मैं ने शादी का कार्ड निशा को देते हुए कहा, ‘‘देखना, यह कार्ड हम दोनों की शादी के लिए ठीक रहेगा. अगले महीने की 10 तारीख का कार्ड है.’’

निशा आश्चर्यचकित एकटक मेरी ओर देख रही थी. गुस्से से बोली, ‘‘ऐसा भद्दा मजाक आप करोगे, मैं ने सपने में भी नहीं सोचा था.’’ फिर मेरे गंभीर चेहरे को गौर से देखते हुए वह बोली, ‘‘मैं आप को बता चुकी हूं कि मैं राहुल को तलाक देने के पक्ष में नहीं हूं. आप का सम्मान करती हूं लेकिन राहुल को जीजान से चाहती हूं. मैं उस के बगैर कदापि नहीं रह सकती. मैं अपना टूटता हुआ घर दोबारा बसाना चाहती हूं.’’

‘‘निशा, धीरज रखो. मैं अपनी योजना तुम्हें बताता हूं. यह मेरी अद्भुत सी कोशिश है. शायद इस से तुम्हारी बिगड़ी हुई बात बन जाए,’’ यह सुन कर निशा खुश दिखाई दी.

मैं ने निशा की पीठ प्यार से थपथपाई और उसे आश्वस्त करते हुए विनम्रता से कहा, ‘‘मैं तुम्हारा दोस्त हूं और यह चाहता हूं कि जब राहुल को यह कार्ड दिखाया जाएगा तो उस के अहं को चोट पहुंचेगी. वह अवश्य सोचेगा कि तुम्हारे दूसरे विवाह की कोई संभावना नहीं होनी चाहिए. वैसे भी वह तुम से दूर रह कर पछता रहा होगा.’’

‘‘मुझे नहीं लगता है कि मुझ से दूर रह कर वह परेशान है. मुझे तो पता चला है कि दोस्तों के साथ उस की हर शाम मौजमस्ती में गुजर रही है. उस की एक महिला दोस्त उस के साथ विवाह के सपने देख रही है,’’ निशा ने कहा.

मैं ने निशा को आगे बताया कि शादी के कार्ड की कुछ गिनीचुनी प्रतियां ही छपवाई हैं. राहुल के एक मित्र को कार्ड दिखा भी दिया है. अब तक तो वह उसे कार्ड दिखा चुका होगा. वैसे एक कार्ड मैं ने उसे राहुल के लिए भी दे दिया था.

राहुल को जब निशा के विवाह के बारे में पता चला तो उस ने तीव्र प्रतिक्रिया दिखाते हुए निशा से फोन पर बात की.

‘‘तुम अगर यह समझती हो कि मैं तुम्हें किसी और से शादी करने दूंगा तो गलत समझती हो. जिस घमंड के साथ तुम मुझे छोड़ कर अपने मायके चली गई थीं वह एक दिन टूटेगा और विवश हो कर तुम मेरे घर रहने के लिए वापस लौटने को मजबूर हो जाओगी. मैं देखता हूं कि तुम कैसे कांतजी से विवाह करती हो.’’

निशा राहुल की प्रतिक्रिया से मन ही मन खुश थी. उसे लगा राहुल अभी भी उस से बहुत प्यार करता है और कोर्र्टकचहरी की भागदौड़ से तंग आ चुका है. उस ने संक्षेप में राहुल से कहा, ‘‘लगता है जब मैं तुम्हारे साथ मौजूद नहीं हूं, तुम्हें मेरी अहमियत और जरूरत महसूस हो रही है. यह बात मेरे लिए अच्छी है. मिथ्या अभिमान त्याग कर खुशीखुशी मुझे और हमारी बेटी रिंकू को यहां आ कर अपने घर ले जाओ.’’

राहुल ने बगैर कोई उत्तर दिए फोन का रिसीवर रख दिया था.

निशा को अब तक साफतौर पर यह पता नहीं चल पा रहा था कि आखिर राहुल की मां उस से क्या चाहती हैं. वे अपनी बहू में किस प्रकार के गुण ढूंढ़ती हैं. जिस बात के लिए वे अपने बेटे से उस का तलाक चाहती थीं वह बात थी उन के घर एक बेटी (रिंकू ) का जन्म होना. उन की चाहत थी कि उन के घर एक लड़के का जन्म हो. वैसे भी शुरू से ही राहुल की मां को निशा पसंद नहीं थी क्योंकि निशा के मायके जाने के बाद उन्हें दोनों वक्त का खाना बनाना पड़ता था. घर का सारा काम करना पड़ता था. वे अपना अहम भी बरकरार रखना चाहती थीं.

एक दिन राहुल किसी काम से मौल गया हुआ था तो उस ने देखा कि निशा, कार में मेरे साथ आई हुई थी. उसे बहुत आश्चर्य हुआ. निशा कार से बाहर निकल कर मौल में चली गई और वह मन ही मन कुछ सोचता वहीं खड़ा रहा.

‘निशा एक सुंदर और आकर्षक लड़की है जिसे कोई भी प्रेम करने से इनकार नहीं करेगा. उस में कुछ ऐसी बातें अवश्य हैं जिन से प्रभावित हो कर मैं उसे अपनाना चाहूंगा. वास्तव में मैं कई बार निशा को आश्वस्त कर चुका हूं कि उसे राहुल से अधिक प्यार करूंगा. हम दोनों का बारबार मिलना इस बात का प्रमाण है. जब कभी भी हम दोनों एक हो पाए तो निशा के जीवन में कोई कमी नहीं रहेगी,’ मैं कार में बैठा सोचता रहा.

‘मैं आप की बात जरूर मानूंगी. अगर तलाक के कारण राहुल ने मुझे छोड़ दिया तो…इस के लिए कांतजी आप को इंतजार करना होगा,’ निशा ने एक दिन मुझ से कहा था.

निशा जैसे ही मौल से बाहर आई मैं ने आगे बढ़ कर हाथ मिलाने के लिए अपना हाथ बढ़ाया. वह मुसकराते हुए मेरी ओर आ रही थी. उस ने पूरे उत्साह से मुझ से हाथ मिलाया. उस की आंख में चमक थी. वह बहुत खुश दिखाई दे रही थी.

राहुल यह देख कर जलभुन उठा. मेरी गाड़ी से वह थोड़ी दूरी पर खड़ा था. हम दोनों ने उसे जानबूझ कर अनदेखा किया हुआ था. मैं ने कार का दरवाजा खोल कर निशा को बैठने का संकेत किया. वह ड्राइविंग सीट के साथ वाली सीट पर बैठ गई और मैं ने कार स्टार्ट कर के उसे मेन रोड पर ले लिया. देखते ही देखते मेरी कार राहुल की आंखों से ओझल हो गई.

राहुल के पास मोटरबाइक थी. उस ने हम दोनों का पीछा नहीं किया. राहुल को एक झटका सा लगा. अगर वह निशा को दोबारा घर में ला कर बसा नहीं पाया तो मेरे संबंध में उस के लिए एक विकल्प मौजूद है. उसे इस बात का एहसास था. निशा इतनी खूबसूरत है कि कोई भी उसे सहर्ष पत्नी के रूप में स्वीकार कर लेगा. वैसे निशा मेरे बारे में राहुल को सविस्तार बता चुकी थी कि मैं उसे स्वीकार करने के लिए तत्पर हूं और जैसे ही तलाक की कार्यवाही पूरी होगी, मैं उस से विवाह में देर नहीं लगाऊंगा. मैं निशा को आश्वस्त कर चुका था.

एक दिन निशा आफिस के बाद सीधे मेरे घर आई. मैं उस समय अकेला ही था. वह बहुत परेशान लग रही थी. कारण पूछने पर बताया कि राहुल ने फोन पर उस से कहा है कि अगर तुम सीधी तरह से तलाक के कागज पर स्वीकृति के हस्ताक्षर नहीं करोगी तो मैं तुम पर चरित्रहीनता का आरोप लगा दूंगा. मैं ने मोबाइल से तुम्हारी और कांतजी की फोटो ले कर तैयार करवा ली है. रिंकू और स्वयं के लिए जो खर्चे का आवेदन- पत्र दिया है उसे भी वापस लो. मैं कोई भी रकम तुम्हें जीवननिर्वाह के लिए देने के पक्ष में नहीं हूं.

यह बताने के बाद निशा मेरे कंधे पर सिर रख कर जोरजोर से रोने लगी. मेरा हृदय उस के दुख से द्रवित हो रहा था. मैं ने उसे अपने आलिंगन में ले कर प्यार से उस का माथा चूम लिया.

‘‘मेरा धीरज अब मेरा साथ नहीं दे रहा है. मैं फोन पर राहुल द्वारा दी जाने वाली धमकियों से बहुत परेशान हो चुकी हूं. एक तरफ दफ्तर के काम का बोझ, दूसरी तरफ रिंकू के लालनपालन की जिम्मेदारी. कांतजी, मैं बुरी तरह से टूट रही हूं. इतनी अच्छी शैक्षिक योग्यता हासिल करने के बाद लगता है कि बहुत कम योग्यता वाले राहुल को अपनाकर मैं ने जिंदगी की बहुत बड़ी भूल की है, जिस की कीमत मुझे मानसिक यातना से चुकानी पड़ रही है.’’

निशा ने सिसकियों के बीच कहना जारी रखा, ‘‘मां के हठ के कारण राहुल घर बसाने का साहस नहीं बटोर पा रहा है. मुझे पता चला है कि अब उस ने शराब पीना भी शुरू कर दिया है. रिंकू का मोह तो उसे रत्ती भर भी नहीं है. प्यार पर हम दोनों का अहम भारी हो गया है.’’

मैं चुपचाप निशा की बातें सुन रहा था. प्यार से उस की पीठ थपथपाते हुए सांत्वना भरे स्वर में बोला, ‘‘निशू, मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूं, तुम्हें इस तरह मानसिक दबाव में टूटते हुए तो मैं बिलकुल नहीं देख सकता हूं. जमाने की मुझे कोई चिंता नहीं है. जब किसी को अपनाना होता है तो यह जरूरी होता है कि बगैर शर्त के उसे उस की जिम्मेदारियों के साथ अपना बना लिया जाए. रिंकू को मैं अपनी पुत्री की तरह पालने की जिम्मेदारी के एहसास के साथ अपनाऊंगा. आज से तुम्हारी चिंताएं मेरी हैं.’’

‘‘सर, मुझे आप पर पूरा यकीन है,’’ निशा ने पहली बार ‘सर’ के संबोधन से, मेरा हाथ अपने हाथ में ले कर कहा, ‘‘अगर आप मेरे विवाह से पहले मिले होते तो आज बात कुछ और ही होती. बेशक आप अधिक उम्र के हैं पर एक सुलझे हुए व्यक्तित्व वाले पुरुष हैं. मैं अपने तलाक के कागज हस्ताक्षर कर के आप के द्वारा ही अपने वकील को भिजवा दूंगी,’’ भावुकतावश निशा की आंखें भर आईं थीं. अपनेआप को संभाल पाना उसे मुश्किल लग रहा था.

मैं ने निशा को समझाने का प्रयत्न करते हुए कहा, ‘‘तुम अभी धैर्य का साथ मत छोड़ो. तुम अपनी समस्या का समाधान तलाश रही हो. तुम्हें अपने हित को ताक पर रख कर किसी भी हाल में समझौता नहीं करना चाहिए. रिंकू का भविष्य सर्वोपरि है. अगर तुम राहुल के पास लौट जाती हो तो क्या तुम आश्वस्त हो कि किसी प्रकार तुम्हारे प्रति हिंसा या दुर्व्यवहार नहीं किया जाएगा.’’

इस का निशा के पास कोई उत्तर नहीं था. इसलिए उस की प्रतिक्रिया मूक थी. थोड़ी देर बाद निशा ने मौन तोड़ा.

‘‘मेरे बारे में जो धमकी राहुल ने दी है कि वह मुझे चरित्रहीन ठहराते हुए कोर्ट में इस आशय का एफिडेविट देगा, वह कोरी बकवास है. जब रिंकू का नामकरण था तो राहुल की एक गर्लफ्रैंड, जिस का नाम पूजा है, हमारे यहां उस के साथ आई थी और इस तरह व्यवहार कर रही थी जैसे वह राहुल की पत्नी है. यदि तलाक की प्रक्रिया पूरी हो गई तो राहुल के आगेपीछे घूमने वाली पूजा को खुला मौका मिल जाएगा. वह उस के साथ शादी करना चाहेगी,’’ निशा ने मुझे बताया.

निशा अकसर अपने व्यक्तिगत जीवन की सारी बातें मुझे बता दिया करती थी.

निशा एक सशक्त नारी की भांति हमेशा अपने पैरों पर खड़ी रही. दफ्तर में पूरी मुस्तैदी से कार्य करती थी. जिस प्रधानाचार्य के साथ काम करती थी वह उस से बेहद खुश था. मेरा उस कालेज में आनाजाना था और यह जान कर कि व्यक्तिगत जीवन में ढेरों तनाव के रहते हुए भी वह दफ्तर की सभी जरूरतों पर खरी उतरती थी. मैं भी उस के इस गुण से प्रभावित था.

सास और पति से प्रताडि़त होने पर भी निशा सबकुछ धैर्य से सहती रही. अपनी लालसाओं की पूर्ति न होने पर सास अपने बेटे का दूसरा विवाह करने के लिए तलाक करवाना चाहती थी, इसलिए वह निशा को अपने घर से निकाल कर खुश थी.

महिला का दुश्मन महिला का ही होना कोई नई बात नहीं है. यह तो कई परिवारों में होता रहा है. निशा के विवाह के समय उस के मातापिता ने राहुल को कोई दहेज नहीं दिया था. राहुल की मां चाहती थीं कि दूसरी शादी करवा कर राहुल को बहुत बढि़या दहेज मिले. उन के घर की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी. राहुल न तो नौकरी कर सकता था और न उस के पास कोई पूंजी थी कि वह व्यापार में पैसे लगा कर आमदनी का जरिया बना सके.

मैं ने जब कभी निशा को सलाह दी कि वह कभीकभी राहुल की मां से मिलने चली जाया करे, शायद उन से मेलजोल से बिगड़ी बात बन जाए तो निशा का उत्तर होता था, ‘मेरी सास के मन में मेरी छवि खराब हो चुकी है. मेरा कोई भी प्रयत्न सफल नहीं हो पाएगा. मुझ में उन्हें अच्छी बहू का कोई गुण नजर नहीं आता है. राहुल भी हमेशा अपनी मां के पक्ष में ही बात करता है.’

जब कभी निशा मेरे घर पर होती थी बहुत प्यारा और खुशी का माहौल होता था. अकसर बातें करतेकरते वह खिलखिला कर अनायास ही हंसने लग जाती थी. मुझे ऐसे समय में यही लगता था, जैसे वह एक नन्ही सी बच्ची है जो छोटीछोटी बातों से अपना मन बहला कर खुश होना जानती है. निशा ने जिंदगी में बहुत दुख झेले हैं जिन की भरपाई उस के जीवन में आने वाले खुशी के पल शायद ही कर पाएं.

एक दिन निशा ने बताया, ‘कांतजी, मैं आगे अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहती हूं. आज की स्पर्धा के युग में नारी को सक्षम बनना बहुत जरूरी हो गया है.’ मुझे उस के कथन में दृढ़ता का आभास हो रहा था.

मैं ने निशा को आश्वस्त करते हुए कहा, ‘तुम अवश्य ऐसा करो. मैं तुम्हारी सहायता करूंगा. उच्च शिक्षा प्राप्त करो. मुझे विश्वास है, तुम कामयाब होगी.’

वह मेरी बात बहुत ध्यान से सुन रही थी. सच कहूं तो नितप्रति मेरे मन में एक आशा हिलोरे मार रही थी कि अगर निशा राहुल के साथ घर नहीं बसा पाई तो मेरे घर आने में उसे कोई संकोच नहीं होगा. एक निराश नारी के हृदय में मैं प्राण फूंक सकूं. उस की पुत्री का पिता बन कर उसे सहारा दे सकूं तो स्वयं को मैं धन्य समझूंगा.

निशा को दिया जाने वाला हर आश्वासन मुझे उस की ओर ले जा रहा था. निशा भी यह बात अच्छी तरह जान चुकी थी कि मेरा आकर्षण उस के प्रति किसी शारीरिक मोह से प्रेरित नहीं है और न ही मैं उस की हालत पर तरस खा कर उसे अपनाना चाहता हूं. ऐसा केवल स्वभाववश है.

कई बार निशा मुझ से कह चुकी है, ‘‘कांतजी, न जाने कुदरत ने आप को किस मिट्टी से बनाया है. आप हर शख्स के साथ मोहब्बत और करुणा से पेश आते हैं.’’

आखिर वह दिन आ ही गया जब राहुल और निशा दोनों ने कोर्ट में तलाक के कागज पर हस्ताक्षर कर दिए. जिस दिन जज ने फैसले पर अपनी मुहर लगा दी और केस का निबटारा हो गया उसी दिन शाम के समय निशा मेरे घर आई.

वह दिन हमारी जिंदगी का बेहद अनमोल दिन था. खबर मिलने के बाद मैं रिंकू के लिए ढेरों उपहार और खिलौने बाजार से ले आया था. मैं ने इस अवसर को किसी खास तरीके से मनाने की बात को महत्त्व नहीं दिया. मैं अकेले ही निशा के साथ समय बिताना चाहता था.

घंटी बजने पर मैं ने दरवाजा खोला तो मैं आश्चर्यचकित रह गया. निशा लाल जोड़े में बेहद खूबसूरत शृंगार से सजीधजी सामने खड़ी थी. आंखों में नए जीवन की उम्मीद की चमक, होंठों पर न भुलाई जाने वाली मुसकान. स्वागत करते हुए मैं निशा के साथ ड्राइंगरूम में आ कर उस के समीप बैठ गया.

‘‘निशा, बड़े धैर्य के साथ मेरी बात सुनना,’’ मैं ने बड़े प्यार भरे शब्दों में उस से कहा, ‘‘बुरा मत मानना, बहुत विचार और चिंतन के बाद मैं इस नतीजे पर पहुंचा हूं कि मुझे तुम से विवाह करने के फैसले को बदलना होगा. दुनिया को यही लगे कि तुम मेरी पत्नी हो. अत: रिंकू के साथ मेरे घर आ जाओ. हम दोनों मिल कर रिंकू का लालनपालन करेंगे. यह एक प्रकार की लिव इन रिलेशनशिप ही होगी.

‘‘मेरी बढ़ती उम्र का तकाजा है कि मैं तुम्हें बेटी की तरह प्यार दूं. जहां इस दुनिया में भू्रणहत्या जैसे अपराध में लिप्त परिवार हैं वहीं हम दोनों मिल कर एक बेटी को पाल कर यह आदर्श स्थापित करें कि बेटी और बेटे में कोई फर्क नहीं होता है. अपना सबकुछ मैं आज से तुम्हारे नाम कर रहा हूं.’’

निशा किंकर्तव्यविमूढ़ मेरी ओर बड़े आदरभाव से देख रही थी. मेरे निकट आ कर उस ने मुझे गले से लगा लिया. आंसुओं को रोक पाना उस के बस में नहीं था. उस का मेरे निकट आना और मुझे गले लगाना कुछ ऐसा लगा जैसे किसी शिकारी ने एक चिडि़या को अपने तीर का निशाना बना दिया हो और वह घायल चिडि़या मेरी नरम हथेलियों पर सुरक्षा की तलाश में आ गिरी हो. वाल्मीकि ने अपनी प्रथम कविता की पंक्ति में ठीक ही लिखा था :

‘मां निषाद प्रतिष्ठाम् त्वमगम: शाश्वती समा:.

यत्क्रौंच मिथुनादेकमवधीम् काममोहित:’

-अर्थात् हे बहेलिया, काममोहित क्रौंच पक्षियों के जोड़े में से एक (नर) को तुम ने मार डाला. इसलिए अनंत वर्षों तक तुम्हें प्रतिष्ठा न मिले.

क्या राहुल को मैं भी वाल्मीकि जैसी बद्दुआ दूं, यह सोचने के तुरंत बाद मुझे लगा कि शायद इस की जरूरत नहीं, क्योंकि राहुल का तीर राहुल को ही ज्यादा घायल कर चुका होगा. पक्षी तो अब सुरक्षित है.

Tags:
COMMENT