हमारे आसपास कुछ ऐसे लोग होते हैं, जिन्हें खुशियों का इंतजार रहता है. वे किसी से कुछ नही मांगते. ऐसे लोग आप के महल्ले, अपार्टमैंट या चौराहे पर मिल सकते हैं, जिन का कहने को तो भरापूरा परिवार है लेकिन साथ कोई नहीं. किसी का बेटा हर महीने पैसे तो समय से भेज देता है लेकिन उस के पास उन से बात करने का समय नहीं. कोई ऐसा जो जौब करने के लिए अपने घर से कोसों दूर आप के शहर में बैठा हो या आप के घर के बगल में अकेले रह रही वह महिला जिस का पति विदेश में बैठा हो. त्योहार पर उन्हें कुछ वक्त दें और मुंह मीठा करवाएं, इतने भर से उन का त्योहार मन जाएगा.

आज के बदलते परिवेश ने हमें बहुत कुछ दिया है तो हम से बहुत कुछ छीना भी है, तो अगर आप अपनी जिंदगी में थोड़ा सा सुकून चाहते हैं तो हर उत्सव इन के साथ मनाइए. यकीन मानिए यह खुशी जिंदगी भर के लिए यादगार बन जाएगी. हो सकता है कि जो बुजुर्ग हों वे आप को थोड़ा परेशान करें या ज्यादा बातें करें लेकिन उन की सचाई आप का दिल जीत लेगी. तो भले पूरा नहीं लेकिन थोड़ा सा ही सही उन को अपने समय का हिस्सा दीजिए. छोटेमोटे उपहार के जरीए अपनी केयर दर्शाना न भूलें ताकि उन को लगे कि कोई है, जिसे उन की फिक्र है या किसी ने उन के बारे में सोचा तो सही.

यहां हम आप को कुछ ऐसे ही गिफ्ट आइडियाज के बारे में बता रहे हैं, जो अनजान लोगों से भी आप के दिल के तार जोड़ने में आप की मदद करेंगे.

पैन: भला इस से सस्ता और अच्छा गिफ्ट क्या हो सकता है. खासकर जब यह तोहफा किसी बुजुर्ग व्यक्ति को देना हो. टैक्नोलौजी और मोबाइल की इस दुनिया में आज भी बुजुर्ग लोग अपनी शर्ट की जेब में हमेशा कलम रखते हैं. यह पर्सनैलिटी में चार चांद लगाने का काम करता है. खासकर बुजुर्गों को कलम से काफी अटैचमैंट होता है. ऐसे में आप का छोटा सा तोहफा उन का दिन बना सकता है.

ये भी पढ़ें- बुढ़ापे से पहले ही जाग जाएं

जिन की दुनिया किताबें हों

यह कहावत तो आप ने सुनी ही होगी कि किताबें इंसान की सब से अच्छी दोस्त होती हैं. ऐसे में जो व्यक्ति अकेला रह रहा हो तो उस के लिए इस से अच्छा गिफ्ट और क्या होगा. आप ने देखा भी होगा हमारे घर के बड़ेबुजुर्ग न्यूजपेपर या मैगजीन का एकएक कोना पढ़ जाते हैं. यही नहीं उन के कार्यालय में पत्र भी लिख कर भेजते हैं और फोन भी करते हैं. जरा सोचिए वे कितना संवाद करना चाहते हैं. तो अगर आप अकेले रह रहे शख्स को उस की मनपसंद किताब भेंट करते हैं तो यह उस के लिए काफी फायदेमंद होगा. अगर उन्हें पढ़ने का शौक न हो तब भी नया जनून पैदा करने के लिए उन्हें किताब उपहार के रूप में दें.

प्रकृति का उपहार

प्रकृति से लगभग हर किसी को प्रेम होता है. अकेले इंसान को प्रकृति के बीच रहना अच्छा लगता है, क्योंकि हरियाली मूड लिफ्टर भी होती है. अगर आप सस्ता और अच्छा उपहार देना चाहते हैं तो उन्हें कुछ खूबसूरत इंडोर और आउटडोर प्लांट सुंदर से पौट में लगवा कर दे सकते हैं. साथ ही अगर वे ऐसे घर में रहते हैं, जिस में बहुत बड़ी छत या बगीचा हो तो जैविक खेती के लिए उन्हें एक किट भी उपहार में दी जा सकती है. यही नहीं आप उन्हें प्रकृति से संबंधित पेटिंग भी दे सकते हैं.

अपने हाथों के बनाए हुए स्वादिष्ठ व्यंजन

जो व्यक्ति अकेला रहता है वह खुद के लिए कुछ भी स्पैशल बनाने से कतराता है. खाना बना ले वही बहुत बड़ी बात है. ऐसे में आप उन्हें अपने हाथों से बनाई डिश, चौकलेट, स्वीट या केक भी गिफ्ट कर सकते हैं. त्योहार के मौके पर इस से बढि़या और क्या होगा कि उन्हें घर का बना हुआ कुछ अच्छा खाने को मिलेगा.

तोहफा जो दिल को छू ले

अकेले रह रहे इंसान का सब से बड़ा साथी होता है म्यूजिक. इसे हम गम और खुशी दोनों में सुन सकते हैं. यह हमारे दुख को दूर तो नहीं करता, लेकिन सहारा जरूर देता है. ऐसे में आप उन्हें गानों का एक कलैक्शन दे सकते हैं. साथ ही अगर उन्हें कविता लिखने या पढ़ने का शौक हो तो एक कार्ड पर 2-4 कविताएं लिख कर उसे फ्रेम कर के डायरी के साथ दे सकते हैं.

जब अकेला इंसान कोई महिला हो

मान लीजिए, आप के आसपास कोई अकेली महिला रह रही हो जिस के बच्चे या पति बाहर रह रहे हों या फिर वह सिंगल ही क्यों न हो. वह आप की मां, बहन या दोस्त जैसी हो सकती है. तो उस का दिन स्पैशल बनाने के लिए मेकअप प्रोडक्ट, फोन कवर, होम डैकोरेशन आइटम्स भी दिए जा सकते हैं.

इस त्योहार के मौसम में खुद से एक वादा करें कि अपनी खुशियों को मनाने के साथसाथ अपने आसपास के ऐसे लोगों की खुशियों की भी फिक्र करेंगे जिन्हें ज्यादा कुछ नहीं बस अकेलेपन को दूर करने का एक सहारा मात्र चाहिए.

ये बी पढ़ें- यह भेदभाव नहीं चलेगा

Tags:
COMMENT