मिनल हमेशा अपने दोनों किशोर बच्चों से कहती रहती हैं कि घर में कोई भी बङा आए, उन के पांव छुओ या फिर उन से बातचीत करो. कई बार तो बच्चे ऐसा करते हैं, पर कई बार वे इस का विरोध करने लगते हैं, जो मिनल को बुरा लगता है.

असल में आज के बच्चों की परवरिश अलग माहौल में होती है, क्योंकि वे एकाकी परिवार में रहते हैं, जहां दादादादी या नानानानी नहीं होते या बीचबीच में वे आतेजाते रहते हैं। ऐसे में उन के साथ गहरा रिश्ता नहीं बन पाता है.

Digital Plans
Print + Digital Plans

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT