यह एक इलैक्ट्रौनिक चित्रों का समूह है. इस में हम अपनी भावनाओं को इस इलैक्ट्रौनिक संचार का उपयोग कर के व्यक्त करते हैं. इमोजी भावना, वस्तु या प्रतीक के एक दृश्य का रिप्रेजैंटेशन होता है. यह विभिन्न फोन या सोशल नैटवर्किंग साइट पर विभिन्न रूपों में होता है.

सबसे पहले डिजाइन किस ने किया

शिगेताका कुरिता ने 25 साल की उम्र में इमोजी का सब से पहला सैट बनाया था, जिस में लगभग 176 इमोजी थीं. दिलचस्प बात यह है कि फादर औफ इमोजी कहे जाने वाले शिगेताका कुरिता न इंजीनियर थे और न ही कोई डिजाइनर. उन्होंने तो अर्थशास्त्र की पढ़ाई की थी.

इमोजी की शुरुआत कब और कैसे हुई

1990 के दशक के आखिर में यानी 1998-1999 में रंगबिरंगी इमोजी का इस्तेमाल शुरू हुआ. एक जापानी टैलीकौम कंपनी के कर्मचारी शिगेताका कुरिता ने इस कंपनी की मोबाइल इंटरनैट सर्विस के लिए इमोजी बनाई थीं. इस मोबाइल इंटरनैट में ईमेल भेजने के लिए कैरेक्टर की संख्या 250 थी, जिस में हंसी, दुख, क्रोध, सरप्राइज और कन्फ्यूजन का भाव दर्शाने वाली इमोजी भी शामिल थीं.

जापान में इमोजी को लोकप्रिय होता देख 2007 में सब से पहले ऐप्पल आईफोन ने अपने मोबाइल फोन में इमोजी की बोर्ड को शामिल किया, जिस में एसएमएस, चैटिंग, व्हाट्सऐप, मैसेज करने के दौरान अपने भाव प्रकट करने के लिए इमोजी का इस्तेमाल किया जाने लगा और फिर इमोजी सब से तेजी से बढ़ती भाषाओं में से एक हो गई.

– 2013 में इमोजी शब्द को औक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी में शामिल किया गया.

– 2015 में इमोजी को ‘वर्ड औफ द ईयर’ घोषित किया गया.

– 2016 में न्यूयौर्क में ‘म्यूजियम औफ मौर्डन आर्ट’ ने अपने स्थाई कलैक्शन में शिगेताका कुरिता की 176 इमोजी के पहले सैट को शामिल किया. हौलीवुड में एक ऐनिमेटेड मूवी भी बनाई गई, जिस में 250 इमोजी दिखाई गईं.

– अब तक इमोजी की संख्या 2,666 हो गई है.

– यूनिकोड कमेटी के मुताबिक, हर साल सैकड़ों नई इमोजी के आवेदन मिलते हैं.

इमोजी दिवस

इमोजीपीडिया के संस्थापक जेरेमी बर्ज ने 2014 में विश्व इमोजी दिवस मनाने का निर्णय लिया था. उस के बाद से 14 जुलाई को विश्व इमोजी दिवस को वैश्विक उत्सव के रूप में मनाया जाने लगा.

इंस्टैंट मैसेजिंग एवं व्हाट्सऐप पर उपलब्ध इमोजी लोगों के बीच स्पष्ट भाव को प्रकट करने का काम करती हैं, लेकिन व्हाट्सऐप की एक इमोजी पर अब खतरा मंडराने लगा है. दरअसल, एक भारतीय ने व्हाट्सऐप की एक आपत्तिजनक इमोजी को ले कर लीगल नोटिस भेजा है. गुरमीत सिंह नाम के इस भारतीय ऐडवोकेट ने व्हाट्सऐप की मिडल फिंगर को ले कर आपत्ति जताई है. अपनी शिकायत में उन्होंने बताया कि मिडल फिंगर इमोजी न सिर्फ गैरकानूनी है, बल्कि यह अश्लीलता का प्रतीत भी है.

सोशल मीडिया में इस्तेमाल होने वाली इमोजी पर ब्रिटेन की अदालतों ने चिंता जताई है. देश में कानूनी विवादों में इन इमोजी का उपयोग केस को और पेचीदा बना रहा है. इसलिए वकील इन डिजिटल प्रतीकों के संदर्भ में एक गाइडलाइन जारी करने का आग्रह कर रहे हैं. ब्रिटेन की अदालतों में आपराधिक, पारिवारिक एवं व्यवसाय या रोजगार संबंधी कानूनी विवादों की सुनवाई में प्रस्तुत सुबूतों में ये इमोजी काफी देखने को मिल रही हैं.

सैंटा क्लैरा विश्वविद्यालय में कानून विभाग के प्रोफैसर एरिक गोल्डमैन का कहना है कि 2018 में 53 मामलों में इमोजी शामिल थीं, जो 2017 में 33 और 2016 में 26 इमोजी की तुलना में लगभग दोगुनी हो गईं. गोल्डमैन के अनुसार लोगों के डिवाइस और सोशल मीडिया प्लेटफौर्म भी एक ही इमोजी को अलगअलग तरीकों से प्रदर्शित कर सकते हैं और वह भी भेजने वाले और पाने वाले की जानकारी के बिना इस से अनायास ही विवाद होने का अंदेशा रहता है.

यौन शोषण के मामलों में ज्यादा उपयोग

गोल्डमैन के शोध में सामने आया है कि इमोजी अब ज्यादातर कानूनी मामलों में नजर आने लगी हैं. यौन शोषण संबंधी मामलों में ये सब से ज्यादा उपयोग की जाती हैं. तेजी से बढ़ते मामलों के बावजूद इन की कानूनी रूप से व्याख्या नहीं की गई है, जबकि अब नए ऐनिमेटेड (जिफ फाइल) और पहले से ज्यादा व्यक्तिगत इमोजी आ गई हैं जो चुनौती बन गई हैं.

वर्कप्लेस पर इमोजी का इस्तेमाल बिगाड़ सकता है छवि: अपने सहकर्मी को ईमेल करते वक्त, खुश हो कर या ईमेल को प्र्रभावी बनाने के लिए अगर आप इमोजी का इस्तेमाल करते हैं, तो यह आप के प्रोफैशनल कैरियर के लिए अच्छा नहीं है. एक हालिया शोध की मानें तो कार्यस्थल पर इमोजी का इस्तेमाल आप की छवि किस हद तक प्रभावित कर सकता है, यह आप सोच भी नहीं सकते. इसराईल की एक यूनिवर्सिटी में किए गए शोध के आधार पर शोधकर्ताओं का कहना है कि ईमेल के साथ स्माइली या अन्य इमोजी आप को पेशवर तौर पर अयोग्य साबित करती हैं.

शोध में शामिल डा. इला गिल्क्सन के अनुसार, पहली बार किसी शोध के नतीजे इमोजी के प्रयोग के प्रभाव का सुबूत पेश कर रहे हैं. उन के मुताबिक वास्तविक मुसकान के विपरीत इन इमोजी का इस्तेमाल कर के अगर आप सोचते हैं कि इस ईमेल के जरीए आप गरमजोशी दिखाने में कामयाब रहे हैं, तो यह गलत है. इस से आप की प्रोफैशनल क्षमताओं पर संदेह किया जा सकता है. औपचारिक बिजनैस ईमेल में एक स्माइली, स्माइली नहीं होती. शोधकर्ताओं ने इस शोध में 29 अलगअलग देशों के 54 प्रतिभागियों को शामिल किया था.

अगर आप व्हाट्सऐप, फेसबुक या किसी अन्य मैसेजिंग सर्विस पर कोई भी टैक्स बिना इमोजी के नहीं भेजते हैं तो आप के दिमाग पर सैक्स थोड़ा हावी हो सकता है. यह हम नहीं, ‘डेटिंग वैबसाइट मैच डौट कौम’ का एक नया शोध कहता है.

क्या कहता है शोध

‘डेटिंग वैबसाइट मैच डौट कौम’ के शोध के मुताबिक वे लोग, जो अपने लगभग हर टैक्स्ट मैसेज में इमोजी का इस्तेमाल करते हैं, उन का दिमाग ज्यादातर वक्त सैक्स के बारे में सोचता रहता है. इस शोध में अहम भूमिका निभाने वाली हैलेन फिशर के अनुसार इमोजी इस्तेमाल करने वाले न केवल ज्यादा सैक्स करते हैं, बल्कि वे ज्यादा डेट्स पर भी जाते हैं, साथ ही इन लोगों की शादी करने की संभावना इमोजी का इस्तेमाल कम या बिलकुल नहीं करने वाले लोगों की तुलना में दोगुनी होती है.

किन लोगों पर हुआ शोध: 25 देशों में 8 अलगअलग भाषाओं में काम कर रही इस वैबसाइट ने कुछ वक्त पहले भी शोध किया था, जिस के मुताबिक सर्वे में शामिल आधे से भी ज्यादा महिला और पुरुष अपनी डेट के साथ फ्लर्ट करते समय ‘विंक’ इमोजी का इस्तेमाल करते थे. शोध में यह भी पाया गया कि इस तरह की बातचीत में दूसरी सब से ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली प्रचलित इमोजी ‘स्माइली’ थी.

5,000 लोगों पर हुए इस शोध में 36 से 40% लोग ऐसे थे, जो हर मैसेज में 1 से अधिक इमोजी का इस्तेमाल करते थे. पाया गया कि ये लोग दिन में कईकई बार सैक्स के बारे में सोचते थे. वहीं जो लोग सैक्स के बारे में कभी नहीं सोचते थे उन के मैसेज में इमोजी का इस्तेमाल न के बराबर था. वहीं कई लोग ऐसे भी थे, जो सैक्स के बारे में दिन में बस एक बार सोचते थे और इमोजी का इस्तेमाल करते तो थे, लेकिन हर मैसेज पर नहीं.

इस शोध के मुताबिक इस शोध में शामिल 54% लोग, जो अपने संदेशों में इमोजी का इस्तेमाल करते थे, उन 31% लोगों की तुलना में अधिक सैक्स करते थे, जो इमोजी का इस्तेमाल नहीं किया करते थे.

पीरियड्स पर इमोजी

मार्च, 2019 से इमोजी की लिस्ट में पीरियड्स इमोजी भी शामिल हो गई है. यह इमोजी लाल रंग की खून की एक बूंद है. लोगों की रूढि़वादी सोच के दायरे को तोड़ने और पीरियड्स पर खुल कर बात करने में यह पीरियड्स इमोजी एक बड़ा कदम है. इस की मांग में यूके की ‘प्लान इंटरनैशनल यूके’ ने एक कैंपेन चलाया था.

मैसेजिंग ऐप व्हाट्सऐप अपने नए बीटा अपडेट में कुछ नई इमोजी ले कर आया है जिन की डिजाइन बदल गई है. नए ऐंड्रौयड बीटा अपडेट में ऐसी 155 इमोजी हैं, जिन की डिजाइन बदल गई है. ऐंड्रौयड बीटा टेस्टर नए अपडेट 2.19.139 में ये इमोजी देख सकते हैं.

आज स्मार्टफोन हमारी जरूरत बन गया है. इस के बिना तो हमारा काम ही नहीं चल सकता. रोज हम ट्विटर, फेसबुक समेत कई चीजों का इस्तेमाल करते हैं. अपनी बातों को ज्यादा शौर्ट में ऐक्सप्रैस करने के लिए हम इन पर बनीं इमोजी का इस्तेमाल कर लेते हैं. लेकिन इन में दी गईं 1000 से भी ज्यादा इमोजी में कुछ के तो हमें मतलब ही समझ में नहीं आते.

मगर अब इन सभी इमोजी कैरेक्टर को समझने के लिए मिल गया है सब से आसान उपाय और वह है इमोजीपीडिया. इस इमोजीपीडिया पर आप को हर इमोजी का मतलब मिल जाएगा.

Tags:
COMMENT