क्या युवाओं को बाकी लोगों से ज्यादा गुस्सा आता है? इस सवाल का जवाब है- जी, हां! बहुत ज्यादा आता है. दुनिया में रोड रेज के जितने मामले सामने आते हैं, चलती फिरती जितनी भी मार कुटाइयां होती हैं, उनमें 90 फीसदी से ज्यादा में युवाओं की भागीदारी होती है. शायद इसीलिए कहा जाता है कि युवाओं के नाक पर गुस्सा रखा होता है. लेकिन पहली बात तो यह कि यह बात सिर्फ युवकों पर ही लागू होती है, युवतियों पर नहीं. दूसरी बात यह कि सभी युवक बहुत गुस्सैल नहीं होते. कुछ में ही गुस्सा नाक पर रखा होता है, जिसकी वजह होती है उनमें टेस्टोस्टोरोन हार्मोन का ज्यादा होना. अब सवाल है हम इन गुस्सैल युवाओं के बारे में बात क्यों कर रहे हैं? क्योंकि कोविड-19 जैसी महामारी में भी इस गुस्से की एक खास किस्म की नकारात्मक भूमिका देखी गई है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT