डियर हबी…

सुना तो कई बार था लेकिन यकीन कभी नहीं था… क्योंकि पहली नजर में आप किसी से प्यार कैसे कर सकते हैं… लेकिन ये सोच तब बदली जब आपसे मुलाकात हुई… प्यार तो नहीं हुआ, लेकिन एक कनेक्शन जरूर हो गया… जिससे हम बार-बार मिले और कुछ ही मुलाकातों में मैंने ये फैसला कर लिया कि आप ही वहीं इंसान हो… जिसके साथ मैं अपनी पूरी जिंदगी गुजार सकती हूं…

आप मेरे सीनियर  थे… फिर दोस्त बने लेकिन कब सब  कुछ बन गए ये तब पता चला जब हमने अलग होने का फैसला किया… क्योंकि इस प्यार की कोई मंजिल नहीं थी… लेकिन शायद हमारी जोड़ी रब ने बनाई थी, तभी तो बार-बार दूर जाने के बाद भी हम हर बार वापस एक हो गए…

हालांकि, हमें एक कराने में कई लोगों का हाथ हैं लेकिन सबसे ज्यादा मदद की आपके प्यार ने, जिसनें मुझे कभी कमजोर नहीं पड़ने  दिया… और मैं हर मुश्किल से लड़ने के लिए तैयार थी… आखिरकार हमारा इंतजार रंग लाया और हमने अपने परिवारवालों को इस रिश्तें के लिए राजी ही कर ही लिया…

ये भी पढ़ें- Valentine’s Day Special: बहुत आई गई यादें, मगर इस बार तुम ही आना

valentine-love-story

जैसी हूं वैसे अपनाया, कभी बदलने की कोशिश नहीं की…

आपने कभी मुझमें कोई चेंज नहीं करना चाहा, मैं जैसी हूं वैसी ही मुझे अपनाया… शायद इसलिए मैं आपसे इतना प्यार करती हूं… हालांकि, एक शिकायत भी है कि क्यों इतना भरोसा करते हो, कभी कोई  रोक-टोक नहीं करते दूसरे लड़कों की तरह… कितना भी कोशिश करूं आपको जलन ही नहीं होती… शायद ये हमारे सच्चे प्यार और दोस्ती का ही सबूत है कि आप मुझ पर इतना विश्वास करते हो…

valentines-day-2020

सिर्फ एक साल में ही बन गए लाइफ पार्टनर…

बहुत से लोगों को ये बात अजीब लगती है कि सिर्फ 1 साल में आप किसी को लाइफ पार्टनर बनाने का फैसला कर सकते हैं… लेकिन उन सबको मैं बस यहीं कहना चाहूंगी कि कभी-कभी तो पूरी जिंदगी लग हैं और कभी सिर्फ कुछ मुलाकातें ही काफी होती है… क्योंकि प्यार वक्त देखकर नहीं होता… बल्कि जब प्यार होता है तभी सही वक्त होता है… बस फैसला आपको लेना होता है अपने दिल की सुनो या फिर दुनिया की… और मैंने अपने दिल की सुनी…

योर लविंग वाइफ

…………………………………………………………………………………………………………………………………

प्यार की ये कहानी सुनो…

अब आप भी शेयर करें अपनी कहानी. सिर्फ प्रेमिका और पत्नी ही क्यों, वो शख्स जिसे आप दुनिया में सबसे ज्यादा प्यार करते हैं. वहीं आपका वेलेंटाइन हैं तो जल्दी से शेयर करें अपनी कहानी और फोटो भेजना न भूलें.

अपनी कहानी इस पते पर भेजें- grihshobhamagazine@delhipress.in 

आखिरी तारीख- 13 फरवरी    

Tags:
COMMENT