चाहें या न चाहें अक्सर हमें गुस्सा आ ही जाता है और अक्सर इसे हम अपने बच्चों पर निकालते हैं. गुस्सा भले ही उन पर आ रहा हो या नहीं पर हाथ उठाने में देर नहीं लगती. कभी बच्चे पर अंकुश लगाने के लिहाज से तो कभी कम नंबर लाने पर, कभी उस की किसी मांग को पूरी कर पाने में असमर्थ होने पर तो कभी घरबाहर के तनावों की वजह से हम अपने बच्चे की पिटाई शुरू कर देते हैं. पर क्या आप जानते हैं कि इस का असर क्या होता है.

बच्चे के कौन्फिडेंस पर पड़ता है असर

कई शोध बताते हैं कि अभिभावकों का मारनापीटना बच्चों के आत्मविश्वास पर असर डालता है, उन में हिंसा की भावना को जन्म देता है और डिप्रेशन पैदा करता है.चाइल्ड साइकोलौजिस्ट्स के मुताबिक ऐसे बच्चे जो घर में शारीरिक,मानसिक प्रताड़ना के शिकार होते हैं वे आगे चल कर आत्मविश्वास की कमी और कमजोर निर्णय क्षमता के साथ बड़े होते हैं. परिवार के साथ उन की दूरी इतनी बढ़ जाती है कि वे समाज में नए अपराधी की शक्ल में सामने आने लगते हैं.

ये भी पढ़ें- वर्कप्लेस को ऐसे बनाएं खास

14 साल के सोनू को जब गुस्सा आता है तो वह अपना आपा खो देता है. कभी दीवार पर हाथ मारता है तो कभी सिर. कभी सामने वाले पर बुरी तरह चीखनेचिल्लाने लगता है तो कभी हाथ में जो भी चीज़ है जमीन पर दे मारता है. स्कूल और पासपड़ोस से सोनू की शिकायतें आने लगीं तो घरवाले चिंतित हो उठे. घरवाले यह नहीं समझ पा रहे थे कि सोनू के ऐसे बर्ताव के लिए वे खुद जिम्मेदार हैं. घरवालों ने उस के साथ बचपन में जैसा व्यवहार किया वही बर्ताव अधिक उग्र रूप में सोनू का स्वभाव बन गया था. घरवालों ने शुरू में कभी भी उस के गुस्से को सीरियसली नहीं लिया. उस की सीमाएं और गुस्से के खतरे से आगाह नहीं किया.  न ही उन्होंने अपने बर्ताव में बदलाव लाये. नतीजा अब सोनू का स्वभाव समाज में स्वीकार नहीं किया जा रहा.

विश्व स्वास्थ्य संगठन की साल 2017 में आई रिपोर्ट के मुताबिक बच्चों के हिंसक बर्ताव की वजह घरों में हिंसा देखना भी है. जिस में पति का पत्नी को पीटना या मातापिता का बच्चों को मारना शामिल है. पहले वे अपने से छोटों पर हिंसा करते हैं. वयस्क हो जाने पर पत्नी पर और बाद में कभीकभी कमजोर हो गए मांबाप पर भी हिंसा कर डालते हैं.

गुस्सा हर चीज का इलाज नहीं

अक्सर हिंसा कर के आप बच्चे से अपनी बात मनवाते कम हैं और अपना नुकसान ज्यादा करते हैं. आप का मानसिक सुकून तो खोता ही है बच्चे का व्यक्तित्व पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. बच्चो को प्यार से भी समझाया जा सकता है और उस का इम्पैक्ट भी ज्यादा अच्छा रहता है.

देख कर ही सीखते हैं बच्चे

कई बार अभिभावक बात मनवाने के लिए हिंसा का इस्तेमाल करते हैं. वे बच्चो को बातबेबात थप्पड़ मार देते हैं. सब के आगे उन्हें डपट देते हैं. ऐसा होने पर बच्चों के मन में यह धारणा घर कर जाती है कि हिंसा का इस्तेमाल सही है.

सख्त रवैया क्यों

देखा जाए तो किसी भी घर में बच्चें आंख के तारे होते हैं. लेकिन ज्यादा लाड़प्यार में बच्चे बिगड़ते है यह थ्योरी बच्चों के प्रति सख्त रवैया भी लाती है. कहना न मानने पर डांटफटकार और मारपीट का चलन भी आम है. डिजीटल और सोशल मीडिया के दौर में वैसे भी बच्चे एकाकी जीवन जी रहे हैं. अभिभावक बच्चों को अपना समय नहीं दे पाते. जो बातें और जो संस्कार घर में एक माँ अपने बच्चे को दे सकती है वह कामकाजी माँ नहीं दे सकती. एकल परिवारों की वजह से दादादादी तो घर में होते नहीं जो पीछे से बच्चे को संभाल ले. भाईबहन भी आजकल मुश्किल से एक होते है या नहीं भी होते. ऐसे में अकेला बच्चा घर में बैठ कर क्या करेगा. उस का भटकना संभव है. मगर इस वजह से वह कुछ गलती करता है तो क्या उसे मारनापीटना उचित है?

जहां तक बात एजुकेशन सिस्टम की है तो कहना न होगा कि नर्सरी क्लास से जो कम्पटीशन का दौर शुरू होता है वह अंत तक बना रहता है.बस्तों का बोझ ऐसा मानों बच्चे पूरा स्कूल कंधे पर लिए घूम रहे हों. स्कूल से छूटे तो कोचिंग की टेंशन शुरु. हर २ माह पर एग्जाम और उस एग्जाम में बेहतरीन करने का दवाब ताकि बच्चे का भविष्य संवर सके. बच्चा हमारी खींची लकीर पर न चलें तो हम नाराज और हिंसक हो उठते हैं. लेकिन अभिभावक के रूप में कभी बच्चों की बेचैनी नहीं समझते.

क्या मांबाप होने की जिम्मेदारी का मतलब बच्चों के साथ मारपीट का अधिकार है ? अपनी उम्मीदों की गठरी हम अपने बच्चों के सिर रख कर क्यों चलते हैं ? हमारी यह आस होती है कि हमारा बच्चा हमारी सारी उम्मीदों पर खरा उतरे. वह हमारे अधूरे सपनों को पूरा करे और इस के लिए छुटपन से ही हम उसे अनुशासन में रखने लगते हैं. अभिभावक अमीर हों, मध्यम वर्ग के हों या फिर गरीब तीनों वर्ग के लोग बच्चों के साथ हिंसा करते हैं भले ही तरीका अलगअलग क्यों न हो.

ये भी पढ़ें- जौब से करेंगे प्यार तो सक्सेस मिलेगी बेशुमार

भविष्य की फिक्र में हम यह भूल रहे हैं कि बच्चों की जिंदगी में यह दौर दोबारा नहीं आएगा. बच्चों को ले कर समाज का नजरिया भी ज़रा अजीब है. हम नें ‘अच्छी परवरिश’ का पैमाना सिर्फ बड़े स्कूल, हाई परसेंटेज और कामयाबी तक सीमित कर रखा है. यह कहा जाता है कि परवरिश बच्चों का भविष्य तय करती है तो क्या बच्चों में बढ़ते अपराध या आत्महत्या के बढ़ते मामलों के लिए हम अपनी जिम्मेदारी से बच जाएंगे?

अभिभावकों के हिंसक होने की मूल वजह

अगर अभिभावक ने खुद बचपन में हिंसा का सामना किया होतो बड़े हो कर वे बच्चों पर हाथ उठाते हैं.

कुछ अभिभावक अपने गुस्से पर काबू नहीं रख पाते.

वैसे अभिभावक बच्चों की जयादा पिटाई करते हैं जिन का सेल्फ एस्टीम लो होता है.

कुछ अभिभावक खुद मानसिक रोगी होते हैं और अल्कोहल या ड्रग्स का सेवन करते हैं सामान्यतः वे ही इस तरह की हरकतें करते हैं.

जो एक्स्ट्रा मेरीटल अफेयर्स के चक्कर में होते हैं वे भी ऐसी हरकतें करते हैं.

आर्थिक समस्याएं होने पर भी माँबाप अपनी झल्लाहट बच्चों पर उतार सकते हैं.

इंटरनेशनल नेटवर्क फॉर चिल्ड्रन एंड फैमिलीज के अनुसार बच्चों के व्यवहार को सुधारने के लिए और खुद की अपनी इस हरकत पर अंकुश लगाने के लिए कुछ बातों पर ध्यान देना जरुरी है;

मातापिता करें बच्चों के साथ ऐसा व्यवहार;

कई दफा ऐसा होता है जब बच्चे मां-बाप की बिल्कुल नहीं सुनते. मां-बाप को भलाबुरा कहने में जरा भी नहीं डरते. इसी कारणवश मातापिता भी अपने बच्चों के साथ बिना सोचेसमझे मारपीट और डांटफटकार करने लगते हैं. उन्हें अपमानित करने में भी पीछे नहीं रहते. यह रवैय्या उचित नहीं.

अगर आप के बच्चे ने कोई गलत व्यवहार किया है जिस से आप को शर्मसार होना पड़ रहा है तो बेहतर होगा की हिंसा के बजाय प्यार से उन्हें समझाने का प्रयास करें. सही गलत का भेद बताएं.

यही नहीं बच्चों को जीवन में अनुशासन के महत्व से परिचित कराना भी जरुरी है. बातव्यवहार, पढ़ाईलिखाई के साथसाथ दूसरों के आगे अनुशाशन और कायदे से पेश आना भी सिखाएं ताकि आप को दूसरों के आगे उन्हें डपटना न पड़े.

जरूरी है कि अभिभावक खुद के लिए पर्याप्त समय निकालें. जीवन को सुकून के साथ जीएं.व्यायाम करने, पढ़ने, टहलने और मनोरंजन के लिए समय जरूर निकालें ताकि वे बच्चों के आगे झल्लाया हुआ व्यवहार न करें.

अभिभावक उस समय ज्यादा गुस्सा करते हैं जब बच्चा बार-बार उन के द्वारा दी गई हिदायतों को नहीं मानता और वही चीजें दुहराता है. ऐसे में प्यार से बच्चे को कम शब्दों में समझाएं. चिल्ला कर या झल्लाते हुए न बोले. अपना गुस्सा न दिखाएं.

अपने बच्चों की पिटाई की बजाय उस के सामने कुछ विकल्प दें. उदाहरण के लिए अगर वह खाने की मेज पर बदतमीजी कर रहा है तो उसे स्पष्ट शब्दों में कहें कि वह या तो ठीक से खाए या फिर डाइनिंग टेबल से उठ जाए. ऐसे में या तो वह उठ जाएगा या फिर माफ़ी मांग लेगा. अगर वह माफ़ी मांग ले तो उसे वापस बैठने दें और प्यार से उस की गलती समझाएं. दोनों ही स्थितियों में वह आगे से खुद पर कंट्रोल रखना सीख जाएगा.

अपने बच्चे को कभी भी शारीरिक दंड न दें. अपनी बातों को तर्क से प्रूव करें. अगर उसने किसी का नुकसान किया है और गुस्से में आप उसे मारेंगे तो उस समय तो वह चुप हो जाएगा, लेकिन बाद में अपनी ऐसी गलतियों को छिपाएगा. उसे डर रहेगा कि आप उसकी पिटाई करेंगे, इसलिए बच्चे को अपनी गलती की जिम्मेदारी लेने को कहें.

अगर बच्चा आप से ठीक से बात नहीं कर रहा तो बजाय उसे पीटने या चिल्लाने के उस कमरे से बाहर निकल जाएं. उसे कहें कि आप दूसरे कमरे में हैं और जब उस की इच्छा हो और वह ढंग से बात करना चाहता हो आप से बात करने आ सकता है. इस से वह खुद ही अपनी गलती मह्सूस कर सकेगा.

बच्चों की पिटाई की जाए या नहीं

स्वीडन पहला यूरोपीय देश बना जहां बच्चों को मारना-पीटना गैरकानूनी बनाया गया. साल 2013 में फ्रांस की एक अदालत ने फ़ैसला किया था कि एक आदमी ने अपने नौ साल के बेटे को पीटने में ज़्यादती कर दी है. उस ने पीटने से पहले अपने बेटे की कमीज़ उतरवा दी थी. उस पर 500 यूरो का जुर्माना लगाया गया लेकिन इस फैसले से देश2 भागों में बंट गया.

फ्रांस में बच्चों की पिटाई का इतिहास काफी पुराना है. कहा जाता है कि फ्रांसीसी राजा लुइस तेरहवें को एक साल की उम्र से पिता के आदेश पर लगातार पीटा जाता रहा था.

ये भी पढ़ें- किताबें-आपकी हमदम, आपकी साथी

अन्य यूरोपीय देशों की तरह फ्रांस में भी बच्चों के ख़िलाफ़ हिंसा को अपराध बना दिया गया है लेकिन यह अभिभावकों को अपने बच्चों को हल्के हाथ से अनुशासित करने का अधिकार भी देता है.

यह ‘हल्का हाथ’ से अनुशासन क्या है और आपराधिक हिंसा क्या है, यह तय करने का अधिकार अदालतों को है जिस से अक्सर विवाद होते रहे हैं. हालांकि ब्रिटेन और फ्रांस में हुए एक सर्वे में बच्चों को पीटने पर कानूनी प्रतिबंध के परिणाम करीबकरीब एक जैसे थे. हाल में ब्रिटेन में सर्वे में शामिल 69 प्रतिशत इस के ख़िलाफ़ थे वहीं फ्रांस में साल 2009 में 67 प्रतिशत लोग इस के विरोध में थे.

अब समय आ गया है कि हम इस पर गंभीरता से विचार करें कि क्या सचमुच संस्कार और शिक्षा थोपने की आड़ में चाहेअनचाहे हम बच्चों के साथ अन्याय कर जाते हैं.

Tags:
COMMENT