हम यह कहते नहीं अघाते कि हमारे ग्रंथों में महान भाईचारा, सदाचार, सत्य, धर्म, पूजा, यज्ञ, ज्ञान भरा पड़ा है. हर रोज सुबहसुबह से ही व्हाट्सऐप संदेश मिलने शुरू हो जाते हैं जो धर्म की खातिर कुछ भी करने का संदेश देते हैं पर धार्मिक कथाएं कैसी हैं, यह जरा सी परतें उधेड़ने पर पता चल जाता है. महाभारत में हिडिंबा की कहानी भी ऐसी ही है.

युधिष्ठिर जब जुए में दुर्योधन के हाथों राजपाट हार जाता है तो उसे मां कुंती और भाइयों के साथ वन में जाना पड़ता है. एक वन में जब वे विश्राम कर रहे होते हैं तो वन क्षेत्र के राजा हिडिंब को पता चलता है और वह अपनी बहन हिडिंबा को पता करने के लिए भेजता है कि वे लोग कितने हैं और कैसे हैं? हिडिंबा को पांडवों में से भीम बहुत पसंद आता है और उसे मारने की जगह वह भीम को ले कर भाई के पास जाती है. हिडिंब दोनों के प्रेम को स्वीकर नहीं करता तो भीम और हिडिंब में युद्ध होता है, जिस में हिडिंब मारा जाता है.

पांडवों की जान बचाने के लिए कुंती हिडिंबा को कुछ उपहार देने को कहती है तो हिडिंबा भीम को ही मांग लेती है. दोनों का विवाह हो जाता है और उन का पुत्र घटोत्कच होता है जो कुरुक्षेत्र के युद्ध में मारा जाता है.

ये भी पढ़ें- धर्म और कानून की नहीं सूझबूझ की जरूरत

सवाल है, यह कैसी संस्कृति थी, जिस में भाई के हत्यारे को सहज रूप से खुद मांग कर पति बना लिया जाता है? हिडिंबा तो चलो जंगली कुल की थी पर पांडव तो धर्म के रक्षक थे. उन्हें तो मालूम होना चाहिए था कि जिस के भाई को मार डाला गया हो, उसे पत्नी कैसे बनाया जा सकता है?

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT