हरीश पिछले कुछ दिनों से काफी परेशान था. वैसे तो उस की दुकान ठीक ही चल रही थी परंतु उस दुकान को खरीदने के लिए 3 साल पहले उस ने जो 40 हजार डालर का कर्ज लिया था, उस के भुगतान का समय आ गया था. उस ने एक कर्ज देने वाली कंपनी से 25 प्रतिशत सालाना ब्याज की दर से रुपया उधार लिया था. वे लोग उस को कर्जे की रकम अदा करने के लिए मुहलत देने को तैयार नहीं थे. उसे मालूम था कि अगर वह समय पर रकम अदा नहीं कर पाया तो वे उस की दुकान को हड़प कर लेंगे.

ऐसा तो नहीं था कि उस की दुकान अच्छी न चलती हो, परंतु 10 हजार डालर तो हर साल कर्जे के ब्याज के ही हो जाते थे. ऊपर से उस की परेशानियों को बढ़ाने के लिए 2 साल पहले एक बेटी भी पैदा हो गई थी जिस के कारण रमा ने भी दुकान पर काम करना बंद कर दिया था. उस के काम को करने के लिए अब उसे 2 लड़कियों को रखना पड़ रहा था. वे लड़कियां मौका मिलते ही दुकान से चोरी करने में तनिक भी नहीं चूकती थीं.

हरीश ने कई बैंकों और उधार देने वाली कंपनियों से बातचीत भी की पर कोई भी उसे उधार देने को तैयार नहीं हुआ. हार कर उसे अपने दोस्त सुधीर की शरण में ही जाना पड़ा.

सुधीर से उस ने 3 साल पहले भी उधार देने को कहा था परंतु उस ने साफ मना कर दिया था. सुधीर का दोटूक जवाब सुन कर ही वह उस उधार देने वाली कंपनी के पास गया था.

हरीश की कहानी सुन कर सुधीर यह तो जान गया कि वह ही हरीश का एकमात्र सहारा बन सकता है. उस ने हरीश से अपनी दुकान के हिसाबकिताब के कागजात अगले दिन लाने को कहा. हरीश अगले दिन ठीक समय पर सुधीर के घर हिसाबकिताब की फाइलें ले कर पहुंच गया. सुधीर लगभग 1 घंटे तक उन का अध्ययन करता रहा और हरीश से प्रश्न पूछता रहा.

‘‘भाई, तुम्हारी दुकान अच्छी हालत में नहीं है. कोई भी कर्ज देने वाला इस हिसाबकिताब के आधार पर कभी भी तुम को उधार नहीं देगा. मेरी राय में तुम्हारे पास एक ही रास्ता है, अपना मकान और जेवर गिरवी रख दो,’’ सुधीर ने सुझाव दिया.

‘‘मकान तो पहले से ही उधार पर खरीदा हुआ है. अभी उस पर 1 लाख डालर का कर्ज बाकी है,’’ हरीश धीरे से बोला.

‘‘तुम्हारे मकान की कीमत इस समय 1 लाख 30 हजार डालर होगी. अगर उस को एक बार फिर गिरवी रख दो तो तुम्हें 15 हजार और मिल सकते हैं. फिर भी 5 हजार कम पड़ेंगे. दुकान पर तो कोई मुश्किल से 20 हजार ही देगा. इन 5 हजार के लिए तुम्हारे पास जेवर गिरवी रखने के अलावा कोई चारा नहीं है,’’ सुधीर ने अपनी भेदती आंखों से हरीश को देखा. हरीश मन ही मन कांप रहा था. हरीश को सुधीर से ऐसी उम्मीद न थी.

‘‘मैं सोच रहा था कि घर को अपने पास गिरवी रख कर तुम 20 हजार दे दो. 20 हजार से मेरा काम चल जाएगा. रमा के जेवर गिरवी रखने की क्या जरूरत है? तुम्हारे पास भी तो बैंक के लौकर में रहेंगे. कम से कम रमा के सामने मेरी इज्जत तो बनी रहेगी,’’ हरीश गिड़गिड़ाया.

‘‘देखो भाई, मैं ने तुम से पहले भी कहा था, दोस्तों से मैं कारोबार इसीलिए नहीं करता. बीच में दोस्ती ले आते हैं. फिर न तो दोस्ती ही रहती है और न ही कारोबार हो पाता है. एक बात और मैं उधार की रकम का 20 प्रतिशत प्रशासन फीस के तौर पर पहले ही ले लेता हूं. तुम्हीं को कागज तैयार करने की फीस भी नोटरी को देनी होगी, जो लगभग 500 डालर तो होगी ही.’’

‘‘इस का मतलब 40 हजार की रकम पाने के लिए 41,300 उधार लेने होंगे, क्यों सुधीर?’’

‘‘हां, हरीश.’’

‘‘ठीक है, मैं तैयार हूं.’’

सुधीर ने अपनी डायरी से एक पता लिखा और हरीश को दिया, ‘‘यह मेरे नोटरी का पता है. सस्ते में ही काम कर देगा. मैं इस को फोन कर दूंगा. तुम अपने मकान और दुकान के सारे कागज उस के यहां छोड़ आना. साथ ही जो जेवर गिरवी रखने हों, उन की फोटो और कीमत का विवरण भी उस को दे आना. जेवरों की कीमत कम से कम 10 हजार डालर तो होनी ही चाहिए, उन पर 5 हजार उधार लेने के लिए,’’ सुधीर ने हरीश को साफ- साफ इस तरह कह दिया जैसे कि वह उस का मित्र नहीं कोई अजनबी हो.

‘‘ठीक है, मैं कल ही दे आऊंगा,’’ यह कह कर हरीश चला गया.

सारे रास्ते हरीश सोचता रहा कि सुधीर को उस की दोस्ती का तनिक भी लिहाज नहीं है. पिछले 12 साल से वे एकदूसरे को जानते हैं. लगभग एकसाथ ही टोरंटो आए थे. सुधीर ने खूब पैसा कमाया और बचाया. एक बड़ा घर बनवा कर ठाट से अपने परिवार के साथ रह रहा है. पैसा कमाने के मामले में हरीश बहुत सफल नहीं रहा. बड़ी मुश्किल से किसी तरह पैसे बचा कर और कर्जे में डूब कर यह दुकान खरीदी और वह भी ठीक से नहीं चल रही.

जेवरों को गिरवी रखने की बात उस ने रमा को नहीं बताई. यह तो अच्छा ही हुआ कि उस ने अपना बैंक का लौकर रमा के नाम नहीं करवाया. आराम से जेवर निकाल कर गिरवी रख देगा. रमा को पता भी नहीं चलेगा.

सुधीर के नोटरी ने हरीश से सब जरूरी कागजात पाने के बाद 2 दिन में ही कर्जे के कागज तैयार कर दिए. उन कागजों पर हस्ताक्षर करने के लिए शाम को 8 बजे नोटरी के दफ्तर में जाना था. हरीश तो साढ़े 7 बजे ही पहुंच गया. सुधीर ठीक समय पर ही पहुंचा, साहूकार जो ठहरा.

सुधीर हरीश से इस तरह मिला जैसे कि बरसों का बिछड़ा दोस्त हो, ‘कितना बहुरुपिया है यह. 4 दिन पहले अपने घर में किस तरह से पेश आ रहा था और अब ऐसे मिल रहा है जैसे कर्ज नहीं सौगात देने जा रहा हो,’ हरीश ने सोचा.

नोटरी ने उन दोनों को अपने दफ्तर में भीतर बुला लिया.

नोटरी के सामने सुधीर और हरीश बैठ गए. नोटरी कर्जे की सारी शर्तें पढ़ कर सुना रहा था. कर्जे की रकम पूरी 42 हजार डालर होगी. उस पर 27 प्रतिशत की दर से ब्याज लगेगा जो हर महीने की पहली तारीख को देना होगा.

हरीश ने नोटरी को बीच में ही रोक दिया, ‘‘27 प्रतिशत, आजकल बाजार की दर तो 24 प्रतिशत है.’’

‘‘तब बाजार से क्यों नहीं ले लिया. भई, इतनी बड़ी रकम का जोखिम भी तो मैं ही उठा रहा हूं,’’ सुधीर बोला.

‘‘मिस्टर हरीश, सुधीर ठीक ही कहते हैं. मैं ने आप के कारोबार के सारे कागजात देखे हैं. मैं खुद भी आप को अगर उधार देता तो 30 प्रतिशत से कम ब्याज नहीं लेता. सुधीर आप से दोस्ती के लिहाज में कम ब्याज ले रहे हैं,’’ नोटरी ने सुधीर की तरफदारी की. वह हरीश की ओर देखने लगा.

‘‘अच्छा, ठीक है,’’ हरीश बोला.

‘‘ब्याज की रकम ठीक 1 तारीख को न मिलने पर हरीश को कानूनी नोटिस दिया जा सकता है और उस की दुकान और मकान जब्त किए जा सकते हैं.’’

इस से पहले कि हरीश कुछ आना- कानी करे, नोटरी ने ही समझाया कि ये सब सामान्य शर्तें हैं.

हरीश को याद आया कि पहले कर्ज देने वाली कंपनी ने भी उस से कुछ इस तरह की शर्तों पर ही हस्ताक्षर करवाए थे. हरीश सिगरेट पर सिगरेट फूंके जा रहा था. उस की सिगरेट के धुएं से नोटरी के दफ्तर में धुआं ही धुआं भर गया.

‘‘अगर मिस्टर हरीश तुम कुछ देर और ठहरे तो सिगरेट के धुएं के कारण अंधेरा ही हो जाएगा. आप जैसे ग्राहक मुझ को कैंसर करवा कर ही छोड़ेंगे,’’ नोटरी ने पहले सुधीर से हस्ताक्षर करवाए. फिर हरीश से. इस के बाद खुद किए, ‘‘कल यह कागज रजिस्ट्रार के यहां ले जा कर इन की रजिस्ट्री करा दूंगा.’’

नोटरी ने एक चैक हरीश को दे दिया. हरीश ने नोटरी को उस की फीस के 500 डालर नकद दे दिए. चैक से फीस देने पर तो नोटरी 800 डालर मांग रहा था. चैक पा कर हरीश ने नोटरी से हाथ मिलाया. फिर सुधीर ने हरीश से हाथ मिलाया.

सुधीर ने महसूस किया कि हरीश पसीनेपसीने हो रहा था. उस का हाथ हरीश के पसीने से गीला हो गया. हरीश चैक ले कर तुरंत चला गया. सुधीर को नोटरी से कुछ जरूरी बातें करनी थीं इसलिए वह रुक गया. उस ने जेब से रूमाल निकाल कर अपनी गीली हथेली को पोंछा.

‘‘देखना कहीं पसीने की जगह हरीश का खून ही न हो,’’ नोटरी ने मजाक किया.

‘‘इस से पहले कि मैं भूल जाऊं, मेरी दलाली के 100 डालर निकालो, हरीश से ली गई फीस में से.’’

नोटरी ने 100 डालर का नोट सुधीर को देते हुए कहा, ‘‘मैं उम्मीद कर रहा था कि तुम शायद भूल जाओगे पर तुम हो पक्के साहूकार.’’

सुधीर ने नोटरी का दिया 100 डालर का नोट जेब में रख लिया, ‘‘इस तरह भूल जाऊं तो आज इतना फैला हुआ कारोबार कैसे चला पाऊंगा.’’

कुछ देर बात कर के सुधीर चला गया.

हरीश और सुधीर के बीच की दोस्ती लगभग समाप्त ही हो गई थी. हर महीने की पहली तारीख को हरीश ब्याज की किस्त सुधीर के यहां पहुंचा देता था. रमा भी अब दुकान पर आने लगी थी. बच्ची के कारण पहले की तरह तो नहीं आ पाती थी, इसी वजह से एक लड़की को अभी भी दुकान पर रखा हुआ था.

हरीश का जीवन काफी तनावपूर्ण था. रमा के लाख लड़नेझगड़ने पर भी वह अपनी सिगरेट पीना कम नहीं कर रहा था. शराब तो वह पहले से ही काफी पीता था. हर रात जब तक 2-3 पैग स्कौच के नहीं पी लेता था तब तक उसे नींद ही नहीं आती थी.

आखिर हरीश का शरीर कब तक अपने ऊपर की हुई ज्यादतियां बरदाश्त करता. उस के दिल ने बगावत कर दी थी. यह तो अच्छा हुआ कि उस को दिल का दौरा दुकान में रमा और नौकरानी के सामने ही पड़ा, इस कारण से उस को डाक्टरी सहायता जल्दी ही मिल गई. रमा के तो हाथपांव फूल गए थे. परंतु उस लड़की ने धैर्य से काम ले कर ऐंबुलेंस को बुलवा लिया था. अस्पताल में उस को इमरजैंसी वार्ड में तुरंत भरती करवा दिया गया. डाक्टरों के अनुसार अगर हरीश को अस्पताल आने में 15 मिनट की और देरी हो जाती तो वे कुछ भी नहीं कर पाते.

रमा के ऊपर हरीश की बीमारी से बहुत बोझ आ पड़ा. दुकान की जिम्मेदारी, बच्चे की देखरेख और अस्पताल के सुबहशाम के चक्कर. हरीश को बातचीत करने की सख्त मनाही थी. ऐसी हालत में जरा सी दिमागी परेशानी होने से जान को खतरा हो सकता था. दिल के दौरे ने हरीश की सिगरेट छुड़वा दी. अगर पहले ही सिगरेट छोड़ देता तो शायद दिल का दौरा पड़ता ही नहीं.

दिल का दौरा पड़ने से ठीक 1 महीने के बाद हरीश को अस्पताल से घर जाने की इजाजत मिल गई. रमा उस को अस्पताल से घर छोड़ गई. आज तक तो दुकान उस ने उस काम करने वाली लड़की की देखरेख में ही छोड़ रखी थी.

अचानक सुधीर का ध्यान आया, ‘‘अरे, आज 20 तारीख हो गई. रमा तुम ने सुधीर को उस की ब्याज की किस्त का चैक भिजवाया था पहली तारीख को?

रमा उस समय रसोई में थी. हरीश की आवाज सुन कर ऊपर शयनकक्ष में दौड़ी आई.

‘‘अरे, भूल गई मैं तो. उन को क्या मालूम नहीं कि आप को दिल का दौरा पड़ा है. कम से कम एक बार तो आ कर अस्पताल में देख जाते. बस, एक बार बीवी से फोन करवा दिया. हम कोई भागे थोड़े ही जाते हैं. मैं कल ही चैक खुद दे आऊंगी उन के घर,’’ इतना कह कर रमा चली गई.

हरीश से फिर भी रहा नहीं गया. उस ने सुधीर के घर का टैलीफोन नंबर घुमाया. फोन सुधीर के लड़के ने उठाया, ‘‘अरे चाचाजी, आप? कैसी तबीयत है? पिताजी आप के लिए बहुत चिंता करते हैं. इस समय तो पिताजी घर पर नहीं हैं. उन के आने पर उन से कह कर फोन करवा दूंगा.’’

‘इस का बेटा भी बिलकुल बाप पर गया है,’ हरीश ने मन ही मन सोचा.

सवेरे जब रमा दुकान पर जाने लगी तो हरीश ने अपनी गैरहाजिरी में आई हुई डाक लाने को कहा. रमा सारे पत्र ऊपर ले आई.

रमा जाने लगी तो हरीश ने उस को एक बार फिर से याद दिलाया कि सुधीर को चैक अवश्य भिजवाना है.

रमा चली गई. हरीश ने एक नजर उन पत्रों के ढेर पर डाली. फिर धीरेधीरे उन पत्रों को खोलने लगा.

रमा का कहना सच ही था. पहले 5 पत्र तो बिजली, गैस, टैलीफोन, अखबार और टैलीविजन के किराए के ही बिल थे. उन पत्रों के ढेर में एक बड़ा सा सफेद लंबा लिफाफा था. हरीश ने उसे खोला. उस को पढ़ते ही हरीश की आंखों के सामने अंधेरा छा गया. पत्र सुधीर के वकील की तरफ से था. सुधीर ने समय पर ब्याज की किस्त न अदा करने के कारण दुकान और मकान पर कब्जा करने की कानूनी कार्यवाही का नोटिस दिया था.

हरीश के पसीना छूटने लगा. उस को समझने में देर न लगी कि उसे क्या हो रहा है. उस ने बिस्तर से उठने की नाकामयाब कोशिश की. कुछ क्षणों पश्चात उस की आंखें मुंदने लगीं. उस की आंखें पथरा गईं और वकील का नोटिस उस की बेजान उंगलियों के बीच उलझ कर रह गया ताकि शाम को रमा उस को पढ़ ले.

Tags:
COMMENT