गौरव धमीजा नाम का यह शख्स कार के पार्ट्स बेचने का काम करता था. साइट पर अपनेआप को एक हैंडसम पुरुष की तरह दिखाता था जिस की सालाना इनकम 25-30 लाख हो. इस व्यक्ति के खिलाफ पुलिस में शिकायत करने वाली महिला ने बताया कि इस शख्स ने रुउस के प्रोफाइल में रुचि दिखाई थी. महिला द्वारा स्वीकार करने पर धमीजा ने उस से अपने खाते में पैसे डलवाए. फिर धमीजा ने महिला को भावनाओं के जाल में फंसाया और कहा कि वह अपनी पत्नी से पीड़ित है. साथ ही वादा किया कि वह उसे महंगे तोहफे देगा.’

जब पीड़िता पूरी तरह धमीजा के झांसे में फंस गई तो इस ने अलगअलग बहाने कर महिला से पैसे मांगने शुरू कर दिए. मसलन मातापिता का इलाज, व्यवसाय में निवेश और अन्य बहाने. इस तरह वह महिला को लम्बे समय तक ठगता रहा.

वस्तुतः एक आदर्श जीवनसाथी की कामना करना एक बात है और वास्तव में उसे ढूंढना एक मुश्किल काम है. आज के समय में जब लड़कियां पढ़लिख कर जॉब करती हैं और आत्मनिर्भर बन जाती हैं तो रिश्तेदारियों में लड़का खोजने के बजाय वे वैवाहिक साइटस की तरफ रुख करती हैं जहाँ अपने हिसाब से जीवनसाथी तलाश कर सकें. पर इस तरह की साइट्स पर भी अक्सर धोखाधड़ी के मामले आते रहते हैं.

ये भी पढ़ें- अगर आपको भी पसंद नहीं पार्टनर की आदतें तो अपनाए ये टिप्स

कुछ धोखेबाज औनलाइन वैवाहिक साइटों पर लोगों को धोखा देते हैं. वे नकली प्रोफाइल बना कर जीवनसाथी की तलाश करने वाले निर्दोष लोगों को धोखा दे कर अपना उल्लू सीधा करते हैं. पिछले साल फ्रौडस्टर तन्मय गोस्वामी के मामले ने भी मीडिया का ध्यान खींचा था क्यों कि विभिन्न शहरों की 8 महिलाओं ने शादी का वादा कर के पैसे की धोखाधड़ी करने के लिए इस शख्स के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी. पुलिस का अनुमान है कि उस ने उन से कम से कम 1.25 करोड़ रुपये ठग लिये थे. इस तरह की घटनाएं न केवल किसी व्यक्ति को आर्थिक रूप से प्रभावित करती हैं बल्कि गंभीर भावनात्मक क्षति भी पहुंचा सकती हैं. जरुरी है कि ब्लैकमेलिंग और धोखाधड़ी से बचने के लिए आप सजग हो कर ही कदम आगे बढ़ाएं. अल्ट्रा रिच मैच के संस्थापक-निदेशक सौरभ गोस्वामी के मुताबिक़ कुछ बुनियादी उपायों पर ध्यान दे कर आप ऐसी धोखाधड़ी से बच सकती हैं;

1. औनलाइन बैकग्राउंड चेक करें

अगर आप किसी से बात आगे बढ़ाने की सोच रही हैं तो सब से पहला कदम यह है कि आप को उस व्यक्ति के सोशल मीडिया लिंक की पूरी खबर रखनी चाहिए. फेसबुक / ट्विटर / इंस्टाग्राम / लिंक्डइन आदि माध्यम से आप उसे बहुत अच्छी तरह से जान सकती हैं. उस की प्रोफ़ाइल कितनी पुरानी है, कोई विसंगति तो नजर नहीं आ रही,  तस्वीरें कितनी वास्तविक लगती हैं, दोस्तों की संख्या क्या है आदि के आधार पर व्यक्ति को समझा जा सकता है. किसी भी तरह का संदेह पैदा होने पर सीधे उस व्यक्ति से पूछें. यदि वह कोई स्पष्ट उत्तर देने में विफल होता है तो उस से दूरी बढ़ा लेना ही उचित होगा. ऐसे व्यक्तियों को तुरंत ब्लॉक करें और आगे बढ़ें.

2. व्यक्तिगत विवरण साझा न करें

इस तरह के औनलाइन प्लेटफ़ौर्मस पर भूल कर भी अपने बैंक खातों से जुड़ी ईमेल आईडी का उपयोग न करें. कोई और ऐसी निजी जानकारी भी न दें जिन का गलत उपयोग हो सकता है. क्योंकि ऐसे में धोखेबाजों के लिए आप की व्यक्तिगत जानकारी ढूंढना और खातों को हैक करना बहुत आसान हो जाता है.

3. किसी को कोई पैसा उधार न दें

सामने वाला कितनी भी इमरजेंसी दिखाए, वह छोटी सी रकम ही क्यों न मांग रहा हो, आप उस की बातों पर ऐतबार न करें. ये जालसाज तरहतरह की रणनीति का उपयोग कर महिलाओं को फंसाने का प्रयास करते हैं. ऐसे लोगों को इनकार और ब्लॉक किया जाना ही धोखों से बचने का एकमात्र तरीका है.

4. हमेशा सतर्क रहें

अगर प्रारंभिक बातचीत के किसी भी बिंदु पर आप को लगता है कि व्यक्ति बहुत अधिक अनुचित व्यक्तिगत विवरणों के लिए पूछ रहा है तो उन्हें स्पष्ट रूप से बताएं कि आप अभी इन सवालों का जवाब देने में सहज नहीं हैं. सुनिश्चित करें कि उन्हें अपनी सीमा का एहसास हो.

5. ’बहुत संवेदनशीलया बहुत अधिक समझ वाले व्यक्तियों रहें सावधान

’बहुत संवेदनशील’ या ’बहुत अधिक समझ वाले व्यक्तियों’ से सावधान रहें. ये धोखेबाज होते हैं. वे कुछ देर बात कर के ही सामने वाले के कमजोर पहलुओं को समझ लेते हैं और मौका मिलते ही उन का शोषण करना शुरू कर देते हैं. वे आप को भावनात्मक रूप से समर्थन देने का दिखावा करते हैं जब कि उस का मकसद धोखाधड़ी से लेकर ब्लैकमेल तक होता है.

6. हमेशा सार्वजनिक स्थानों पर मिलें

अगर उस से मिलने का प्लान बने तो प्रयास करें कि आप उस से हमेशा सार्वजनिक स्थानों पर मिलें. कभी भी अपनेआप को किसी भी तरह का  समझौता करने की स्थिति में न रखें. पहली या दूसरी मीटिंग में किसी दोस्त या सहेली को साथ ले जाएँ तो अच्छा होगा. यहां तक कि अगर आप उस के लिए गंभीर हो रही हैं तो भी मातापिता या घरवालों की सहमति और जानकारी के बिना किसी भी निजी स्थान पर मिलने जाने से बचें.

ये भी पढ़ें- आखिर क्या है ‘पिटी पार्टी’? जो दिलाए ब्रेकअप के दर्द से राहत

7. अपनी हिम्मत पर भरोसा करें

अगर उस के साथ रहते हुए आप को कभी भी कुछ गलत महसूस होता है तो तुरंत सतर्क हो जाएं. इस भावना को अनदेखा न करें. याद रखें आप का अवचेतन मन हमेशा आप के एहसासो की तुलना में बहुत अधिक सक्रिय रहता है और किसी व्यक्ति के बारे में छोटे संकेतो को भी समझ सकता है.

8.बैकग्राउंड चेक करें

आज के समय में ऐसी कितनी ही एजेंसियां हैं जो किसी भी व्यक्ति के बैकग्राउंड और ऑथेंटिटी की खोजखबर लेने का काम करती है. इस के लिए वे बहुत मामूली सा शुल्क वसूलती हैं. यदि आप को लगता है कि चीजें गंभीर हो रही हैं और आप उस के साथ जिंदगी बिताने को तैयार हो सकती हैं तो किसी फैसले से पहले ऐसी सेवाओं के लिए जाना हमेशा विवेकपूर्ण होता है. आप को लग सकता हैं कि इस तरह के कदम से कहीं आप के संभावित साथी की भावना आहत न हो जाए मगर यकीन रखिये जीवन में किसी बड़े धोखे का शिकार होने से लाख गुना बेहतर है कि पहले अच्छी तरह से छानबीन कर ली जाएतभी कदम बढ़ाया जाए.

9. भरोसेमंद मैट्रिमोनियल्स चुनें

शादी करना जीवन भर का सौदा है. आगे पछताना न पड़े इस के लिए जरुरी है कि केवल विश्वसनीय वैवाहिक साइटों को चुनें. उन के पर्सनल पैकेज लें. केवल उन मैट्रिमोनियल्स पर विचार करें जो अपने ग्राहकों के विवरण को सत्यापित करने की जिम्मेदारी लेते हैं. यही नहीं उन ‘सत्यापित’ प्रोफाइल में से भुगतान किए गए सदस्यों को चुनें. धोखेबाज सदस्य आमतौर पर पेड सदस्यता नहीं लेते.

ये भी पढ़ें- जब दोस्ती में बढ़ जाए jealousy

Tags:
COMMENT