सिद्ध बाबा

19 June 2017
सिद्ध बाबा

अपनी पत्नी को भोजन ले जाते देख सोहनलाल पूछ बैठे, ‘‘यह थाली किस के लिए है?’’

‘‘क्या आप को नहीं मालूम?’’

‘‘मुझे कुछ नहीं मालूम,’’ सोहनलाल झल्ला कर बोले.

‘‘सूरदास महाराज के लिए...’’ पत्नी ने सहजता से जवाब दिया.

‘‘बंद करो उस का भोजन,’’ सोहनलाल चीखे तो पत्नी के हाथ से थाली गिरतेगिरते बची. वह आगे बोले, ‘‘पिछले 5 साल से उस अंधे के बच्चे को खाना खिला रहा हूं. उस से कह दो कि यहां से जाए और भिक्षा मांग कर अपना पेट भरे. मेरे पास कुबेर का भंडार नहीं है.’’

‘‘गरीब ब्राह्मण है. अगर उस के घर वाले न निकालते तो भला क्यों आप के टुकड़ों पर टिका रहता. इसलिए जैसे 10 लोग खाते हैं, वैसे एक वह भी सही,’’ कहते हुए पत्नी ने थाली को और मजबूती से पकड़ा और आगे बढ़ गई.

थोड़ी देर बाद जब वह सूरदास के पास से लौटी तो सोहनलाल उसे देखते ही पुन: बोल उठे, ‘‘आखिर उस अंधे से तुम्हें क्या मिलता है?’’

‘‘तुम्हें तो राम का नाम लेने की फुरसत नहीं...कम से कम वह इस कुटिया में बैठाबैठा राम नाम तो जपता रहता है.’’

‘‘यह अंधा राम का नाम लेता है? अरे, जिस की जबान हमेशा लड़खड़ाती रहती हो वह...लेकिन हां, उस ने तुम पर जरूर जादू कर दिया है...’’

‘‘तुम आदमी लोग हमेशा फायदे की बात ही सोचते हो...सूरदास महाराज कोई साधारण इंसान नहीं हैं. वे सिद्ध बाबा हैं.’’

‘‘अच्छा...लगता है, उस ने तुम्हें कोई खजाना दिला दिया है?’’ सोहनलाल की आवाज में व्यंग्य का पुट था.

‘‘खजाना तो नहीं, लेकिन जब से उन के चरण इस घर में पड़े हैं, किसी चीज की कोई कमी नहीं रही. चमनलाल की पत्नी ने एक बार बाबा से हंसते हुए पूछा था कि क्या उस के पति की पदोन्नति होगी तो सूरदासजी ने कहा कि 3 महीने के अंदर हो जाएगी.’’

‘‘तो हुई?’’

‘‘हां, हुई, दोनों पतिपत्नी तब यहां आए थे. सूरदास महाराज ने उन्हें पुन: आशीर्वाद दिया. उन्होंने महाराजजी के चरणों में 501 रुपए और एक नारियल की भेंट भी चढ़ाई.’’

501 का आंकड़ा सुनते ही सोहनलाल अपने स्थान से उठ खड़े हुए. उन्हें यह सब आश्चर्य लगा. विश्वास ही नहीं हो रहा था कि जिस की जबान लड़खड़ाती है, पूरा दिन सोता रहता है, गंदगी का सैलाब अपने चारों तरफ इकट्ठा किए रहता है, उस के पास इतनी बड़ी सिद्धि हो सकती है. वे एकाएक मुसकरा उठे. पत्नी इस रहस्य को न समझ सकी.

सोहनलाल ने इशारे से पूछा, ‘‘501 रुपए हैं कहां?’’

उन की पत्नी भी मुसकरा दी. इशारे से ही जवाब दिया कि वह राशि उन के पास ही है. सोहनलाल चुपचाप उठे और सूरदास के कमरे की ओर बढ़ गए. उस वक्त सूरदास जमीन पर लेटा सींक से दांत साफ कर रहा था. सोहनलाल को लगा कि जैसे सूरदास के चेहरे पर कोई विशेष आभा चमक रही हो. उन्हें लगा कि वह जमीन पर नहीं बल्कि फूलों की शैया पर लेटा हो. उन्होंने सूरदास के चरणों में अपना सिर टिका दिया, ‘‘मेरी भूल क्षमा करो महाराज. मैं आप को पहचान नहीं पाया.’’

‘‘कौन...सोहनलाल?’’ सूरदास उठ कर बैठ गया.

‘‘जी, महाराज...मैं सोहनलाल.’’

‘‘लेकिन तुम तो मुझे अंधा ही कहो. मैं कोई सिद्ध बाबा नहीं हूं. यह तो तुम्हारी पत्नी का भ्रम है.’’

‘‘भ्रम ही सही, महाराज, मैं भी चाहता हूं कि यह भ्रम हमेशा बना रहे.’’

‘‘इस से क्या होगा?’’

‘‘यह जीवन का सब से सुनहरा सुअवसर होगा.’’

‘‘मैं समझा नहीं, तुम कहना क्या चाहते हो?’’

सोहनलाल ने आराम से बगल में बैठ कर सूरदास के कंधे पर हाथ रख दिया. फिर धीरे से बोले, ‘‘देखो सूरदास, मुझे मालूम है कि तुम कोई सिद्धविद्ध नहीं हो, लेकिन मैं चाहता हूं कि तुम सिद्ध बाबा बन जाओ. इस विज्ञान के युग

में भी लोग चमत्कारों पर विश्वास करते हैं.’’

‘‘लेकिन चमत्कार होगा कैसे? और इस से फायदा क्या होगा?’’

‘‘अब सही जगह पर लौटे हो, सूरदास. अगर 100 लोग आशीर्वाद लेने आएंगे तो 10 का काम होगा ही. 10 के नाम पर 100 का चढ़ावा मिलेगा. घर बैठे धंधा खूब चलेगा... हम दोनों का आधाआधा हिस्सा होगा.’’

सूरदास के चेहरे पर चमक आ गई. उस का अंगअंग फड़क उठा. वह चहक कर बोला, ‘‘लेकिन यह सब होगा कैसे?’’

‘‘यह काम मेरा है.’’

सूरदास की चर्चा चमनलाल की पत्नी ने अपने पड़ोसियों से की. साथ ही सोहनलाल की पत्नी ने इस बारे में अपने परिचितों को बताया.

उधर सोहनलाल ने इसे एक अभियान का रूप दे दिया. चर्चा 2-4 लोगों के बीच शुरू हुई थी लेकिन हवा शहर के आधे हिस्से में फैल गई. शाम को सूरदास के साथ सोहनलाल किसी मुद्दे पर चर्चा कर ही रहे थे कि उन की पत्नी अपने साथ 2 औरतों को ले कर आ पहुंची.

सोहनलाल उन औरतों को देखते ही एक तरफ बैठने का इशारा कर के स्वयं सूरदास के पैर दबाने लगे. सूरदास समझ गया कि कोई अंदर आया है. उस ने गंभीर स्वर में पूछा, ‘‘सोहनलाल, कौन आया है?’’

‘‘स्वामीजी, आप के भक्त आए हैं.’’

सोहनलाल की बात पूरी हुई ही थी कि दोनों महिलाएं सूरदास के पांव  छूने लगीं.

‘‘सदा सुखी रहो,’’ सूरदास ने उन के सिर पर हाथ फेरते हुए कहा.

लेकिन किसी नारी का पहली बार स्पर्श पा कर उस का पूरा शरीर रोमांचित हो उठा. वह तुरंत बोला, ‘‘भगवान का दिया हुआ तो तुम्हारे पास बहुत कुछ है, लेकिन फिर भी इतनी चिंतित क्यों हो, बेटी?’’

सूरदास की बात सुन कर वृद्ध महिला, जो अपनी बहू को ले कर आई थी, आंखें फाड़फाड़ कर सूरदास की ओर देखने लगी.

‘‘स्वामीजी, ये विपिन की मां हैं, साथ में इन की बहू भी है. शादी को 7 साल हो गए हैं, लेकिन...’’

सोहनलाल की पत्नी इतना ही बोल पाई कि सूरदास ने आगे की बात पूरी कर दी, ‘‘तो क्या हुआ? विपिन अब तक बच्चा चाहता ही नहीं था. जो प्रकृति का नियम है वह तो होना ही है.’’

‘‘सच, महाराजजी,’’ विपिन की मां पूछ बैठीं.

‘‘बाबा जो कह दें उस पर तर्क की गुंजाइश नहीं रहती, मां,’’ सोहनलाल ने कहा.

उसी समय एक औरत थाली में फलफूल लिए ‘सिद्ध बाबा की जय, सिद्ध बाबा की जय’ कहती हुई अंदर आ पहुंची. सभी की निगाहों ने उसे घेर लिया. सोहनलाल के चेहरे पर मुसकराहट थिरकने लगी. उस औरत ने थाली सूरदास के सामने रखते हुए अपना माथा उस के चरणों में झुका दिया. फिर मधुर वाणी में बोली, ‘‘स्वामीजी, आप का आशीर्वाद फल गया, बहू को लड़का हुआ है. मैं आप की सेवा में कुछ फलफूल ले कर आई हूं. कृपया स्वीकार कर लीजिए.’’

विपिन की मां ने देखा कि थाली में फलफूल के अलावा भी 100-100 के कई नोट रखे हुए हैं, लेकिन सूरदास लेने से इनकार कर रहा है. साथ में यह भी कह रहा है कि मुझे इन सारी चीजों का क्या करना. मैं तो सोहनलाल की दो रोटियों से ही खुश हूं.

लेकिन वह महिला न मानी और थाली वहीं पर छोड़ कर माथा टेकते हुए बाहर निकल गई. विपिन की मां को कुछ झेंप सी हुई. चलते वक्त उन्होंने भी अपना पर्स खोला और 200 रुपए निकाल कर सूरदास के चरणों में रख दिए. फिर वह सोहनलाल की पत्नी के साथ बाहर निकल आई और बोली, ‘‘स्वामीजी ने समय तो नहीं बताया.’’

‘‘हो सकता है, अभी कुछ और समय लगे, लेकिन विपिन की मां, लड़का तो अवश्य होगा. सूरदास महाराज की वाणी असत्य नहीं कह सकती. परंतु डाक्टरी इलाज अवश्य जारी रखना.’’

वक्त ने पलटा खाया और सूरदास सिद्ध बाबा के रूप में प्रसिद्ध हो गया. उसे सिद्ध बाबा बनाने में सोहनलाल का काफी योगदान रहा. मौका देख कर सिद्ध बाबा की वाहवाही करने के लिए उस के पास दर्जनों स्त्रीपुरुष थे, जो वेश बदल कर जनता के सामने उस के पास जाते और चरणों में फलफूल के साथ हजारों रुपए और सोनेचांदी के उपहार चढ़ाने का वचन दे कर बाबा से आशीर्वाद ले आते.

सिद्ध बाबा की चर्चा अब केवल उस क्षेत्र तक ही सीमित नहीं थी, बल्कि उन के चरणों में मुंबई, कोलकाता और दिल्ली से भी लोग आने लगे थे. सोहनलाल अब बहुत मालदार हो गए थे. सूरदास के लिए एक बहुत ही खूबसूरत मंदिर का निर्माण कराया गया. सोहनलाल का बंगला भी कम न था और जीप, कार का तो कहना ही क्या.

सूरदास के घर वाले पास जा कर देखते भी तो उन्हें विश्वास न होता कि क्या यह वही सूरदास है जिसे सावन की झड़ी में उन्होंने घर से बाहर निकाल दिया था. घने काले बाल, मुलायम दाढ़ी जैसे सचमुच कोई ऋषिमुनि हो. उन्हें रहस्य मालूम हो गया था, लेकिन बोल नहीं सकते थे. चारों तरफ मौन का आतंक था.

सोहनलाल की कृपा से सूरदास अब पूरी तरह से व्यभिचारी हो गया था. लड़की और शराब उस के व्यसन बन चुके थे.

एक दिन धर्मशाला में रात के समय किसी स्त्री के सिसकने की आवाज उभरी. चारों तरफ अंधेरा था.

एक नारी का स्वर उभरा, ‘‘मां, ऐसे दरिंदे के पास लाई थीं मुझे. यह सिद्ध बाबा नहीं, शैतान है, शैतान. इस ने मेरी इज्जत लूट ली. मां, मैं इसे नहीं छोड़ूंगी.’’

‘‘नहीं, बेटी,’’ मां जैसे समझाने और चुप करने की चेष्टा कर रही थी. लेकिन अंधेरे का सन्नाटा टूट चुका था, ‘‘सिद्ध बाबा के हाथ बड़े लंबे हैं. तेरी जबान काट ली जाएगी. सुबह होते ही यहां से निकल चलें, इसी में हमारी भलाई है.’’

उस वक्त सूरदास का बड़ा भाई चौकसी कर रहा था. जब उस ने यह सब सुना तो वह बुरी तरह से विचलित हो उठा. उसी वक्त उस ने निर्णय किया कि सोहनलाल को सबक सिखा कर ही रहेगा.

सुबह से भीड़ आ कर सोहनलाल को घेर लेती थी. सूरदास का बड़ा भाई अलग से जा कर उस से कुछ कहना चाह रहा था कि उसी समय एक आदमी दौड़ता हुआ आया और घबराए हुए स्वर में बोला, ‘‘आप की बेटी की तबीयत काफी खराब है, मांजी ने फौरन बुलाया है.’’

सोहनलाल चुपचाप उठे और शीघ्रता से अपने बंगले की ओर चल दिए. उन की बेटी को 3-4 उलटियां हुई थीं. शायद इसी वजह से बेहोश हो गई थी.

सोहनलाल बेटी की ऐसी हालत देख कर गुस्से में पत्नी से बोले, ‘‘ऐसे मौके पर डाक्टर को टेलीफोन करना चाहिए था,’’ फिर उन्होंने खुद ही रिसीवर उठा कर डायल घुमाना ही चाहा था कि उन की पत्नी ने हाथ पकड़ लिया, ‘‘डाक्टर की आवश्यकता नहीं है.’’

‘‘क्या बात है?’’ उन्होंने गंभीरता से पूछा.

‘‘हमारी बेटी गर्भवती है.’’

‘‘क्या...?’’

सोहनलाल का चेहरा फक पड़ गया.

‘‘गर्भ सूरदास का है. उस वहशी ने हमारा घर भी नहीं छोड़ा,’’ पत्नी ने आंसू बहाते हुए कहा.

‘‘उस कुत्ते की मैं हत्या कर दूंगा. कमीने को जिस थाली में खाना खिलाया उसी में छेद कर दिया,’’ सोहनलाल यह सब एक झटके में बोल गए, लेकिन उन्हें लगा कि जैसे वह कुछ गलत बोल गए हैं.

‘नहींनहीं, सूरदास की हत्या...कभी नहीं. भला कोई सोने के अंडे देने वाली मुरगी की भी हत्या करता है,’ सोचते हुए उन के चेहरे पर मुसकराहट दौड़ने लगी. होंठ फड़फड़ाए, ‘‘गर्भपात.’’

‘‘लेकिन कैसे?’’

‘‘दुनिया बहुत बड़ी है. हम लोग कुछ दिनों के लिए बाहर चले जाएंगे.’’

‘‘लेकिन लड़की उस के लिए तैयार नहीं है.’’

एकबारगी सोहनलाल का चेहरा तमतमा उठा, ‘‘वह क्या चाहती है?’’

‘‘सूरदास से शादी.’’

‘‘बेबी...’’ सोहनलाल ने बेटी को पुकारा. फिर चुपचाप उठे और बेटी के पास जा कर बैठ गए. उस के सिर पर धीरे से हाथ रख कर बोले, ‘‘बेबी, नादानी नहीं करते, कोई भी निर्णय इतनी जल्दी नहीं लेना चाहिए.’’

‘‘पिताजी, आप ने ही तो मुझे सूरदास के हवाले किया था. फिर अब इतने परेशान क्यों हैं?’’ बेबी बोली.

‘‘क्या बकती हो? तुम्हें इतना भी नहीं मालूम कि मैं तुम्हारा बाप हूं.’’

‘‘रिश्ते अपने मूल्य क्यों खो चुके हैं पिताजी, बताइए न? मेरी सहेली क्या आप की बेटी नहीं थी?’’

‘‘बेबी, होश में आओ. तुम्हें मेरा गुस्सा नहीं मालूम.’’

‘‘पिताजी, मैं ने तो सूरदास को अपना पति मान लिया है...’’

‘‘बेबी...तुम्हें मृत्यु से डरना चाहिए.’’

‘‘नहीं पिताजी, मृत्यु से तो कायर डरते हैं.’’

सोहनलाल ने सहसा पूरी ताकत के साथ बेबी की गरदन दबोच ली तो पत्नी चिल्लाई, ‘‘यह आप क्या कर रहे हैं?’’

‘‘समय के साथ समझौता...’’

परंतु तब तक बेबी की आंखें बाहर आ गई थीं और पूरा शरीर ठंडा पड़ गया था.

कमरे में सन्नाटा फैला हुआ था. सोहनलाल की पत्नी प्रस्तर प्रतिमा बनी शून्य में निहार रही थी.

विवेक द्विवेदी

अपनी पत्नी को भोजन ले जाते देख सोहनलाल पूछ बैठे, ‘‘यह थाली किस के लिए है?’’

‘‘क्या आप को नहीं मालूम?’’

‘‘मुझे कुछ नहीं मालूम,’’ सोहनलाल झल्ला कर बोले.

‘‘सूरदास महाराज के लिए...’’ पत्नी ने सहजता से जवाब दिया.

‘‘बंद करो उस का भोजन,’’ सोहनलाल चीखे तो पत्नी के हाथ से थाली गिरतेगिरते बची. वह आगे बोले, ‘‘पिछले 5 साल से उस अंधे के बच्चे को खाना खिला रहा हूं. उस से कह दो कि यहां से जाए और भिक्षा मांग कर अपना पेट भरे. मेरे पास कुबेर का भंडार नहीं है.’’

‘‘गरीब ब्राह्मण है. अगर उस के घर वाले न निकालते तो भला क्यों आप के टुकड़ों पर टिका रहता. इसलिए जैसे 10 लोग खाते हैं, वैसे एक वह भी सही,’’ कहते हुए पत्नी ने थाली को और मजबूती से पकड़ा और आगे बढ़ गई.

थोड़ी देर बाद जब वह सूरदास के पास से लौटी तो सोहनलाल उसे देखते ही पुन: बोल उठे, ‘‘आखिर उस अंधे से तुम्हें क्या मिलता है?’’

‘‘तुम्हें तो राम का नाम लेने की फुरसत नहीं...कम से कम वह इस कुटिया में बैठाबैठा राम नाम तो जपता रहता है.’’

‘‘यह अंधा राम का नाम लेता है? अरे, जिस की जबान हमेशा लड़खड़ाती रहती हो वह...लेकिन हां, उस ने तुम पर जरूर जादू कर दिया है...’’

‘‘तुम आदमी लोग हमेशा फायदे की बात ही सोचते हो...सूरदास महाराज कोई साधारण इंसान नहीं हैं. वे सिद्ध बाबा हैं.’’

‘‘अच्छा...लगता है, उस ने तुम्हें कोई खजाना दिला दिया है?’’ सोहनलाल की आवाज में व्यंग्य का पुट था.

‘‘खजाना तो नहीं, लेकिन जब से उन के चरण इस घर में पड़े हैं, किसी चीज की कोई कमी नहीं रही. चमनलाल की पत्नी ने एक बार बाबा से हंसते हुए पूछा था कि क्या उस के पति की पदोन्नति होगी तो सूरदासजी ने कहा कि 3 महीने के अंदर हो जाएगी.’’

‘‘तो हुई?’’

‘‘हां, हुई, दोनों पतिपत्नी तब यहां आए थे. सूरदास महाराज ने उन्हें पुन: आशीर्वाद दिया. उन्होंने महाराजजी के चरणों में 501 रुपए और एक नारियल की भेंट भी चढ़ाई.’’

501 का आंकड़ा सुनते ही सोहनलाल अपने स्थान से उठ खड़े हुए. उन्हें यह सब आश्चर्य लगा. विश्वास ही नहीं हो रहा था कि जिस की जबान लड़खड़ाती है, पूरा दिन सोता रहता है, गंदगी का सैलाब अपने चारों तरफ इकट्ठा किए रहता है, उस के पास इतनी बड़ी सिद्धि हो सकती है. वे एकाएक मुसकरा उठे. पत्नी इस रहस्य को न समझ सकी.

सोहनलाल ने इशारे से पूछा, ‘‘501 रुपए हैं कहां?’’

उन की पत्नी भी मुसकरा दी. इशारे से ही जवाब दिया कि वह राशि उन के पास ही है. सोहनलाल चुपचाप उठे और सूरदास के कमरे की ओर बढ़ गए. उस वक्त सूरदास जमीन पर लेटा सींक से दांत साफ कर रहा था. सोहनलाल को लगा कि जैसे सूरदास के चेहरे पर कोई विशेष आभा चमक रही हो. उन्हें लगा कि वह जमीन पर नहीं बल्कि फूलों की शैया पर लेटा हो. उन्होंने सूरदास के चरणों में अपना सिर टिका दिया, ‘‘मेरी भूल क्षमा करो महाराज. मैं आप को पहचान नहीं पाया.’’

‘‘कौन...सोहनलाल?’’ सूरदास उठ कर बैठ गया.

‘‘जी, महाराज...मैं सोहनलाल.’’

‘‘लेकिन तुम तो मुझे अंधा ही कहो. मैं कोई सिद्ध बाबा नहीं हूं. यह तो तुम्हारी पत्नी का भ्रम है.’’

‘‘भ्रम ही सही, महाराज, मैं भी चाहता हूं कि यह भ्रम हमेशा बना रहे.’’

‘‘इस से क्या होगा?’’

‘‘यह जीवन का सब से सुनहरा सुअवसर होगा.’’

‘‘मैं समझा नहीं, तुम कहना क्या चाहते हो?’’

सोहनलाल ने आराम से बगल में बैठ कर सूरदास के कंधे पर हाथ रख दिया. फिर धीरे से बोले, ‘‘देखो सूरदास, मुझे मालूम है कि तुम कोई सिद्धविद्ध नहीं हो, लेकिन मैं चाहता हूं कि तुम सिद्ध बाबा बन जाओ. इस विज्ञान के युग

में भी लोग चमत्कारों पर विश्वास करते हैं.’’

‘‘लेकिन चमत्कार होगा कैसे? और इस से फायदा क्या होगा?’’

‘‘अब सही जगह पर लौटे हो, सूरदास. अगर 100 लोग आशीर्वाद लेने आएंगे तो 10 का काम होगा ही. 10 के नाम पर 100 का चढ़ावा मिलेगा. घर बैठे धंधा खूब चलेगा... हम दोनों का आधाआधा हिस्सा होगा.’’

सूरदास के चेहरे पर चमक आ गई. उस का अंगअंग फड़क उठा. वह चहक कर बोला, ‘‘लेकिन यह सब होगा कैसे?’’

‘‘यह काम मेरा है.’’

सूरदास की चर्चा चमनलाल की पत्नी ने अपने पड़ोसियों से की. साथ ही सोहनलाल की पत्नी ने इस बारे में अपने परिचितों को बताया.

उधर सोहनलाल ने इसे एक अभियान का रूप दे दिया. चर्चा 2-4 लोगों के बीच शुरू हुई थी लेकिन हवा शहर के आधे हिस्से में फैल गई. शाम को सूरदास के साथ सोहनलाल किसी मुद्दे पर चर्चा कर ही रहे थे कि उन की पत्नी अपने साथ 2 औरतों को ले कर आ पहुंची.

सोहनलाल उन औरतों को देखते ही एक तरफ बैठने का इशारा कर के स्वयं सूरदास के पैर दबाने लगे. सूरदास समझ गया कि कोई अंदर आया है. उस ने गंभीर स्वर में पूछा, ‘‘सोहनलाल, कौन आया है?’’

‘‘स्वामीजी, आप के भक्त आए हैं.’’

सोहनलाल की बात पूरी हुई ही थी कि दोनों महिलाएं सूरदास के पांव  छूने लगीं.

‘‘सदा सुखी रहो,’’ सूरदास ने उन के सिर पर हाथ फेरते हुए कहा.

लेकिन किसी नारी का पहली बार स्पर्श पा कर उस का पूरा शरीर रोमांचित हो उठा. वह तुरंत बोला, ‘‘भगवान का दिया हुआ तो तुम्हारे पास बहुत कुछ है, लेकिन फिर भी इतनी चिंतित क्यों हो, बेटी?’’

सूरदास की बात सुन कर वृद्ध महिला, जो अपनी बहू को ले कर आई थी, आंखें फाड़फाड़ कर सूरदास की ओर देखने लगी.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं
loading...
INSIDE GRIHSHOBHA
READER'S COMMENTS / अपने विचार पाठकों तक पहुचाएं

Comments

Add new comment