलों और सब्ज़ियों से भरपूर खाद्यपदार्थों को अपने आहार में शामिल करना चाहिए. प्रतिदिन सब्ज़ियों की कम से कम 5 सर्विंग्ज़ और फलों के 2 सर्विंग्ज़ बेहद ज़रुरी है.

किस तरह का आहार स्किन की सेहत सुधारता है?

लायकोपेन, ल्यूटिन, बीटा कैरोटीन और विटामिन सी टोमैटो में प्रचूर मात्रा में उपलब्ध होते हैं जो एक स्वस्थ शरीर के रखरखाव में सहायक होते हैं. इसे ऑलिव ऑइल जैसे वसा(चर्बी) के स्त्रोत के साथ मिलाने से इस के शरीर में समावेशित किए जाने में मदद मिलती है. ब्रोकली में विटामिन ए, विटामिन सी और ल्यूटिन होता है जो शरीर को ऑक्सिडेटिव क्षति से बचाने में मदद करता है. इस में सल्फोराफेन भी मौजूद होता है जो सूरज से होनेवाली क्षति के खिलाफ शक्तिशाली एंटी-ऑक्सिडेंट है.

ये भी पढ़ें- सेंसिटिव स्किन पर pain less वैक्सिंग के लिए करें ये 4 काम

लाल और पीली शिमला मिर्च में एंटी-ऑक्सिडेंट्स होते हैं और बीटा कैरोटीन के ये स्त्रोत हैं जो स्किन की रक्षा करने में सहायक होते हैं. इस के साथ ही ये विटामिन सी का अच्छा स्त्रोत है जो रुखेपन और झुर्रियों से स्किन का बचाव करता है.

गाजर, शकरकंद, संतरा और पालक में पाया जानेवाला बीटा कैरोटीन प्राकृतिक धूप अवरोधक का काम करता है.

क्या स्वस्थ फैट (वसा) स्किन के लिए अच्छा है?

वसा के कम मात्रा में सेवन से स्किन रुखी और झुर्रीदार हो जाती है. हमें अपने आहार में अखरोट जैसे नट्स, अलसी के बीज, एवोकैडो, सूरजमुखी फूलों के बीज और वसायुक्त मछलियां जैसे सैल्मन, मैकरेल (बांगड़ा) और हेरिंग से मोनो-अनसैचुरेटेड और पॉली-अनसैचुरेटेड फैट (वसा) शामिल करना चाहिए .

क्या चॉकलेट खाना  स्किन के लिए अच्छा है?

डार्क चॉकलेट का एक टुकड़ा खाने से आप की स्किन पर ज़बरदस्त असर पड़ता है क्यों कि इस में मौजूद कोकोआ एंटी-ऑक्सिडेंट्स का एक स्त्रोत है और अल्ट्रावॉयलेट रेडिएशन (पराबैंगनी विकिरण) से रक्षा करता है.

क्या अंड़ों से मुंहासे आते हैं?

अंडे प्रोटिन, विटामिन ए, ई, सेलेनियम और ज़िंक का स्त्रोत हैं. किसी भी अन्य खाने की तरह यदि इस का सेवन ज़रुरत से ज़्यादा किया जाए तो इस से समस्या आ सकती है. एक अंडे में 54 एमजी पोटैशियम होता है जो आप के चेहरे को साफ रख सकता है.

बाल :

बालों का विकास लोगों के लिए अलगअलग होता है और इस की औसत वृद्धि करीब 1.5 इंच प्रति महीना होती है.

स्वस्थ बालों के लिए क्या खाएं?

मछली, अंडे, एवोकैडो, अखरोट, बीज, डेयरी उत्पाद जैसे प्रचुर मात्रा में फैट के स्त्रोत खाएं.

बालों के विकास में कौन से विटामिन महत्वपूर्ण हो सकते हैं?

विटामिन डी की कमी का संबंध बालों के गिरने से है. विटामिन डी का स्तर बनाए रखने के लिए धूप में 15-20 मिनट तक रहना सहायक हो सकता है. एक और विटामिन जो बालों में वृद्धि के लिए जाना जाता है वो है बी विटामिन बायोटिन. आमतौर पर इस की कमी बहुत दुर्लभ होती है क्यों कि ये संपूर्ण अनाज, नट्स, मछली, सीफूड, हरे पत्तेवाली सब्ज़ियों जैसे अनेक खाद्यपदार्थों में मिलता है. वीगन (शाकाहारी) इस के सप्लीमेंट के सेवन के बारे में विचार कर सकते हैं. महिलाओं में लोहे की कमी के चलते बाल झड़ने की समस्या आ सकती है. इसलिए पर्याप्त मात्रा में हरे पत्तियों की सब्ज़ियां, लाल मांस, दालें, खजूर और अंजीर का सेवन करें. अपने सभी आहार में प्रोटिन के स्त्रोत का इस्तेमाल करें. बालों का गिरना प्रोटिन की कमी से भी जुड़ा हुआ है. बालों को गिरने से बचाने के लिए अन्य सुझाव हैं- हेयर जेल, रासायनिक उत्पाद आदि का सीमित उपयोग.

बालों के लिए कौन  से पोषण की ज़रुरत है ?

स्वस्थ संतुलित आहार लेना हेयर शाफ्ट के रखरखाव में सहायक होता है. बालों की वृद्धि में ज़िंक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. सीप/घोंघा, गोमांस, नट्स, बीज, गेहूँ के अंकूर, दाल  जैसे खाद्य पदार्थ आप के आहार में ज़िंक लाने में मदद करते हैं.

ये भी पढ़ें- 4 टिप्स: स्‍टीमिंग से आएगा चेहरे पर निखार

नाखून:

नाखूनों की सख्त सतह हाथों और पैरों की ऊंगलियों की रक्षा करने में सहायक होती है. नाखून प्रोटीन से बनते हैं इसलिए अपने  आहार में मछली, गो-मांस, अंडे, जैसे स्त्रोत शामिल करें. सूखे नाजुक नाखून जो आसानी से टूट जाते हैं खराब स्वास्थ्य के एक संकेतक हो सकते हैं.

क्या आहार से नाखूनों की वृद्धि में सुधार आ सकता है?

प्रचुर मात्रा से युक्त जामून, केले, संतरे, अमरुद, आंवला और अन्य मौसमी फल आप की ये ज़रुरतें पूरी कर सकते हैं. स्ट्रॉबेरी, किवी में विटामिन सी भरपूर होता है जो नाखूनों को मज़बूत करने वाले कोलेजन के उत्पादन में मदद करते हैं. खुबानी, केले जैसे सुखाए गए फलों में विटामिन ए, बी6 प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होता है.

पालक, ब्रोकली, चौलाई, मेथी जैसी हरे पत्ती वाली सब्ज़ियां पर्याप्त मात्रा में लोह, फोलेट, कैल्शियम प्राप्त कर नाखूनों को मज़बूत करने में मदद मिलती है

स्वस्थ नाखूनों के लिए कौन से विटामिनों की कमी दूर करनी चाहिए?

गाजर, शकरकंद, कद्दू में भरपूर मात्रा में विटामिन ए पाया जाता है जो एक महत्वपूर्ण एंटी-ऑक्सीडेंट है. टोमैटो, शिमला मिर्च में प्रचुर मात्रा में विटामिन सी उपलब्ध होता है जो कोलेजन के निर्माण में सहायक होता है. दाने और बीज का इस्तेमाल फैट, प्रोटिन और मैग्नेशियम के स्वस्थ स्त्रोत के रुप में करें. आप के नाखूनों में खड़ी लकीरें मैग्नेशियम की कमी के कारण हो सकती हैं. सूरजमुखी और अलसी के बीजों में भरपूर मात्रा में विटामिन बी6, ज़िंक और विटामिन ई पाया जाता है.

कौन सा आहार नाखूनों को मज़बूत बनाता है ?

कैल्शियम और प्रोटिन से भरपूर डेयरी उत्पाद मज़बूत नाखूनों के निर्माण में मदद करते हैं. अंड़ों में भरपूर मात्रा में प्रोटिन और विटामिन बी12, बायोटिन या विटामिन बी 7, विटामिन ए, ई और सल्फर मौजूद होता है. सेम और फलियों में बायोटिन, प्रोटिन और खनिज से भरे होते हैं. इन का सेवन करें और फायदे हासिल करें.

ये भी पढ़ें- जाने क्या है फेस मिस्ट के 10 फायदे

बढ़ती उम्र में ट्राय करें मेकअप के 40 टिप्स

थोड़ी उम्र बढ़ने पर शरीर में कोलोजन कम होने लगता है और स्किन टैक्स्चर में परिवर्तन आ जाता है. इस का परिणाम यह होता है कि स्किन पहले जैसी मुलायम और लचीली नहीं रहती और नमी कम होने से झुर्रियां दिखने लगती हैं. ऐसे में इन बदलावों को छिपाने और सुंदर दिखने के लिए मेकअप की बहुत जरूरत होती है. किंतु मेकअप करने की सही जानकारी न होने से चेहरा सुंदर दिखने की जगह भद्दा दिखने लगता है. अत: इन टिप्स पर गौर कर बढ़ती उम्र में भी अपनी सुंदरता से सब को मंत्रमुग्ध कर सकती हैं:

1. स्किन की नमी बनी रहे, इस के लिए हाइड्रेटिंग प्राइमर का इस्तेमाल करना ठीक होगा.

2. फाउंडेशन या बेस क्रीम स्किन से मेल खाते रंग से 1 शेड कम चुनी जाए तो उम्र कई गुना कम दिखेगी.

3. बीबी क्रीम को अपना साथी बना लें. मेकअप से पहले चेहरा इस से कवर करें.

4. चेहरे पर दागधब्बे अधिक हों तो बीबी की जगह सीसी क्रीम का प्रयोग करें.

5. फाउंडेशन लगाने के लिए ब्रश या ब्यूटी ब्लैंडर स्पंज का इस्तेमाल करते हुए तब तक ब्लैंड करें जब तक वह स्मूद न हो जाए तथा चेहरे की बारीक धारियां छिप न जाएं. हाथ के प्रयोग से फाउंडेशन ऊपरी सतह पर ठहर जाएगा और चेहरा जवां दिखने की जगह असामान्य दिखने लगेगा.

ये भी पढ़ें- फटी एड़ियां: अब कल की बात

6. फेस पाउडर का प्रयोग कम ही करें और ऐसे स्थान पर तो बिलकुल ही न करें जहां उम्र की लकीरें दिख रही हों जैसेकि आंखों के आसपास. वहां पाउडर अप्लाई करने से ‘क्रो फीट’ साफसाफ दिखने लगते हैं.

7. ‘टी जोन’ यानी माथे, नाक, मुंह के आसपास के हिस्से और ठोड़ी पर हाइलाइटर का प्रयोग करने से वहां चमक दिखने लगती है, जिस से चेहरे की झुर्रियों पर ध्यान नहीं जाता. हाइलाइटर अपनी स्किन टोन के अनुसार चुनें. ध्यान रहे कि वह लिक्विड फौर्म में हो.

8. चेहरे की तरह गरदन पर भी प्राइमर व फाउंडेशन लगाएं वरना गले पर पड़ी झुर्रियां चेहरे की सुंदरता खराब कर सकती हैं.

9. ब्लश का एक टच ही खूबसूरती में निखार लाता है. हलका गुलाबी या पीच रंग का ब्लश इस आयु के लिए ठीक रहेगा.

10. कंसीलर लिक्विड लगाना ठीक है, थिक या वाटरप्रूफ कंसीलर नहीं. इस उम्र में आंखों के आसपास की स्किन काली होने लगती है और झुर्रियां भी अपना असर दिखाने लगती हैं. थिक या वाटरप्रूफ कंसीलर स्किन में जज्ब नहीं हो पाता. फलस्वरूप उस हिस्से को ठीक ढंग से छिपा नहीं पाते.

11. इस आयु में भौंहों के बालों में थोड़ा गैप दिखने लगता है. इसे आईब्रो पैंसिल से भर कर सही आकार दिया जा सकता है. काले रंग की जगह नैचुरल ब्राउन पैंसिल का प्रयोग करना ठीक होगा.

12. आईब्रोज ग्रोथ सीरम से भी आईब्रोज को सही आकार दिया जा सकता है. यह आईब्रोज को चमक भी देता है, जिस से चेहरा युवा दिखता है.

13. इस उम्र में आईशैडो न्यूट्रल कलर का ही फबता है. हलके रंग के आईशैडो की लेयर लगाने के बाद क्रीज लाइन पर उस रंग से 1 शेड गहरी लेयर लगाई जाए तो पल में नैचुरल और सुंदर दिखेंगी.

14. इस आयु में आईशैडो के बहुत गहरे और चमकीले रंग या फिर कांतिहीन जैसे ग्रे कलर के प्रयोग से बचना चाहिए. गहरे रंग के प्रयोग से जहां आंखों में बनावटीपन लगता है वहीं चमकरहित रंग का प्रयोग आंखों में थकान के रूप में दिखने लगता है.

15. विवाह आदि के लिए शिमर आईशैडो का प्रयोग व दिन के समय पार्टी के लिए तैयार होना हो तो साटन फिनिश आईशैडो लगाना सही होगा.

16. नीचे की पलकों पर मसकारा लगाने से झुर्रियां उभर कर दिखने लगती हैं. अत: केवल ऊपरी पलकों पर ही इस का प्रयोग ठीक होगा.

17. लिक्विड लाइनर की जगह जैल बेस्ड लाइनर का प्रयोग बेहतर नतीजा देता है.

18. आईलाइनर की चौड़ी लाइन न लगा कर पलकों पर पतली सी रेखा खींचें.

19. इस आयु में विंग्ड आईलाइनर लगाने से बचना चाहिए.

20. कभीकभी पलकों के बाल इस उम्र में झड़ कर कम होने लगते हैं. यदि ऐसा है तो आर्टिफिशियल लैशेज का प्रयोग कर उन्हें घना रूप दिया जा सकता है.

21. किसी समारोह के लिए मेकअप करते हुए आंखों के नीचे डार्क सर्कल्स छिपाने के लिए ल्यूमिनस कंसीलर का प्रयोग करना सही होगा.

22. यदि आंखों पर चश्मा लगा है तो उस के निशान से बचने के लिए अधिक मेकअप करने की भूल न करें वरना चश्मा पहनने पर मेकअप बाहर निकलता प्रतीत होता है.

23. लिपस्टिक लगाने से पहले डैड स्किन को हटाने के लिए ऐक्सफौलिएशन करना ठीक होगा.

24. इस आयु में होंठों पर खुश्की रहती है, इसलिए ऐक्सफौलिएशन के बाद मौइस्चराइज्ड लिप बाम लगा कर हाइड्रेट करना सही कदम होगा.

ये भी पढ़ें- ब्लैकहैड्स और व्हाइटहैड्स को ऐसे करें दूर

25. यदि होंठ पिगमैंटेड हैं, तो हलका सा कंसीलर लगा कर अपनी पसंद का लिपस्टिक शेड अप्लाई करें.

26. गहरे रंग इस्तेमाल करने से परहेज न करें. बस वे रंग थोड़ा कालापन लिए हुए न हों और न ही ब्राइट लुक दें. जैसे यदि मैरून शेड का प्रयोग करना हो तो वाइन की जगह रोज या ब्रिक शेड का प्रयोग होंठों को नई परिभाषा देगा.

27. मौइस्चर रिच लिपस्टिक का इस्तेमाल करना सही होगा.

28. इस आयु में स्किन के टिशूज सिकुड़ने लगते हैं, जिस से होंठ भी सिकुड़े हुए और पतले दिखते हैं, इसलिए लिपस्टिक लगाने से पहले लिपलाइनर का प्रयोग करना सही कदम होगा. इस के प्रयोग से होंठ बड़े और शेप में दिखाई देंगे.

29. होंठों को उभरा हुआ दिखाने के लिए लिपग्लौस सही माध्यम है.

30. बालों को खुला छोड़ देने से उम्र कम दिखती है. इस के विपरीत बन बड़ी उम्र का लुक देता है और पोनी करना बचकानापन सा लगता है.

31. बाल रंगने के लिए उन के रंग से 1 शेड हलका कलर इस्तेमाल करना सही होगा.

32. मेकअप करते हुए चेहरे का एक हिस्सा ही अधिक ब्राइट दिखाएं जैसे यदि लिपस्टिक का रंग गहरा है तो बिंदी हलके रंग की या साइज में छोटी चुनना बेहतर होगा. शिमर आईशैडो का इस्तेमाल किया हो तो मैट लिपस्टिक का चुनाव करना ठीक होगा.

33. ‘थोड़ा ही काफी है’ का पालन करते हुए भारीभरकम मेकअप से बचना चाहिए.

34. इस उम्र में शरीर की स्किन में रूखापन अधिक हो जाता है. चेहरे पर मेकअप हो, किंतु हाथपैर ड्राई हों तो देखने में भद्दे लगते हैं. इस के लिए नहाने के बाद बौडी बटर का प्रयोग करना उचित होगा.

35. प्रतिदिन ऐंटीएजिंग क्रीम का चेहरे पर प्रयोग स्किन में कोलोजन की मात्रा बढ़ा कर उसे जवां बनाए रखने में सहायक होता है.

36. आंखों के आसपास के कालेपन और झुर्रियों को कम करने के लिए सोने से पहले आंखों के नीचे अंडर आई क्रीम या जैल का प्रयोग किया जाना चाहिए.

37. गरमियों में चेहरे की स्किन के झुलसने, ब्राउन स्पौट्स पड़ने की संभावना बढ़ जाती है, इसलिए एसपीएफ को अपने रूटीन में शामिल करें. दिन में 2 बार आइस क्यूब्स से चेहरे की मसाज झुर्रियों को दूर करती है.

38. सर्दियों में प्रत्येक सप्ताह स्पून मसाज करना झुर्रियों को कम करने में कारगर सिद्ध होगा. इस के लिए औलिव औयल को गरम कर उस में चम्मच डुबो कर उस के उभरे हिस्से से चेहरे की मालिश करते हुए सर्कल्स पर हलका दबाव डालना चाहिए. मालिश 2 मिनट का गैप रखते हुए 10-15 मिनट तक करें.

ये भी पढ़ें- पलकों को बनाएं घना और सुंदर

39. लगभग 20 दिनों के अंतराल पर फेशियल करवाते रहना चाहिए. इस में रिंकल्स व स्किन के ढीलेपन को दूर कर कसाव लाने वाला फेस पैक इस्तेमाल हो.

40. सीटीईएमपी यानी क्लींजिंग, टोनिंग, ऐक्सफौलिएशन, मौइस्चराइजिंग और प्रोटैक्शन को साथी बनाएं. ये सभी बढ़ती उम्र की स्किन पर निखार लाते हैं.

फटी एड़ियां: अब कल की बात

हमारे शरीर का हर हिस्सा हमारी खूबसूरती को बयां करता है, लेकिन ध्यान सिर्फ चेहरे की तरफ ही जाता है और बाकी हिस्सों को नजरअंदाज कर दिया जाता है, जिन में एड़ियां भी शामिल हैं, जो बेजान व रूखी होने की वजह से फट जाती हैं और कभीकभी तो स्थिति इतनी बदतर हो जाती है कि खून निकलने की नौबत भी आ जाती है. हालांकि सर्दियों के मौसम में यह परेशानी अधिक बढ़ जाती है और कभीकभी तो असहनीय पीड़ा होती है. अगर आप भी इसी परेशानी से गुजर रही हैं और अपनी एडि़यों को खूबसूरत बनाना चाहती हैं, तो यह जानकारी आप ही के लिए है:

क्यों फटती हैं एड़ियां

आप की एड़ियों के फटने के कई कारण हो सकते हैं, जहां मौसम में बदलाव इस का कारण सम झा जाता है, वहीं लंबे समय तक खड़े रहना, नंगे पांव चलना, पैरों को पानी में अधिक रखना, गलत फुटवियर पहनना आदि भी इस के कारण हो सकते हैं या फिर डायबिटीज, थॉयराइड, मोटापा आदि भी एड़ियां फटने का कारण हो सकते हैं.

1. एड़ियों को यों खूबसूरत बनाएं

वैसलीन, पैट्रोलियम जैली एडि़यों के लिए वरदान हैं. इन्हें लगाते ही एड़ियां बिलकुल सौफ्ट हो जाती हैं. नीबू का रस और वैसलीन मिला कर उस से फटी एडि़यों पर रोजाना रात में सोने से पहले हलकी मसाज करें. इस से एड़ियां जल्द ही ठीक होने लगेंगी.

ये भी पढ़ें- ब्लैकहैड्स और व्हाइटहैड्स को ऐसे करें दूर

2. नारियल का तेल

नारियल का तेल सिर्फ बालों के लिए ही नहीं, बल्कि एडि़यों की स्किन को भी मौइस्चराइज करने का काम करता है. यह डेड स्किन को हटा कर गहराई तक जा कर नमी प्रदान करता है. अगर आप मुलायम और चमकदार एड़ियां पाना चाहती हैं तो रोजाना रात में एडि़यों में नारियल का तेल लगाएं और फिर मोजे पहन लें.

3. विटामिन ई कैप्सूल

विटामिन ई कैप्सूल जहां चेहरे पर ग्लो लाता है, वहीं एडि़यों पर लगाने से वहां की स्किन को पोषण भी देता है, साथ ही हाइड्रैट भी करता है.

4. तिल का तेल

तिल का तेल खाने के साथसाथ एडि़यों को भी ठीक करता है. इस में कई पोषक तत्त्वों के साथ ऐंटीबैक्टीरियल गुण भी पाए जाते हैं जो स्किन की गहराई में जा कर उन्हें हील करते हैं. स्किन को रिपेयर करने के लिए यह बेहतरीन विकल्प है.

5. सरसों का तेल

सरसों के तेल से भी आप अपनी फटी एडि़यों की समस्या से छुटकारा पा सकती हैं. इस के लिए बस नहाने से 30 मिनट पहले एडि़यों की अच्छी तरह सरसों के तेल से मालिश करें. नहाने के बाद भी पैरों में तेल लगाएं.

6. मोम

मोम और नारियल के पेस्ट से भी फटी एडि़यों के दर्द से काफी राहत मिलती है. इस के लिए आप थोड़ा मोम लें और उस में सरसों या नारियल का तेल डाल कर पिघला लें. इस के बाद जब मिक्स्चर हलका ठंडा हो जाए तो एडि़यों में लगा लें. इसे आप रात में लगाएंगी तो आप को दर्द से ज्यादा राहत मिलेगी.

7. फटी एडि़यों के लिए क्रीम

अगर आप के पास समय की कमी है और आप एडि़यों की दरारों को भरने के लिए घरेलू नुसखे नहीं अपना सकती हैं तो बाजार में ऐसी बहुत सी क्रैक हील क्रीम्स भी मौजूद हैं, जिन में बोरोलीन, क्यूटिमैक्स, क्रैक क्रीम, एमोलीज, खादी हर्बल फुट क्रैक क्रीम आदि शामिल हैं.

ये भी पढ़ें- पलकों को बनाएं घना और सुंदर

8. हील मेट क्रीम

अगर आप कोई ऐसी क्रीम ढूंढ़ रही हैं, जो कुछ दिनों में ही फटी एडि़यों से आप को राहत दिला दे, तो हील मेट क्रीम सब से बेहतर है, जो 3 दिनों में फटी एडि़यों से राहत देती है. इस में कैलैंड्यूला ग्लिसरीन, जैसमीन, कोकम बटर, लैनोलीन, पैट्रोलियम जैली और यूरिया आदि चीजों का मिश्रण है, जो आप की एडि़यों को गहराई से हील करेगा और उन्हें मुलायम और सुंदर बनाएगा.

9. कैसे करें इस्तेमाल

रात में सोने से पहले पैरों को अच्छी तरह से कुनकुने पानी से साफ कर लें और फिर कपड़े से पोंछ कर सुखा लें. अब एडि़यों पर हील मेट क्रीम लगाएं और 15 मिनट के लिए ऐसे ही खुला रहने दें. इस के बाद मोजे पहन कर सो जाएं.

बर्थडे स्पैशल: कैटरीना से जानें उनकी खूबसूरती का राज

अपनी हुस्न से सबको दीवाना बनाने वाली, अपने ठुमको पर सबको नचाने वाली कभी शीला तो कभी चिकनी चमेली बन कर सबके दिलो में अपनी जगह बनाने वाली कैटरीना कैफ का आज जन्मदिन हैं. कैटरीना का जन्म 16 जुलाई 1983 को हांगकांग में हुआ था. कैटरीना बचपन से ही खूबसूरत हैं. मात्र 14 साल की उम्र में ही कैटरीना ने मौडलिंग की दुनिया में कदम रख लिया था. आज कैटरीना बेहतरीन अभिनेत्री और एक खूबसूरत मौडल हैं.

कैटरीना के ब्यूटी के चर्चे हर जगह है. तभी तो कैट को बार्बी डौल लुक्स के लिए भी जाना जाता हैं. दरअसल, सन् 2011 में मैटेल कंपनी द्वारा एक बार्बी डौल बनाई गई थी जो बिलकुल कैटरीना के लुक्स पर आधारित थी.

आज कैटरीना 36 वर्ष की हो गई हैं लेकिन उनकी खूबसूरती किसी 16 वर्ष की लड़की से कम नहीं हैं. आखिर कैटरीना अपनी खूबसूरती को बरकरार रखने लिए क्या करती हैं? यह सवाल आप सबके मन में भी जरूर आता होगा तो आइए जानते है कैटरीना की खूबसूरती का राज.

बर्फ से करती है मसाज

कैटरीना की दिन की शुरुआत ठंडे ठंडे बर्फ से होती हैं. कैटरीना हर सुबह एक बाउल में बर्फ और ठंडा पानी डाल कर अपने चेहरे को उस में भिगोती हैं. हर कुछ सेकेंड्स में वह चेहरा बाहर निकालती है और फिर भिगोती हैं. बाद में बर्फ से मसाज करती हैं.

ये भी पढ़ें- एक्ट्रेस समीरा रेड्डी ने बेटी के लिए लिखा इमोशनल मैसेज, फोटोज वायरल

बर्फ चेहरे के लिए बहुत लाभदायक होता है. बर्फ के पानी में चेहरे को भिगोने से चेहरा का फेट कम होता हैं, पिम्पल्स जैसी दिक्कत नहीं होती, इससे चेहरे का सूजन और डार्क सर्कल भी ठीक हो जाता है.

ज्यादा से ज्यादा पानी पिती हैं

कैटरीना कितनी भी बीजी क्यों न हों वह पूरे दिन में 10 से 12 ग्लास पानी जरूर पीती हैं. कैटरीना का कहना है, ‘ बाहरी सुंदरता से ज्यादा आंतरिक सुंदरता मायने रखती है.’ इसलिए बाहर से ज्यादा खुद को अंदर से ब्यूटीफुल रखना बेहद जरूरी है. पानी से त्वचा हेल्दी भी रहता है और इसका ग्लो बरकरार रहता है.

एक्सरसाइज करना नहीं भूलती कैटरीना

कैटरीना खुद को फिट और ब्यूटीफूल दिखाने के लिए हमेशा एक्सरसाइज के लिए एक घंटा निकालती है. कैटरीना का मानना है, ‘ एक्सरसाइज सभी के लिए जरूरी है. इससे शरीर को अनेक फायदे मिलते है. एक्सरसाइज से खून का संचार बढ़ता है जिससे स्किन फ्रेश और ग्लौइंग दिखती है. इससे स्किन जल्दी लूज नहीं होती, आप पूरा दिन एक्टिव रहते हैं और हमेशा यंग दिखते हैं.’

अधिक मेकअप के खिलाफ है कैटरीना

कैटरीना अपनी स्किन का बहुत ध्यान रखती है. इसलिए सोने से पहले वो मेकअप हटाना जरूरी समझती है. वैसे कैटरीना को अधिक मेकअप करना पसंद नहीं. इसलिए वह अपनी रोजाना मेकअप किट में सिर्फ संसक्रीन, लीपबाम, रखना पसंद करती है. कैटरीना अपने चेहरे को ग्लौइंग बनाने के लिए फैशियल का इस्तेमाल नहीं करती इसके जगह कैट गुनगुने नारियल तेल से मसाज करना पसंद करती हैं. नारियल तेल चेहरे को हाइड्रेटेड रखता है, प्रदूषण से बचाता है और यह आपकी त्वचा को डिटौक्सीफाय भी रखता है.

ये भी पढ़ें- पत्रकारों के खिलाफ कंगना का रौद्र रूप, मीडिया को दिया ये जवाब

खूबसूरती के लिए खाने-पीने पर रखती है खास ध्यान

कैटरीना खाने में प्रोटीन, फाइबर और हेल्दी फेट वाला खाना खाना पसंद करती है. सुबह के नाश्ते में कैटरीना ओट्स और फ्रूट खाना पसंद करती है. खाने में कैटरीना फिश या उब्ली सब्जियों के साथ अकाई बैरी और व्हीटग्रास पाउडर लेती हैं. फिश और सब्जियों में भरपूर मात्रा में फाइबर और प्रोटीन मिलता है जिससे त्वचा की सुंदरता बढ़ने लगती है.

शाम में कैट सेंडविच खाना पसंद करती है. और रात के खाने में सूप के साथ एग व्हाइट खाना पसंद करती है. अगर आप भी कैटरीना की तरह ग्लौइंग और ब्यूटीफुल दिखना चाहती है तो आप उनके इस बेहतरीन दिनचर्या को जरूर फौलो करें.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें