मजदूर सारा सामान उतार कर जा चुके थे. बिखरा सामान रेलवे प्लेटफार्म का सा दृश्य पेश कर रहा था. अब शुरू कहां से करूं, यही समझ नहीं पा रही थी मैं. बच्चे साथ होते तो काफी बोझ अब तक घट भी गया होता. पूरी उम्र जो काम आसान लगता रहा था, अब वही पहाड़ जैसा भारीभरकम और मुश्किल लगने लगा है. 50 के आसपास पहुंचा मेरा शरीर अब भला 30-35 की चुस्ती कहां से ले आता. अपनी हालत पर रोनी सूरत बन चुकी थी मेरी.

‘‘कोई मजदूर ले आऊं, जो सामान इधरउधर करवा दे?’’ पति का परामर्श कांटे सा चुभ गया.

‘‘अब रसोई का सामान मजदूरों से लगवाऊंगी मैं, अलमारियों में कपड़े और बिस्तर कोई मजदूर रखेगा...आप ही क्योें नहीं हाथ बंटाते.’’

‘‘मेरा हाथ बंटाना भी तो तुम्हें नहीं सुहाता, फिर कहोगी पता नहीं कहां का सामान कहां रख दिया.’’

‘‘तो जब आप का सामान रखना मुझे नहीं सुहाता तो कोई मजदूर कैसे...’’

झगड़ पड़े थे हम. हर 3 साल के बाद तबादला हो जाता है. 4-5 हफ्ते तो कभी नहीं लगे थे नई जगह में सामान जमाने में मगर इस घर में काफी समय लग गया. एक तो घर छोटा था उस पर बारबार नई व्यवस्था करनी पड़ रही थी.

यों भी पूरी उम्र बीत गई है तरहतरह के घरों में स्वयं को ढालने में. इस का हमें फर्क ही नहीं पड़ता. पिछले घर का सुख नए घर में नहीं होता फिर भी नए घर में कुछ ऐसा जरूर मिल जाता है जो पिछले घर में नहीं होता.

ये भी पढ़ें- Short Story: हाय हाय बिदाई कैसे आए रुलाई

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT