सुजाता की सुबह की सैर के साथी सोमनाथ कब उस के सुखदुख के साथी भी बन गए उसे पता ही न चला.
'गृहशोभा' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now
The Planet