भाजपा सरकार देश को हिंदूमुस्लिम मामलों में उल झाए रखना चाहती है ताकि उन की गरीबी, बेरोजगारी, गंदगी, बीमारी जैसे मामलों में कोई पूछताछ न करे. देश तो हमेशा से ही पंडोंपुजारियों के कहने पर चला है चाहे जमाना मुट्ठीभर मुगलों का हो या फ्रैंच, डच और अंगरेजों का. जो लोग घोड़ों पर बैठ कर पहाड़ी दर्रों से या लकड़ी की नावों में आए, भारत पर मजे से सैकड़ों साल राज करते रहे और आज की भी 80 फीसदी जनता का हाल वही है जो गुलामी में होता है.

नागरिकता का नया कानून या फिर राम मंदिर देश की हालत को किसी भी तरह से नहीं सुधारेगा. हो सकता है कि आगे इन मामलों को ले कर महल्लेमहल्ले में लड़ाई होने लगे. अब तक दलितों और पिछड़ों को मुसलमानों के खिलाफ खड़ा करना आसान था पर धीरेधीरे पिछड़ों को सम झ आ रहा है कि उन का तो इस्तेमाल किया जा रहा है और न नागरिकता कानून से न राम मंदिर से उन के खेतों की उपज बढ़ने वाली है और न ही नए कारखाने लगने वाले हैं.

भारत से अच्छा तो बंग्लादेश और श्रीलंका करते नजर आ रहे हैं जहां इस तरह के सवाल हैं पर वहां सरकारें आम लोगों को इन के भुलावे में नहीं रख रहीं. यहां तो सरकार 24 घंटों नागरिकता या धर्म का पिटारा खोले रखती है. भारत में रहने वाला हर जना भारतीय ही है. उसे कागज कुछ भी दो वह अपनी जगह बना लेगा, आज नहीं तो कल. लाखों नहीं करोड़ों भारतीय मूल के लोग विदेशों में बसे हैं और बाकी उस तरह के घुसपैठिए हैं जैसे नागरिकता कानून में बताया गया है पर उन्होंने अपनी जगह बना ली है और ज्यादातर दिल से आज भी हिंदुस्तानी बने हैं और अपनी पुरानी सोच के हिसाब से चल रहे हैं.केरल का मलयालम बोलने वाला मुसलमान, कर्नाटक का कन्नड़ बोलने वाला मुसलमान बंगला बोलने वाले मुसलमान से कैसे अलग है?

नागरिकता कानून बेबात में लाखों लोगों को धर्म के हिसाब से अपना इतिहास खोलने को मजबूर करेगा, जिस में जम कर रिश्वतखोरी होगी, पुलिस की मौज आएगी और लाखों घरों में दहशत फैलेगी. यह कानून गरीबों को और गरीब करेगा. जो देश गरीबी से कराह कर लंगड़ा चल रहा है सरकार खुद उस की टांगों पर रस्सियां बांध रही है.इन फैसलों की बारीकियां सम झना आसान नहीं, क्योंकि कानूनों को किस तरह लागू किया जाता है यह आज नहीं कहा जा सकता. कई बार कानून सो जाते हैं, कई बार भोपाल गैस कांड बन कर हजारों को लील जाते हैं. जब लड़ाई सुख और सुविधाएं पाने के लिए करनी चाहिए, सरकार गरीबों को उल झा कर कुछ का उल्लू सीधा कराने में लगी है.

Tags:
COMMENT