इस वैलेंटाइन डे पर आप छोटीछोटी खुशियों से अपने प्यार के पुराने पलों को याद कर सकती हैं. एकदूसरे को स्पैशल फील करा सकती हैं, कुछ इस तरह:

तुम हो खास

जब कोई हमारे लिए सरप्राइज प्लान करता है, तो हम स्पैशल फील करते हैं. इस वैलेंटाइन डे आप भी अपने पति के लिए कुछ स्पैशल प्लान करें, जो उन के चेहरे पर प्यारी सी मुसकान ला सके. आप उन की पसंदीदा चीज औनलाइन और्डर कर के उन्हें सरप्राइज दे सकती हैं या फिर मूवी के टिकट बुक करा कर उन के फोन पर मैसेज कर सरप्राइज दे सकती हैं.

तोहफा उन के लिए

इस दिन पति को गिफ्ट जरूर दें. जरूरी नहीं कि कोई महंगी चीज ही गिफ्ट करें. आप उन की जरूरत की छोटीछोटी चीज भी गिफ्ट कर सकती हैं.

बातोंबातों में हो जाए प्यार

पतिपत्नी साथ तो रहते हैं, लेकिन घरपरिवार की जिम्मेदारियों की वजह से उन्हें इतना समय नहीं मिलता कि एकदूसरे से प्यार भरी बातें कर सकें. अत: कोशिश करें कि इस वैलेंटाइन डे थोड़े रोमांटिक अंदाज में पेश आएं. पति से प्यार भरी बातें करें.

माहौल हो रोमानी

इस दिन अपने घर को अच्छी तरह सजाएं. घर को रोमांटिक माहौल दें. दीवारों पर अपनी कुछ तसवीरें लगा सकती हैं. घर को फूलों से सजा सकती हैं. इस दिन बैडरूम को स्पैशल तरीके से सजाएं ताकि वे आप से चाह कर भी दूर न रह पाएं.

बस हमतुम

आप इस दिन कहीं बाहर घूमने का भी कार्यक्रम बना सकती हैं. बाहर एकदूसरे के साथ को ऐंजौय करें. इस दिन पार्टनर को ‘आई लव यू’ जरूर कहें. ये 3 शब्द मैजिक भरे होते हैं, जो रिश्ते में मिठास लाते हैं.

क्या न करें

महिलाओं में अकसर देखा जाता है कि वे तुलना करती हैं कि मेरी सहेली के पति ने उस के लिए पार्टी रखी, इतना महंगा गिफ्ट दिया. आप ऐसा न करें. पैसे को महत्त्व न दें, बल्कि जो पति कर रहे हैं उसी में खुश हो ऐंजौय करें.

सैलिब्रेट करने के बजाय शिकायत ले कर न बैठ जाएं कि आप ने उन के लिए इतना अच्छा सरप्राइज प्लान किया है, लेकिन वे आप के लिए कुछ ले कर नहीं आए.

गिफ्ट पसंद न आने पर तीखी प्रतिक्रिया तो कतई न दें. कई बार कुछ महिलाएं गिफ्ट पसंद नहीं आने पर पति के सामने ही कह देती हैं कि यह क्या लाए हो? यह मेरे किसी काम का नहीं है.

समाज में कुछ ऐसे भी लोग होते हैं, जो इस तरह के उत्सव या खास दिन को धर्म व संस्कृति से जोड़ कर देखते हैं. उन का मानना होता है कि इस तरह के उत्सवों को नहीं मनाना चाहिए. ये हमारी संस्कृति में नहीं हैं. लेकिन यह बेतुकी बात है. यह किसी धर्म या संस्कृति का दिन नहीं है, बल्कि प्यार का दिन है और इसे एकदूसरे के साथ प्यार से मनाना चाहिए. 

Tags: