कोई हमारी जिंदगी में कितना महत्वपूर्ण है इसे हम शब्दों में बयां नहीं कर सकते, क्योंकि अहसासों की जुबां नहीं होती. उन्हें तो बस महसूस किया जाता है एकदूसरे के प्रति लगाव और विश्वास के जरीए. आप कितना खयाल रखते हैं किसी का, कितनी शिद्दत से याद करते हैं इसे जताने का एक खूबसूरत मौका होता है त्योहार. खासकर दीवाली वह समय है जब आप दिल के रिश्तों को प्यार की रोशनी से संवार सकते हैं.

दीवाली जानी जाती है आतिशबाजी और रोशनी की बहार के साथसाथ दिलों को जोड़ते उपहारों के लिए. उपहार न हो तो बात नहीं बनती. दीवाली के मौके पर आप अपने करीबियों, रिश्तेदारों, मित्रों, पड़ोसियों को उपहार दे कर अपने रिश्ते की नींव मजबूत बनाते हैं. दीवाली का उपहार देते वक्त सामने वाले की जरूरत का खास खयाल रखना जरूरी होता है.

1. जब चुनना हो गिफ्ट

बजट तय करें-  उपहार का चुनाव करने से पहले जरूरी है उस के लिए अपना बजट तय करना. जरूरी नहीं कि बेहद कीमती तोहफा ही अच्छा हो. उपहार में देने वाले की भावना ज्यादा महत्त्वपूर्ण होती है. इसलिए अपनी जेब के अनुसार ही तोहफे का चुनाव करें. बेकार की चीजें उपहार में देने की मात्र औपचारिकता निभाने से बेहतर है कि 2-3 लोगों के बजट को मिला कर कोई अच्छा और उपयोगी उपहार दिया जाए. या फिर सस्ती, मगर काम की चीज गिफ्ट की जाए.

ये भी पढ़ें- परिवार की खुशियां ऐसे करें अनब्लौक

2. उम्र के अनुसार हो उपहार

छोटे बच्चों को सौफ्ट टौएज पसंद आते हैं तो थोड़ा बड़े बच्चे इलैक्ट्रौनिक टौएज से खेलना पसंद करते हैं. इसी तरह कालेज जाने वाली लड़कियों को उपहार में कोई मेकअप प्रोडक्ट, आर्टिफिशियल ज्वैलरी, स्टोल या सनग्लासेज दिए जा सकते हैं तो किसी शादीशुदा दोस्त को परफ्यूम सैट, पिक्चर फ्रेम या घर का कोई सजावटी सामान उपहार में देना अच्छा रहेगा. हर उम्र की अपनी पसंदनापसंद और जरूरतें होती है.

3. उस की रुचि में हमारी खुशी

हर व्यक्ति की अपनी अलग पसंद होती है. अपने उपहार को खास बनाने के लिए जरूरी है कि आप सामने वाले की पसंदनापसंद और रुचि के अनुसार ही उपहार चुनें. ध्यान दें कि वह अकसर कौन से रंग पहनना पसंद करता है, उस की पसंदीदा गतिविधियां क्या हैं, उस के घर की सजावट कैसी है, उस का पसंदीदा साहित्य या खेल कौन सा है, उसी हिसाब से आप उस के लिए उपहार का चुनाव करें.

4. समझते हैं आप की जरूरत

आप यदि रिश्तों में मिठास और प्यार बढ़ाना चाहती हैं तो दीवाली से बेहतर कोई दिन नहीं हो सकता. पत्नीबच्चे और मांबाप हों या फिर दोस्त या रिश्तेदार, किसी की कोई तकलीफ या कमी यदि आप लंबे समय से महसूस कर रहे हैं तो दीवाली के दिन वह चीज उपहार में दे कर रिश्तों में नई रोशनी फैला सकती हैं. इस से सामने वाला यह समझ पाएगा कि आप उस की कितनी परवाह करती हैं और वह भावनात्मक जुड़ाव महसूस करने लगेगा.

ये भी पढ़ें- कभी भी इन कारणों से न करें शादी

Tags:
COMMENT