चुगली की शुरुआत ही किसी मसालेदार या चटपटी  ख़बर से होती है, इसलिए बाल मनोवैज्ञानिक कहते हैं कि बच्चो को ऐसी कोई भी बात बहुत रोचक लगती है वो  इन्हें उच्च श्रेणी की कहानी  मान लेते हैं. आपको यदि आपके बच्चे भी  अपने आसपास की चटपटी ख़बरें, वो भी नमक-मिर्च लगाकर सुना रहे  हों, तो आप एकदम सजग हो जायें.  ये आदत आपके बच्चे के  पूरे व्यक्तित्व को  खराब कर सकती है और उनको कल्पना की ऐसी दुनिया में ले जाएगी जो बहुत ही अवसाद वाली होगी  जहां वास्तविकता तो मुश्किल से  एक प्रतिशत भी नहीं  होगी और मसाला तथा झूठ सौ प्रतिशत.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT