कल सोहा को अपनी हर महीने होने वाली किट्टी पार्टी में जाना है, इसलिए अपने घर के काम निबटा कर सैलून रवाना हो गई. वैसे तो वह हर महीने वैक्स, हेयर कट, आइब्रोज करवाती ही है, किंतु इस बार किट्टी रैट्रो थीम पर आयोजित की जा रही है, इसलिए वह 70-80 के दशक की अभिनेत्रियों की तरह कुछ खास तैयार हो कर जाना चाहती है. उस जमाने में हेयरस्टाइल पर ही खास जोर दिया जाता था. अत: सैलून जा कर उस ने जब हेयरस्टाइल की बात की तो उन्होंने तरहतरह के स्टाइल दिखा अगले दिन आने का समय तय किया.

मैंबरशिप और डिस्काउंट का लालच

‘‘मैडम जब आप किट्टी पार्टी की तैयारी कर ही रही हैं तो फिर आप हमारा नया डायमंड फेशियल क्यों नहीं करवातीं? एक बार में ही खूब ग्लो आ जाएगा,’’ सैलून में कार्यरत लड़की ने कहा. ‘‘क्या खास बात है इस फेशियल की?’’ सोहा ने पूछा. ‘‘मैडम यह टैन रिमूवल फेशियल है. इस से आप के चेहरे से टैन के साथसाथ डैड स्किन भी निकल जाएगी जिस से चेहरे के दागदब्बे भी कम हो जाएंगे. इस से चेहरे पर गजब का निखार आएगा. एक बार करवा कर तो देखें.’’ ‘‘क्या रेट है इस फेशियल का?’’

‘‘मैडम कुछ खास नहीं केवल क्व2,200.’’

‘‘यह तो बहुत महंगा है?’’

‘‘मैडम क्या आप के पास सैलून की मैंबरशिप है?’’

‘‘नहीं, पर क्यों?’’

ये भी पढ़ें- मड कुकीज से पेट भरने को मजबूर

‘‘मैडम आप मैंबरशिप ले लीजिए. मैंबर्स को हम डिस्काउंट देते हैं. आप की पूरी फैमिली का कोई भी मैंबर जब भी हमारे यहां से कोई सर्विस लेगा तो उसे हम डिस्काउंट देंगे और आज के फेशियल में भी आप को 20% डिस्काउंट मिलेगा.’’

सोहा दुविधा की स्थिति में थी कि क्या करे. तभी सामने लगे शीशे में अपना चेहरा देखा. झांइयां दिनबदिन बढ़ती जा रही थीं. अत: उस ने पूछा, ‘‘क्या ये दाग भी कम होंगे इस फेशियल से?’’

‘‘हां मैडम, पर इन्हें हटाने के लिए आप को 3-4 सिटिंग्स लेनी पड़ेंगी, क्योंकि दाग पुराने हैं.’’

सोहा ने खुद को सुंदर दिखाने के लिए फेशियल करवाने हेतु हामी भर दी.

1 घंटे बाद जब उस ने अपना चेहरा देखा तो सचमुच वह चमक उठी थी.

किंतु सोचने वाली बात यह है कि झांइयां क्या कभी फेशियल से जा सकती हैं?

हां, अस्थाई फर्क जरूर आएगा, क्योंकि चेहरे की मालिश से रक्तसंचार बढ़ने से चेहरे की कुछ सफाई हो जाती है. लेकिन डैड स्किन हटने से झांइयों वाली त्वचा अल्ट्रावायलेट किरणों के लिए पहले से अधिक ऐक्सपोज हो गईं. अत: ज्यादा अच्छा होता कि सोहा अपने चेहरे की झांइयों का इलाज करवाने के लिए किसी डर्मैटोलौजिस्ट के पास जाती.

नए प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल और खर्च

इसी तरह नेहा भी एक दिन सैलून गई. वहां जा कर उस ने बताया कि वह बिकिनी की शेव करकर के परेशान हो गई है. मासिक के समय तो खास परेशानी होती है. फिर जब दोबारा बाल निकलने लगते हैं तो बहुत मोटे निकलते हैं, जो चुभते हैं. अब ऐसी जगह बारबार स्क्रैच करो तो देखने में अच्छा नहीं लगता. तब सैलून में काम करने वाली लड़की बोली कि मैडम, बिकिनी वैक्स करवा लीजिए. पूरा महीना आराम रहेगा.

एक बार तो नेहा हिचकिचाई, फिर सोचा कि ट्राई करने में कोई हरज नहीं. फिर जब सैलून वाली लड़की ने पूछा कि मैडम वैक्स कौन सा नौर्मल या फिर फ्लेवर्ड तो नेहा ने कहा कि नौर्मल ही करो.

इस पर लड़की ने कहा कि वह फ्लेवर्ड वैक्स ही करेगी, क्योंकि उस से बिकिनी के बाल आसानी से निकल जाते हैं. अब चूंकि नेहा पहली बार बिकिनी वैक्स करवा रही थी सो बोली ठीक है. लेकिन जब बिल देखा तो 2 हजार रुपए का. साधारण वैक्स से दोगुना. उफ, उस के मुंह से निकला. घर आ कर जब नेहा ने अपनी मां को बताया तो मां बोली कि वैक्स तो वैक्स है जिस का काम है बालों पर चिपकना ताकि उस पर वैक्सिंग स्ट्रिप चिपका कर बालों को खींच लिया जाए. उस में फ्लेवर से क्या फर्क पड़ेगा? यह रुपए ऐंठने का तरीका है.

औफर्स की चकाचौंध

अकसर सैलून में किसी न किसी बहाने औफर्स रखे जाते हैं, जैसे नए वर्ष पर डिस्काउंट या दीपावली पर यह नया पैकेज. इन पैकेज में वैक्स, आईब्रो, मैनीक्योर, पैडीक्योर, हेयर कट आदि के साथ हेयर कलर फ्री.

इस तरह के पैकेज में हेयर कलर के रुपए पहले से ही जोड़ दिए जाते हैं. फिर यदि एक बार कलर किए बाल आप पर जंच गए, दूसरे लोगों ने आप की तारीफ कर दी तो आप उन के हर माह के क्लाइंट बन गए. कुल मिला कर सैलून को मुनाफा ही हुआ और आप भी खुश. लेकिन इस में आप यह भूल जाते हैं हेयर कलर में कैमिकल्स होते हैं जो आप के बालों को नुकसान पहुंचाते हैं.

कलर्ड हेयर को ऐक्स्ट्रा केयर की जरूरत होती है, जो आप नहीं कर पाते हैं. अब जब  आप के बाल डैमेज होते हैं तो आप फिर सैलून वालों से पूछते हैं, ‘‘क्या करूं बहुत हेयर फौल हो रहा है और बाल रफ भी हो गए हैं.’’ तब वे अपने सैलून में रखे जाने वाले कई बड़ी कंपनियों के उत्पाद इस्तेमाल करने को कहते हैं. उन का कमीशन तय होता है. कुल मिला कर फिर सैलून वालों का फायदा और आप का बुद्धू बनना.

ये भी पढ़ें- बिना बालों वाली दुल्हन

पैकेज की बहार और आप का बंधन

इसी तरह से आजकल सैलून में एक और नया पैकेज तैयार है. यदि आप 3 माह लगातार 3 हजार रुपए हमारे सर्विसेज पर खर्च करें तो चौथे माह आप का हेयर कट फ्री. अब ग्राहक चाहे हर महीने डेढ़ या 2 हजार का खर्च सैलून में करता है, लेकिन उस फ्री हेयर कट के लिए हर माह ऐक्सट्रा सर्विसेज ले कर 3 हजार का खर्च करता है. वह सोचता है कि ये 3 हजार तो सर्विसेज के हैं. बाद में हेयर कट तो फ्री है ही. यहां यह समझने की कोशिश कीजिए कि दुनिया में कुछ भी फ्री नहीं होता है. कहीं न कहीं तो आप को कीमत देनी ही होती है. इस तरह से हर ग्राहक से 3 हजार कमा कर उन की आय फिक्स हो गई और आप 4-5 माह तो वहां जाएंगे ही, क्योंकि आप को फ्री हेयर कट जो करवाना है. आप रुपए दे कर उस एक ही सैलून से बंध जाते हैं अन्यत्र कहीं जाने की सोच भी नहीं सकते, भले ही आप को उन का काम पसंद आए या नहीं.

पैकेज की ऐडवांस पेमैंट

इसी तरह से निहारिका ने एक पैकेज ले लिया जिस की सर्विसेज 2 दिन में पूरी करने की बात थी. पहले दिन उस ने हेयर कलर करवाया. उसे स्कैल्प में बहुत इचिंग होने लगी. घर पहुंचने पर उस के सिर में लाललाल चकत्ते हो गए. उन के कारण उसे डाक्टर के पास जाना पड़ा. मालूम हुआ जो हेयर कलर उस के बालों में इस्तेमाल किया गया है उस से उस के सिर में ऐलर्जिक रिएक्शन हो गया है. उसे बहुत गुस्सा आया. वह अगले ही दिन सैलून जा कर बोली कि पैकेज के रुपए वापस कर दें, उसे वहां से कोई सर्विसेज नहीं लेनी है. लेकिन सैलून वाले रुपए वापस देने को तैयार नहीं थे.

उन का कहना था कि मैडम ये सब औनलाइन सिस्टम में पहले से फीड किया होता है. आप ने पैकेज लिया है और उस के लिए पे किया है अब आप को सर्विसेज तो लेनी ही होंगी. यदि आप आधी सर्विसेज ले कर छोड़ देना चाहें तो हमारी क्या गलती? फिर आप ने भी तो नहीं बताया था कि आप को किस प्रोडक्ट से ऐलर्जी है. किसी और ग्राहक को तो इस प्रोडक्ट से कोई नुकसान नहीं हुआ. आप ही पहली हैं जो यहां ऐसी शिकायत ले कर आई हैं.

फिर क्या था निहारिका अपना सा मुंह ले कर घर लौट आई.

नकली प्रोडक्ट्स की पहचान

आजकल बाजार में सभी बड़े ब्रैंड के नकली प्रोडक्ट्स बिक रहे हैं. यहां तक कि नकली सामान की बिक्री औनलाइन भी हो रही है. यही नकली प्रोडक्ट्स कई सैलून में इस्तेमाल होते हैं. ग्राहकों को इस की जानकारी नहीं होती और वे बड़ी कीमत दे कर वहां की सर्विसेज लेते हैं, जबकि सैलून को वे नकली प्रोडक्ट्स कम कीमत पर मिलते हैं. इस से सैलून को काफी मुनाफा होता है.

अब बात आती है कि ग्राहक इन नकली प्रोडक्ट्स की पहचान कैसे करे? तो सब से पहले जब ग्राहक सैलून में सर्विसेज लेता है तो इस्तेमाल किए गए प्रोडक्ट्स की पैकिंग की मैन्युफैक्चरिंग डेट व बैच नंबर देखे, क्योंकि बाजार में रिपैकिंग किए गए प्रोडक्ट्स उपलब्ध होते हैं यानी पैकिंग मैटीरियल असली और उन में पैक किया गया सामान नकली.हम इस्तेमाल किए गए असली प्रोडक्ट्स की खाली शीशियां, डब्बे रद्दी वाले को बेच देते हैं या फिर कूड़ेदान में डाल देते हैं. इन शीशियों व डब्बों का इस्तेमाल नकली सामान की पैकिंग में किया जाता है. नकली प्रोडक्ट के इस्तेमाल से जलन भी हो सकती है, यह भी उस के नकली होने का एक प्रमाण है.

सैलून में बिकने वाले प्रोडक्ट्स

इसी तरह एक बार निहारिका हेयर कट के लिए एक बड़े सैलून में गई और अपनी बेटी को भी साथ ले गई. वहां हेयर कट से पहले हेयर वाश जरूरी होता है. सैलून की स्टाफ हेयर वाश कर हेयर कट कर बिलिंग के समय बोली, ‘‘मैडम, आप की बेटी के बाल बहुत रफ हो रहे हैं. हेयर कट के समय कंघी चलाने में भी मुझे परेशानी हो रही थी. आप उस के लिए हमारे सैलून में रखे प्रोडक्ट्स क्यों नहीं इस्तेमाल करतीं? ये देखिए…’’ ऐसा कह उस ने अपने सैलून के शोकेश में सजे कई महंगे प्रोडक्ट्स दिखाए.

निहारिका समझ गई थी कि यह उस से रुपए ऐंठने की चाल है. अत: उस ने प्रोडक्ट्स को देख कर कहा कि मैं बाद में सोचूंगी. मगर स्टाफ कहां आसानी से टलने वाला था. उस प्रोडक्ट को बेच कर उसे कमीशन जो मिलने वाला था, सो बोली कि मैडम और्गेनिक प्रोडक्ट्स हैं. आप की बेटी के बाल अच्छे रहेंगे इन से. वरना बहुत खराब हो जाएंगे.’’

निहारिका उन की बातों में आने वाली नहीं थी, सो बोली, ‘‘मैं घर में उस के बाल धोने के लिए आंवला, रीठा, शिकाकाई का इस्तेमाल करती हूं और उस से बहुत खुश हूं.’’

इसी तरह जब सत्या हेयर कट के लिए गई तो बाल धोते ही उस के बालों से मेहंदी की खुशबू आने लगी, क्योंकि वह मेहंदी का इस्तेमाल करती थी. सैलून का स्टाफ बाल काटते समय उस से बोला कि मैडम आप के बालों से गंध आ रही है. मेहंदी की जगह हेयर कलर क्यों नहीं इस्तेमाल करतीं?

ये भी पढ़ें- तीन तलाक कानून: मुहरा बनी मुस्लिम महिलाएं

स्टाफ की बात सुन सत्या बोली, ‘‘आप जिसे बैड स्मैल कह रहे हैं हमें वह खुशबू लगती है, आप बाल काटें उस के सिवा कुछ न करें.’’

Tags:
COMMENT