जिसे कल तक साधारण खांसी जुकाम कह कर टाल दिया जाता था, करोना वायरस की वजह से अब हर पत्नी और मां के लिए एक चुनौती बन गया है. घर में किसी को भी हल्की सी खांसी जुकाम ही नहीं सिरदर्द, सुघने की शक्ति में कमी, छींकें, बहती नाक सब कोविड के असर हो सकते हैं. जिन्हें वैक्सीन लग चुकी है वे तो खतरे से बाहर हैं पर जिन्होंने अभी तक नहीं लगवाई वे खुद भी खतरे में हैं और दूसरों के लिए भी खतरा हैं.

अब पीसीआरटी टैस्ट भी करवाना एक जिम्मेदारी बन गई है. वैक्सीन होने के बावजूद टैस्ट रिपोर्टें बाहर निकलने का पासपोर्ट सा बनता जा रहा है. घर के बढ़ते खर्चों में यह खर्च भी अब शामिल हो गया है और इतनी देखरेख भी पत्नी या मां को करनी पड़ रही है.

ये भी पढ़ें- निजता के अधिकार पर सरकार

दुनिया को बहुत देशों ने वैक्सीन को आजादी मान लिया और यदि 60-70 ' लोगों ने लगवा ली तो उन्होंने हर तरह की छूट देती है. भारत में अभी संख्या कम है और हालांकि सरकारों ने भूख से मरने के लिए बचने के लिए देश के लौकडाउन हटाने शुरू कर दिए हैं पर अभी सावधानी रखनी होगी और इस की पहली जिम्मेदारी औरतों की ही होगी. वे किसी तरह की ढील नहीं दे सकतीं. अब रोज की पूजा बंद करिए और घर में सैनिटाइजेशन और घरवालों के हाल की चिंता ज्यादा करें. अभी तक अच्छा है कि धर्म की दुकानें नहीं खुली पर अब भी खुल जाएं तो यह न भूलें कि कोविड से मरने वालों की लाशों को तो उन की गंगा मैया तक ने लेने से मना कर दिया है और बहाई गई सैंकड़ों लाशें वापिस तटों पर पटक दी गईं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT