लेखक-रंगनाथ द्विवेदी

हमारे देश के व्यंग्य साहित्य में थूकने पर लिखना कोई नया नही है, मुझसे पहले भी इस थूकने जैसे व्यंग्य के विषय पर लोग--"अपना बौद्धिक सत्यानाश कर चुके है, व्यंग्य का यही बौद्धिक सत्यानाश आज मुझे भी थूकने जैसे विषय पर व्यंग्य लिखने को ललचा रहा ". क्योंकि अगर मै इस थूकने पर नही लिखूंगा  तो निश्चित जानिए कि मेरे अंदर का व्यंग्यकार मुझे अगले जन्म में तुम भी इसी तरह "कोरोना थूकोगे ऐसा श्राप देगा". इसलिए मै अपने दिल पर व्यंग्य रखकर शपथ लेता हूं कि--"मै कोरोना थूकता हूं व्यंग्य की वायरल बिधा जो तबलीगी जमात से उपजी है उन्हें मै अपने स्तर के विद्वान के तौर पर समर्पित करता हूं ".

हमारे इस देश में--"थूकने वाले भी दो कटेगरी के है एक तो सभ्य है, दुसरे असभ्य थूकने वाले है". अब ये आप पर निर्भर है कि--"आइये हम कोरोना थूकते है" को आप इनमे से किस जमात में रखते है. हर देश और उसके राज्य में "थूकने का अपना एक इतिहास-भूगोल है, वैसे ही हमारे देश में भी थूकने का सबसे ज्यादा जनप्रिय इतिहास भूगोल है". इसपे हमारे देश के "थूकने वाले अपने आप को थूकने का महापुरुष समझे और अपने थूकने पर गर्व करे". ऐसा नही की सभी इतना ऐतिहासिक तरीके से थूकते है, कुछ बेचारे थूकने वाले यूँही बेमन से थूक देते है.

ये भी पढ़ें- 19 दिन 19 कहानियां: कैसी वाग्दत्ता

हमारे इस देश में आपको यहां-वहा थूकने में सहायक तमाम खाद्य सामग्री छोटी-छोटी लकड़ी की गुमटी से लेकर दुकान में टंगे मिल जाएंगे इन खाद्य सामग्री को गुटखा कहते है. हमारे देश में अधिकांश थूकने वाले--"खैनी और गुटखा का बड़े चटखारे के साथ इसका वैज्ञानिक आनंद लेते है". इनमे से कुछ एक राज्य ऐसे है जहाँ के कुछ जमातियो ने तो "आइये हम कोरोना थूकते है" कहकर और थूककर थूकने की आधुनिक व्यंग्य साहित्य का सीना ही 56 इंच का कर दिया. कुछ लोग कयास लगा रहे या कह रहे है कि ये "कोरोना वायरस थूकने वाला व्यंग्य पाकिस्तान के आतंकी व्यंग्यकार ने ईजाद किया है ये उसी की नकल कर कोरोना थूक रहे है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT