कंप्यूटर, इंटरनैट और सोशल मीडिया ने वाकई दुनिया बदल दी है. अब सब कुछ एक क्लिक पर हाजिर हो जाता है. पहले जो काम महीनों में होते थे वे अब मिनटों में हो जाते हैं. इन वैज्ञानिक चमत्कारों पर सवार धर्म ने इन गैजेट्स की न केवल उपयोगिता मिट्टी में मिला दी है, बल्कि इन का महत्त्व भी बदल दिया है. इन में चारों तरफ धर्म का पाखंड है, अंधविश्वास है और धार्मिक चमत्कार है. धर्म को इसलिए भी शाश्वत षड्यंत्र कहा जा सकता है कि वह इन गैजेट्स के जरीए लोगों के दिलोदिमाग पर पहले से ज्यादा छा गया है. इंटरनैट, फेसबुक और व्हाट्सऐप पर धर्म की भरमार है, देवीदेवताओं की जयजयकार है. अब तो दैनिक पूजा भी लोग इन के जरीए करने लगे हैं. तीजत्योहार भी इन से अछूते नहीं रहे हैं, जिन्हें धर्म की गिरफ्त में बनाए रखने का कोई भी मौका धर्म के ठेकेदारों और भक्तों ने नहीं छोड़ा है. जिन आविष्कारों को सामाजिक व आर्थिक उन्नति में इस्तेमाल किया जाना चाहिए था वे धर्म और आडंबरों के प्रचार का बड़ा जरीया क्यों बन गए हैं?

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
COMMENT