लेखक- मधुप चौधरी

समधिन की बात सुन कर दिवाकर सकते में आ गए. नागिन की तरह फुफकार कर निर्मला बोली, ‘‘आप लोग मेरी बेटी को तरहतरह से तंग करते हैं. मैं ने बेटी का ब्याह किया है, उसे आप के हाथों बेचा नहीं है. मेरी बेटी अब आप के घर नहीं जाएगी.’’

दिवाकर ने पिछले साल ही अपने बड़े बेटे मुकुल की शादी पटना से सटे इस कसबे के निवासी गुलाबचंद की बड़ी बेटी रूपा से की थी. लड़की देखने आए तो गुलाबचंद और निर्मला के व्यवहार से इतना प्रभावित हुए थे कि आननफानन में रिश्ते के लिए ‘हां’ कर दी थी.

रूपा भी साधारण तौर पर नापसंद करने लायक नहीं थी. साफ रंग, छरहरा शरीर, नैननक्श भी ठीक ही थे. उस समय वह बीए की परीक्षा की तैयारी कर रही थी. दिवाकर को भी पढ़ीलिखी लड़की की ही तलाश थी सो रूपा हर तरह से उन लोगों को जंच गई. मुकुल को भी पसंद आई.

शादी बिना दानदहेज के बड़ी धूमधाम से हुई. बाजेगाजे और पूरे वैवाहिक कार्यक्रम की वीडियोग्राफी  हुई. रूपा के ससुराल आने पर दिवाकर ने एक शानदार प्रीतिभोज का आयोजन किया था.

दिवाकर को इस रिश्ते के लिए सब से अधिक लड़की की मां के व्यवहार और उन्मुक्तता ने प्रभावित किया था. कसबे के माहौल में ऐसी गृहिणियां भी हो सकती हैं, दिवाकर की कल्पना में भी नहीं था. गुलाबचंद दब्बू किस्म के मर्द लगे पर ऐसा ही होता है. दब्बू किस्म के मर्दों की पत्नियां मुखर होती हैं.

लेकिन दिवाकर को निर्मला से इस तरह से बातचीत या ऐसे तेवर की उम्मीद नहीं थी.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT