नेहा की शादी बड़ी धूम-धाम से हुई थी. पति के नये घर-परिवार में नेहा को स्पेशल ट्रीटमेेंट मिल रहा था. अक्षय अपने माता-पिता का इकलौता बेटा था, ऐसे में उसकी पत्नी नेहा की आव-भगत भला क्यों न होती? तीन महीने हो गये थे, सास ने उसे रसोई में घुसने भी नहीं दिया था. नेहा 15 दिन के हनीमून के बाद लौटी, तो जरूरत की हर चीज उसके कमरे में ही पहुंच जाती थी. घर के तीनों नौकर हर वक्त उसकी खिदमत में हाजिर रहते थे. किट्टी पार्टी, रिश्तेदारों और मोहल्ले भर में उसकी सास उसकी खूबसूरती और व्यवहार के कसीदे काढ़ते घूमती थी. शाम को नेहा अक्सर सजधज कर हसबैंड के साथ घूमने निकल जाती. दोनों फिल्म देखते, रेस्ट्रां में खाना खाते, शॉपिंग करते. जिन्दगी मस्त बीत रही थी. मगर अचानक एक दिन नेहा के सुखी वैवाहिक जीवन का महल भरभरा कर गिर पड़ा.

उस दिन उसकी सास पड़ोसी के वहां बैठी थी, जब पड़ोसी के बेटे ने अपने कम्प्यूटर पर नेहा के अश्लील चित्र उसकी सास को दिखाये. ये चित्र उसने नेहा के फेसबुक अकाउंट से डाउनलोड किये थे, जहां वह अपनी अर्द्धनग्न तस्वीरें पोस्ट करके सेक्स के लिए युवकों को आमंत्रित करती थी. शर्म, अपमान और दुख से भरी नेहा की सास ने बेटे को फोन करके तुरंत घर बुलाया. पड़ोसी के कम्प्यूटर पर बैठ कर नेहा का फेसबुक अकाउंट चेक किया गया तो अक्षय के भी पैरों तले धरती डोल गयी. तस्वीरें देखकर इस बात से इनकार ही नहीं किया जा सकता था कि यह नेहा नहीं थी और इस अकाउंट से यह साफ था कि वह एक प्रॉस्टीट्यूट थी. उसने वहां पर बकायदा घंटे के हिसाब से अपने रेट डाल रखे थे. अपनी अश्लील कहानियां तस्वीरों के साथ डाल रखी थीं. बड़ा हंगामा खड़ा हो गया. नेहा के परिवार वालों को बुलाया गया. खूब कहा-सुनी हुई. नेहा मानने को ही तैयार नहीं थी कि वह फेसबुक अकाउंट उसका था, मगर जो तस्वीरें सामने थीं वह उसी की थीं. नेहा के माता-पिता भी हैरान थे.

सैक्स संबंधों में उदासीनता क्यों?

नेहा का कहना था कि वह फेसबुक पर कभी थी ही नहीं. उसने लाख मिन्नतें कीं, लाख सफाईयां दीं, लाख कहा कि ये फर्जी अकाउंट है, मगर सब बेकार. उसको उसी दिन उसके माता-पिता के साथ मायके वापस जाना पड़ा. उसके ससुराल वाले ऐसी बहू को एक पल के लिए भी अपने घर में नहीं रखना चाहते थे, जिसके चरित्र के बारे में मोहल्ले वालों को भी पता चल चुका था. अक्षय के परिवार के लिए यह घटना शर्म से डूब मरने जैसी थी. जैसे उनके मुंह पर भरे बाजार किसी ने कालिख पोत दी थी. इस परिवार का मोहल्ले में बड़ा आदर-सम्मान था.
उधर नेहा का रो-रोकर बुरा हाल था. मायके लौटते वक्त उसे बार-बार अपने एक्स बौयफ्रैंड नितिन का ख्याल आ रहा था. हो न हो, यह काम उसी का हो सकता है. उसी ने बदला लेने के लिए उसकी ऐसी तस्वीरें सोशल मीडिया पर अपलोड की हैं. मगर यह तस्वीरें उसने कब और कैसे खींचीं, यह बात नेहा को परेशान कर रही थी. नितिन के साथ वह तीन साल प्रेम में रही. कॉलेज खत्म होने के बाद उसने पाया कि नितिन शादी या अपने फ्यूचर को लेकर बिल्कुल चिन्तित नहीं है. न तो वह जौब ढूंढ रहा था, न किसी कौम्पटिशन की तैयारी कर रहा था. वह बस सैर-सपाटा, मौज-मस्ती में ही जी रहा था. ज्यादातर समय उसकी जेब खाली होती थी. यहां तक कि जब वे घूमने जाते या फिल्म देखने जाते तो सारा खर्चा नेहा ही करती थी क्योंकि उसको कॉलेज खत्म करते ही जॉब मिल गयी थी.

एक साल तक तो नेहा ने नितिन के इस लापरवाह व्यवहार को बर्दाश्त किया मगर फिर उसने फ्यूचर प्लैनिंग को लेकर उससे सवाल पूछने शुरू कर दिये. आखिर उसकी भी जिन्दगी का सवाल था. उसके सवालों से नितिन खीज उठता. उससे लड़ने लगता. नेहा को अहसास हो गया कि नितिन पति लायक मिटीरियल नहीं है. वह घर-गृहस्थी की जिम्मेदारी नहीं उठाना चाहता है. जबकि नेहा अब सेटेल होना चाहती थी. नेहा के माता-पिता को उसकी शादी की जल्दी थी. एक से एक रिश्ते आ रहे थे. अच्छे पढ़े-लिखे और बढ़िया जॉब वाले हैंडसम पुरुषों के रिश्ते थे. जिन्हें नजरअंदाज करना बेवकूफी थी.
आखिरकार तंग आकर नेहा ने नितिन के साथ अपने रिश्ते को खत्म करने का फैसला कर लिया. नितिन को उसका दूर होना काफी अखरा था.

गरीब की ताकत है पढ़ाई

ब्रेकअप की बात पर वह उससे काफी लड़ा-झगड़ा भी. मगर, कब नौकरी करोगे? कब शादी करोगे? कब अपने मां-बाप से मिलवाओगे? नेहा के ऐसे सवालों का उसके पास कोई जवाब नहीं था. नितिन से अलग होने के साल भर के अन्दर ही नेहा की शादी अक्षय से हो गयी. इस बीच वह न तो नितिन से मिली और न ही उससे फोन पर कोई बात हुई. इतना वक्त गुजरने के बाद नितिन इस तरह नेहा के नाम से फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर बदला लेगा, उसे बदनाम करने की कोशिश करेगा, ऐसा तो उसने सपने में भी नहीं सोचा था.
नेहा के कहने पर उसके माता-पिता ने पुलिस के साइबर सेल में नितिन के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया, मगर पुलिस की लेट-लतीफी के चलते छह महीने बीत चुके हैं, नितिन अभी तक उनके हत्थे नहीं चढ़ा है. इधर अक्षय के वकील की ओर से नेहा को तलाक का नोटिस मिल चुका है. एक्स बौयफ्रैंड की जलन और बदले की भावना ने नेहा की अच्छी-भली खुशहाल जिन्दगी खत्म कर दी है.

मेरठ की रागिनी भी अपने एक्स बौयफ्रैंड की हरकतों से परेशान है. पेशे से टीचर रागिनी को उसका एक्स बौयफ्रैंड मधुर आये दिन रास्ते में रोक कर डराने-धमकाने की कोशिश करता है. रागिनी पांच साल तक मधुर के साथ रिलेशनशिप में थी. मधुर की मोहक छवि ने रागिनी के दिलो-दिमाग पर जैसे कब्जा कर लिया था. वह अपनी आधी से ज्यादा सैलरी उस पर लुटाने लगी थी. मगर शादी की बात पर मधुर भी चुप लगा जाता था. रागिनी के माता-पिता ने भी कई बार मधुर से शादी के बारे में पूछा, मगर उसने कोई पक्का जवाब नहीं दिया. आखिरकार तंग आकर रागिनी ने उससे सम्बन्ध तोड़ लिये. कोलकाता के एक बड़े बिजनेसमैन प्रकाश के साथ जबसे रागिनी का रिश्ता तय हुआ है, वह खुश तो बहुत है, मगर दिल में मधुर का भय भरा हुआ है. यह डर इतना हावी है कि वह न तो शादी की खरीदारी के लिए घर से बाहर निकल रही है, न किसी से अपने रिश्ते की बात शेयर कर रही है. उसे और उसके माता-पिता को डर है कि जैसे ही मधुर को पता चलेगा कि उसकी शादी तय हो गयी है, वह जरूर कोई न कोई गलत हरकत करेगा. हो सकता है वह उसके होने वाले पति की जानकारी प्राप्त करके वहां कोई ऐसी बात पहुंचा दे, जिससे यह रिश्ता टूट जाएगा. हो सकता है वह रागिनी के साथ मारपीट करे या उसे शारीरिक नुकसान पहुंचाये. यह तमाम बुरे ख्याल रागिनी की खुशियों पर ग्रहण की तरह चस्पा हो गये हैं.

इस डर से रागिनी ने अपने सोशल मीडिया एकाउंट भी डिलीट कर दिये हैं, अपना मोबाइल फोन का नम्बर भी बदल दिया है, मगर डर है कि जाता ही नहीं है. मधुर के कारण ही रागिनी के माता-पिता बेटी की शादी कोलकाता जाकर कर रहे हैं. लड़के वालों को पहले तो यह बात अटपटी लगी थी, मगर इसमें उन्हें ही सहूलियत नजर आयी कि चलो, भारी-भरकम बारात लेकर मेरठ नहीं जाना पड़ेगा. काफी खर्चा बच जाएगा, यह सोच कर वे राजी भी हो गये. मेरठ में रागिनी के माता-पिता ने बेटी की शादी की बात बहुत नजदीकी रिश्तेदारों को बतायी है. कुछ गिने-चुने लोग ही शादी अटेंड करने के लिए कोलकाता जा रहे हैं. सबकुछ बेहद गुपचुप तरीके से प्लान हो रहा है. एक्स बौयफ्रैंड रागिनी के लिए ऐसा हौव्वा बन गया है कि वह अपनी खुशियां तक इन्जौय नहीं कर पा रही है.

खतरे में है व्यक्तिगत स्वतंत्रता

‘प्यार’, ये शब्द किसी के भी मन में उमंग जगा देता है. दो लोग जब प्यार में होते हैं, तो उनके लिए एक-दूसरे की खुशी सबसे ज्यादा जरूरी होती है. लेकिन हर लव स्टोरी सक्सेसफुल हो, ऐसा होता नहीं है. रिश्ते टूटते भी हैं, और यहीं से पैदा होती है – ‘नफरत’. जरूरी नहीं कि हर केस में ऐसा हो, लेकिन ज्यादातर में ऐसा होता है. ब्रेकअप होने पर कुछ लोग अपनी जिन्दगी में मस्त हो जाते हैं या दूसरा साथी ढूंढ लेते हैं, वहीं कुछ लोग बदला लेने की ठान लेते हैं. सोचते हैं कि वो मेरी नहीं हुई तो किसी और की कैसे हो सकती है?
शाहरुख खान की फिल्म ‘डर’ आपको याद होगी. ‘क…क….क… किरण’ वाली. ये भी दिल टूटे आशिक की कहानी है, जो ऐसा ही सोचता कि तू मेरी न हुई तो तुझे किसी और का होने न दूंगा. खैर, वो तो फिल्म थी, जिसमें जूही चावला एक पगलाये आशिक से बच जाती हैं, मगर नेहा और रागिनी की जिन्दगी कोई फिल्म नहीं है, हकीकत है. जिसमें वे अपने एक्स बौयफ्रैंड की गलत हरकतों, साजिश और बदले का शिकार बन गयी हैं.

रिश्ता तोड़ते वक्त रखें सावधानी

एक मशहूर गीत के बोल हैं – वो अफसाना जिसे अन्जाम तक लाना न हो मुमकिन, उसे एक खूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना अच्छा…. किसी के साथ रिश्ते में होना बेहद खूबसूरत अहसास है, मगर यह सुन्दर सपना जब टूटता है तो बड़ी चोट पहुंचती है. प्रेम सम्बन्ध टूटने की कुछ वजहें होती हैं – जैसे दोनों में से किसी एक का शादी के लिए राजी न होना, घरवालों का दबाव होना, धर्म-जाति का अलग-अलग होना, लड़के का नौकरी न करना, कोई फ्यूचर प्लैनिंग न होना वगैरह, वगैरह. जब आपको लगे कि आपका रिश्ता किसी मन्जिल तक नहीं पहुंच सकता तो ठीक-ठीक वजहें सामने रखकर अलग-अलग राह चुनने के लिए अपने पार्टनर से खुल कर बात करें. अगर वह आपसे सचमुच प्यार करता है तो वह आपकी बात को जरूर समझेगा.

ऐसे में आप आपसी समझौते के साथ एक दूसरे से खुशी-खुशी अलग हो सकते हैं. यदि आपका बौयफ्रैंड आपसे किसी मतलब से जुड़ा हुआ है तो वह आपको धमकी देने की या डराने की कोशिश करेगा. हो सकता है वह आपको ब्लैकमेल भी करे. ऐसे में तुरंत अपने माता-पिता को उसके बारे में बताएं और उसकी पुलिस कम्प्लेंट करें. ऐसे लोगों से डरने की कतई जरूरत नहीं है. डरने से इनके हौंसले बुलंद होते हैं और आप ठगी और ब्लैकमेलिंग का शिकार बन सकती हैं.
इसके अलावा ब्रेकअप के वक्त और उसके बाद कुछ बातें आपको ध्यान में रखनी चाहिएं ताकि भविष्य में जिससे भी आपकी शादी हो, उसके साथ आप खुश रह सकें और कभी अपने एक्स बौयफ्रैंड की किसी साजिश का शिकार न बनें.

बौयफ्रैंड से धीरे-धीरे दूरीं बनाएं

अगर आपकी शादी तय हो गयी है, तो जरूरी नहीं कि आप एक झटके में अपने प्रेमी से रिश्ता तोड़ दें. जब रिश्ता बनने में वक्त लगता है, तो उसे खत्म करने में भी लगेगा. इसलिए दूरी धीरे-धीरे बनाएं. उसे उन बातों का अहसास दिलाएं कि वह क्या मजबूरियां हैं, जिनके कारण आप उनसे दूर हो रही हैं. आप उनको इस बात के लिए तैयार करें कि वह उन मजबूरियों को समझे और अपनी उन कमियों को माने जिसके कारण आप उनसे दूर हो रही हैं. खुल कर सारी बात करें. अपनी परेशानी और अपनी इच्छाएं बताएं. एक पल में सबकुछ खत्म करने की कोशिश न करें, क्योंकि हो सकता है कि सामने वाला अचानक हुए खालीपन को बर्दाश्त न कर पाए. उसे समय दें और धीरे-धीरे सारे कॉन्टैक्ट खत्म करें. अगर आपके फोटोज या अन्य चीजें उसके पास हों तो वह वापस लेने की कोशिश करें.

बौयफ्रैंड के दिये गिफ्ट नष्ट कर दें

जब हम किसी के साथ रिलेशनशिप में होते हैं तो हमारे बीच तमाम चीजों का आदान-प्रदान होता है. हम बर्थडे, वैलेंटाइन डे या अन्य कई मौकों पर अपने प्रिय को गिफ्ट देते-लेते हैं. आपके बौयफ्रैंड ने भी आपको गिफ्ट, कार्ड या कपड़े इत्यादि दिये होंगे. इन्हें आप जितनी जल्दी खुद से दूर कर देंगी, उतनी जल्दी आप उसकी यादों से मुक्त हो पाएंगी. बौयफ्रैंड के दिये गिफ्ट को संभाल कर रखना कोई समझदारी नहीं है और इन्हें अपने साथ अपने पति के घर ले जाना तो महाबेवकूफी कहलाएगी. इसलिए इन तमाम चीजों को या तो लौटा दें या नष्ट कर दें. कोशिश करें कि आपने भी उन्हें जो गिफ्ट या कार्ड्स वगैरह दिये हैं, वो सब उससे वापिस मिल जाए. इन चीजों को भी नष्ट कर दें. नये जीवन में पुरानी चीजों की छाया नहीं पड़नी चाहिए.

ब्रेकअप के बाद खुद को समय दें

ब्रेकअप के बाद अक्सर यह अहसास होता है कि यह कुछ वक्त की दूरी है, हम फिर एक हो जाएंगे. इस अहसास से निकलना आसान नहीं होता है. ज्यादातर लोग ब्रेकअप के बाद उत्पन्न हुए खालीपन को भरने के लिए तुरंत कोई दूसरा दोस्त ढूंढ लेते हैं, या शादी के लिए तैयार हो जाते हैं, यह ठीक नहीं है. बौयफ्रैंड के साथ बिताये पलों को भूलने के लिए और सच्चाई को पूरी तरह स्वीकार करने के लिए खुद को समय दें. चिन्तन करें और अपने आपको समझाएं कि आपने जो कदम उठाया है, वह बिल्कुल ठीक है. नया दोस्त या जीवनसाथी चुनने में हड़बड़ी न करें. ठंडे दिमाग से, अच्छे भविष्य की आशा संजो कर, ठोंक-बजा कर नये रिश्ते में जाएं ताकि दोबारा आपको जुदाई का दर्द न सहना पड़े. इसके लिए अगर ब्रेकअप के बाद आपको साल-दो साल का वक्त लेना पड़े, तो गलत नहीं है. इस बीच आप अपनी पसंदीदा चीजें करें. ध्यान, व्यायाम, खानपान आदि पर ध्यान दें. चाहें तो कहीं फुल टाइम या शॉर्ट टाइम नौकरी कर लें. इससे आपको पुरानी बातें भूल कर भविष्य की योजनाएं बनाने में आसानी होगी.

शादी में बौयफ्रैंड को भूलकर भी न बुलाएं

भले आप आपसी समझौते के तहत अपने बौयफ्रैंड से अलग हुई हों और हो सकता है आप शादी के बाद भी अपने लवर को दोस्त की हैसियत से अपने करीब रखना चाहें, तो इसमें कोई हर्ज नहीं है, लेकिन कोशिश करें कि आप उन्हें अपनी शादी पर न बुलाएं, क्योंकि उस हालात में एक दूसरे का सामना करना मुश्किल होगा और आप खुद उनकी मौजूदगी में किसी और से शादी करने में असहज महसूस करेंगी. वहीं आपका एक्स बौयफ्रैंड उस व्यक्ति से जलन महसूस करेगा, जिसके गले में आप वरमाला डाल रही हैं. यह जलन कब बदले की भावना में बदल जाए, कहा नहीं जा सकता है. अपनी शादी की फोटोज भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर न डालें, न दोस्तों को वॉट्सेप वगैरह करें. इन फोटोज के सामने आने पर आपके एक्स के मन में जलन पैदा होगी, जो भविष्य में आपके लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है.

पैसों का हिसाब-किताब खत्म करें

ऐसे कई प्रेमी जोड़े होते हैं, जो ज्वॉइन्ट अकाउंट, इंश्योरेंस पॉलिसी, प्रॉपर्टी इंवेस्टमेंट मिलकर करते हैं. शायद ये सोचकर कि उन दोनों को रिश्ते को साथ आगे लेकर जाना है. लेकिन अगर ब्रेकअप हो रहा है, तो ये सुनिश्चित कर लें कि आप पैसे-प्रॉपर्टी से जुड़े सारे हिसाब-किताब निपटा लें ताकि अन्य व्यक्ति से आपकी शादी के बाद कोई परेशानी पैदा न हो.

हसबैंड को ‘सबकुछ’ न बताएं

ये गलत होगा कि आप अपने जीवनसाथी से अपने पिछले रिश्ते की बात छुपाएं, लेकिन जरूरी ये भी नहीं कि अपने अतीत के बारे में ‘सबकुछ’ बताया जाए. आजकल स्कूल-कॉलेज में बौयफ्रैंड-गर्लफ्रेंड बनना आम बात है. इसको लेकर अक्सर पति अपनी पत्नी से सवाल नहीं करते हैं. जवानी में औपोज़िट सेक्स के प्रति आकर्षण होना एक स्वाभाविक क्रिया है. लोग यह मानने को तैयार ही नहीं होते कि स्कूल-कौलेज में आपका कोई प्रेमी या प्रेमिका नहीं रहा होगा. यह आम चलन है. इसलिए पति से यह बताना कि हां, आपका प्रेमी था, कोई गजब ढाने वाली बात नहीं होगी. हां, अगर आप अपने प्रेमी के बेहद करीब थीं, और उससे आपके शारीरिक सम्बन्ध थे, या आप उससे कभी प्रेगनेंट हुईं या आपका अबॉर्शन हुआ, तो जरूरी नहीं कि आप अपने पति को यह सारी बातें बताएं, क्योंकि यह कन्फेशन आपके रिश्ते में कड़वाहट भर देगा. इसलिए भावुकता में बह कर अतीत को पति के सामने खोल कर रख देना कोई समझदारी नहीं होगी. कोई भी पुरुष भले खुद को बेहद आधुनिक या खुले विचारों का बताये मगर यह बात कतई बर्दाश्त नहीं कर सकता कि उसकी पत्नी पहले किसी के साथ सो चुकी है.

शादी दूसरे शहर में करें

बौयफ्रैंड से ब्रेकअप के बाद जब आप नये रिश्ते में नया जीवन शुरू करें तो कोशिश करें कि किसी नये शहर में करें. अपने शहर में वही जगहें, वही पिक्चर हॉल, वही बाजार, वही पार्क जहां आप अपने बौयफ्रैंड की बाहों में बाहें डाले घूमा करती थीं. जहां आपने अपने जीवन के सबसे सुखद पल बिताये थे. ऐसे में पुरानी यादें हर वक्त आपके दिल पर तारी रहेंगी और आपको अपने नये जीवनसाथी के रंग में कभी रंगने नहीं देंगी. जब आप पति के साथ उन्हीं जगहों पर होंगी, तो मन ही मन पति की तुलना अपने बौयफ्रैंड से भी करती रहेंगी. बौयफ्रैंड की हर हरकत आपको याद आएगी. दिल में टीस उठेगी और आप अपने पति के साथ अपना वैवाहिक जीवन कभी एन्जॉय नहीं कर पाएंगी. इसलिए कोशिश करें कि शादी के लिए किसी अन्य शहर में रहने वाले पुरुष को चुनें. यदि ऐसा सम्भव न हो और शादी अपने ही शहर के लड़के से हो जाए तो अन्य शहर में नौकरी करने के लिए उन्हें प्रेरित करें. पुरानी जगह छोड़ने पर पुरानी यादें भी पीछे छूट जाती हैं और आने वाला वक्त हर घाव भर देता है.

पति की तुलना बौयफ्रैंड से न करें

हर शख्स की अपनी पर्सनेलिटी, आदतें, चाहतें और काम करने के तरीके होते हैं. हमारी दोस्ती किसी व्यक्ति से तब होती है, जब उसकी बातें, आदतें, पसन्द-नापसन्द हमसे मिलती-जुलती होती है. आपके बौयफ्रैंड की बहुत सी बातें शायद आपसे मिलती होंगी, तभी आपकी दोस्ती हुई और हो सकता है जिस व्यक्ति से आपकी शादी हुई है, उसकी आदतें आपसे कतई न मिलती हों. उस हालत में आपको अपने बौयफ्रैंड का ख्याल आ सकता है. सुमन को गाने का शौक था. उसका बौयफ्रैंड भी गाता था. इस हॉबी के चलते ही दोनों एक दूसरे के करीब आये थे. मगर किसी कारणवश दोनों शादी नहीं कर पाये. सुमन की शादी एक चार्टर्ड अकाउंटेंट से हुई है, जो गीत-संगीत में जरा भी रुचि नहीं रखता. ऐसे में सुमन को हर वक्त अपने बौयफ्रैंड की याद आती है और वह अक्सर अपने रूखे पति की तुलना उससे करती है. यही वजह है कि उसका वैवाहिक जीवन सुखी नहीं है.

वह हर वक्त अनमनी सी रहती है. हालांकि उसके पति में और कई खूबियां हैं, मगर सुमन ने उन खूबियों की ओर अब तक नजर नहीं डाली है. याद रखें कि आपने जिस व्यक्ति से शादी की है वह आपके एक्स से बहुत बेहतर है, क्योंकि उसने आपको स्थायित्व दिया है, आपको आर्थिक सुरक्षा दी है, समाज के सामने आपको अपना बनाया है, आप पर विश्वास किया है और अपना घर आपके हवाले किया है. क्या आपका बौयफ्रैंड आपको कभी इतना सब दे सकता था? शायद नहीं. तो इसलिए कभी भी अपने पति की तुलना उस व्यक्ति से न करें जो बेहद कमजोर था, जिसके अन्दर आपको अपनाने की ताकत नहीं थी, जिसने आपको प्रेम में धोखा दिया, आपके भोले मन को छला और आपको पीड़ा पहुंचायी.

महिलाएं वर्जनाओं को तोड़ रही हैं: स्मृति मंधाना

edited by rosy

Tags:
COMMENT