बाइक से हैरतअंगेज करतब

By Dr. Vinod Gupta | 12 October 2017
बाइक से हैरतअंगेज करतब

युवाओं की खास पसंद है बाइक. कुछ उत्साही और दुस्साहसी युवक मोटरसाइकिल से ऐसे हैरतअंगेज कारनामे करते हैं कि देखने वाला आश्चर्यचकित रह जाए.  सेना की डेयर डेविल्स मोटरसाइकिल प्रदर्शन टीम ने ऐसे हैरतअंगेज कारनामों के लिए अनेक बार गिनीज बुक औफ वर्ल्ड रिकौर्ड्स में अपना नाम दर्ज कराया है. इस टीम ने अपना पहला रिकौर्ड 1991 में ग्वालियर में तब बनाया था जब 7 मोटरसाइकिलों पर 40 जवानों ने सवार हो कर 400 मीटर का फासला तय किया था. सेना की ही सिग्नल कोर टीम ने 11 मोटरसाइकिलों पर 251 जवानों को बैठा कर 11 जून, 2009 को जबलपुर में 240 मीटर चलने का रिकौर्ड बनाया था.

अक्तूबर 2014 में मध्य प्रदेश की जबलपुर डेयर डेविल्स टीम ने करतब दिखाते हुए 3 नए विश्व रिकौर्ड बनाए. पहला रिकौर्ड 70 सैकंड में 3 मोटरसाइकिलों पर 15 जवानों ने 1 किलोमीटर के वर्गाकार क्षेत्र में मानव मोटरसाइकिल पिरामिड बना कर बनाया. नायक दिलीप कुमार बोहरा के पेट के ऊपर से 1,200 बार बौक्स को निकाला गया. यह स्टंट जवानों ने 13 मिनट में पूरा किया. तीसरा रिकौर्ड हवलदार दिपायन चौधरी व ईश्वर रावटी ने वर्गाकार ट्रैक पर 218 किलोमीटर की रिवर्स राइडिंग की. उन्होंने पिछला रिकौर्ड तोड़ते हुए 4 घंटे 21 मिनट और 8 सैकंड में यह कीर्तिमान रचा.

1976 में ब्राजीलियन आर्मी पुलिस के 40 जवान एक ही मोटरसाइकिल पर सवार हो कर 1.6 किलोमीटर की दूरी तक गए थे.  मोटरसाइकिल द्वारा सब से लंबी छलांक का रिकौर्ड 69,60 मीटर का है. 6 फरवरी, 1977 को फ्रांस के एलो ज्यां प्रीयू ने पैरिस के निकट मौटलेहरी में छलांग लगा कर 16 बसों को पार कर के यह रिकौर्ड बनाया था.  22 जून को लौडन, न्यू हैंपशायर में डोग डैंजर ने 1991 होंडा सी आर 500 पर मोटरसाइकिल द्वारा लंबी छलांग में 251 फुट की सब से लंबी दूरी तय की.

रोमांचक प्रदर्शन

नई दिल्ली में हर वर्ष गणतंत्र दिवस समारोह में मोटरसाइकिल के रोमांचक प्रदर्शन भारतीय सेना के जवानों द्वारा किए जाते हैं, जिन्हें देख दर्शक दांतों तले उंगलियां दबा लेते हैं. 26 जनवरी, 1992 को भारतीय थलसेना की मोटरसाइकिल प्रदर्शन टीम ने 42 पुरुषों और 8 मोटरसाइकिलों ने पिरामिड बनाने का रिकौर्ड बनाया था. जिस ने बिना किसी बाहरी सहायता के 600 मीटर की दूरी तय की थी. इस टीम ने 6 जून, 1992 को अपना रिकौर्ड सुधारते हुए 8 मोटरसाइकिलों पर 45 पुरुषों का पिरामिड बना कर 800 मीटर की दूरी तय की थी.

सेना की डेयर डेविल्स के नाम  2 रिकौर्ड और भी हैं, 21 दिसंबर, 2013 को उस ने चलती मोटरसाइकिल पर प्रदर्शन किया. इसी दिन उस ने जमीन पर लेटे  हुए 50 जवानों  के ऊपर से मोटरसाइकिल जंप करा कर लोगों को आश्चर्यचकित कर दिया था.  मोटरसाइकिल से हैरतअंगेज प्रदर्शन करने वालों की कमी नहीं है. 30 नवंबर, 1988 को 10 फुट की सीढ़ी के ऊपर से पीछे की तरफ मुंह कर के लगातार 90 मिनट के लिए सिग्नलमैन डेबी जोंस, रौयल सिग्नल व्हाइट हैलमेट्स ने 23 किलोमीटर की दूरी केटरिक एयरफील्ड, न्यूयौर्क में तय की थी.  अटलांटा जौर्जिया के ग्रगेरीड ने स्ट्रीटलीगल मोटरसाइकिल प्रदर्शित की जो 15 फुट 6 इंच लंबी और 253 किलोग्राम भारी है.

क्या आप ने 25 फुट लंबी मोटरसाइकिल को चलते देखा है? जरमनी के एसेन मोटर शो में प्रदर्शित इस मोटरसाइकिल को बनाया है स्टीव हौपकिंस ने. इस पर 10 व्यक्ति आराम से बैठ सकते हैं.

लाजवाब कारनामे

ब्रिटेन के कोलिन फुर्ज ने तो कमाल ही कर दिखाया. उन्होंने 72 फुट लंबी मोटरसाइकिल प्रदर्शित की. लंबाई अधिक होने के कारण इसे सीधे चलना पड़ता है. इस पर 25 व्यक्ति आराम से बैठ सकते हैं. गिनीज बुक औफ वर्ल्ड रिकौर्ड्स के लिए इसे एक मील तक चला कर दिखाया गया. इस की रफ्तार 35 किलोमीटर प्रतिघंटा है.

क्या आप 7.5 फुट ऊंची मोटरसाइकिल की कल्पना कर सकते हैं? यह ‘विगटो’ है जोकि स्वीडन के टौम बीवर्ग ने बनाई है. जगुआर के 12 पावर के इंजन वाली यह मोटरसाइकिल 100 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चल सकती है.

फ्रांस के कलाकार जूलियन डूपौंट ने मैक्सिको में बाइक पर सांसें रोक देने वाले कारनामे को अंजाम दिया है. इस साहसी कलाकार ने अपने जीवन का सब से हैरतअंगेज प्रदर्शन करते हुए मैक्सिको सिटी के मोंटाना रूसा रोलर कौस्टर ट्रैक पर बाइक चलाई. 33 मीटर ऊंचा यानी 108 फुट वुडन कौस्टर बिना बिजली के चलने वाली ट्रेन के लिए तैयार किया गया था जो गुरुत्वाकर्षण सिद्धांत पर काम करता है.  सड़क पर बाइक सवार प्रदर्शन करते हुए तो अकसर देखे जाते हैं लेकिन आसमान में पैराग्लाइडिंग से बाइक पर प्रदर्शन करना लोहे के चने चबाने से कम नहीं है. ऐसा ही कारनामा किया स्टंटमैन स्टीव मेयर ने. उन्होंने साल्ट लेक सिटी से 50 मील दूर उटाह में हार्ले डैविडसन से पैराग्लाइडर की तरह माउंट टिंपानोगास के चारों ओर चक्कर लगाया.

उम्र 56 साल की लेकिन जज्बा युवाओं जैसा. मिलिटरी एमसीटीई के ड्राइवर सुरेश चौधरी ने फरवरी 2014 में बगैर हैंडल पकड़े 221 किलोमीटर तक बाइक चलाने का कारनामा किया. उन्होंने मध्य प्रदेश के महू से जुलवानिया तक बाइक चला कर इस कारनामे को अंजाम दिया.

उन्होंने यह सफर 3 घंटे में पूरा किया. वे 10 साल के कड़े अभ्यास के बाद यह मुकाम हासिल कर पाए. उन का सपना हाथ छोड़ कर बाइक चलाने वाले 213 किलोमीटर के रिकौर्ड को तोड़ना था. वे अपने इस कारनामे को गिनीज बुक औफ वर्ल्ड रिकौर्ड्स में दर्ज कराने का दावा करेंगे.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं
INSIDE GRIHSHOBHA
READER'S COMMENTS / अपने विचार पाठकों तक पहुचाएं

Comments

Add new comment