उम्मी को ससुराल माफिक नहीं पड़ी है, यह उस की बातों से ही नहीं चेहरे पर भी पढ़ा जा सकता है. ससुराल जैसे उस के लिए जेलखाना हो गई है और मायका आजादी का आंगन. महीना भर हो गया है उसे यहां आए. 2 बार उस का बुलावा आ चुका है पर उम्मी बारबार किसी न किसी बहाने से अपना जाना टालती रही है, वहां जाने से बचती रही है.

Digital Plans
Print + Digital Plans

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT