पर्सनैलिटी विद परफैक्ट शूज

जूते आप की पर्सनैलिटी का अहम हिस्सा होते हैं. जूतों का एक बेहतरीन पेयर ओवर औल लुक को बढ़ा देता है. इस बात का खास ध्यान रखें कि आप के शूज आप के कपड़ों से मैच करते हुए होने चाहिए, जैसे कि यदि सूट पहना है तो उस के साथ फौर्मल शूज अच्छे लगेंगे. सोचिए अगर आप ने सूट के साथ स्पोर्ट्स शूज और कैजुअल वियर के साथ क्लासिक फौर्मल शूज पहन लिए तो कैसे लगेंगे. यदि ऐसा कुछ आप ने किया तो लड़कियों पर क्या इंप्रैशन पड़ेगा, यह आप खुद सोच सकते हैं.

पर्सनैलिटी में जूतों की राइट चौइस से चारचांद लग जाते हैं. लेकिन कई बार हर कपड़े के हिसाब से अलगअलग शूज खरीदना जेब पर भारी पड़ सकता है. इसलिए अपने वार्डरोब में तीन तरह के जूते तो जरूर रखें जो किफायती होगा और आप की जरूरत के मुताबिक हर मौके पर फिट भी बैठेगा. अपने शू क्लैक्शन में ब्लैक या ब्राउन लैदर शूज रखें, जो फौर्मल मीटिंग और औफिस में यूज किए जा सकते हैं. इसे शादी या छोटेमोटे फंक्शन में फौर्मल या सेमी फौर्मल लुक के साथ आजमा सकते हैं. इसी तरह वाइट स्नीकर्स आप के कैजुअल लुक और दोस्तों के साथ आउटिंग वगैरह के लिए सही चुनाव बन सकते हैं. गर्मियों के मौसम में फ्लिप फ्लौप को भी अपने वार्डरोब का हिस्सा बना सकते हैं और अपनी अटै्रक्टिव पर्सनैलिटी से लड़कियों को अट्रैक्ट कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें- वेस्टर्न छोड़ इंडियन लुक में दिखीं Shahrukh Khan की बेटी, सुहाना की फोटोज हुई वायरल

खास बात

जरूरी है जूतों का कंफर्टेबल होना :

स्टाइल के साथ यह बात भी बहुत माने रखती है कि आप के जूते कंफर्टेबल हैं या नहीं. आप किसी भी स्टाइल का जूता कैरी करें, अगर वे कंफर्टेबल नहीं हैं तो समझिए सब बेकार क्योंकि अगर शूज आरामदायक नहीं है तो आप का सारा अटैंशन जूतों पर रहेगा और जहां भी होंगे वहां ध्यान पूरी तरह से भटक जाएगा. कहने का मतलब है कि जूतों को खरीदने के वक्त पहले उसे ट्राई कर के ही खरीदें. पूरी तरह से तसल्ली हो जाए, तभी खरीदें.

स्टाइल का खयाल रखें :

मार्केट में कई तरह के स्टाइल के शूज आजकल उपलब्ध हैं. अगर फौर्मल शूज लेना चाहते हैं तो उस में भी कई तरह के स्टाइल जैसे बिजनैस शूज, लैदर शूज, सेमी फौर्मल लैदर जैसे औप्शन मौजूद हैं.

आप तय कर लें कि कैसा स्टाइल स्टेटमैंट अपनाना चाहते हैं. यदि आप मैच करता हुआ स्टाइल पसंद करते हैं तो बैल्ट के मैचिंग के कलर का शूज पेयरअप कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें- Cousin की शादी में Shivangi Joshi ने जीता फैंस का दिल, देखें फोटोज

5 टिप्स: जूतों की बदबू को ऐसे कहें बाय

अक्सर हम अपने पसीने की बदबू या कपड़ों की बदबू को भगाने का इलाज ढूंढ लेते हैं, लेकिन जब बात जूतों की बदबू की आती है तो हम अक्सर आसान रास्ता ढूंढने की कोशिश करते हैं या फिर उस बदबू का कोई इलाज नही करते. इसीलिए आज हम आपको कैसे अपने जूतों की बदबू को बिना कोई खर्चा किए कैसे भगाएं इसके लिए कुछ टिप्स बताएंगे, जिसे आप अपना सकते हैं.

1. जूते में बदबू के कारण को पहचानें

जूतों से आ रही बदबू को दूर करने से पहले अपने जूतों की जांच करें. अगर आपके जूतों के इन्सोल नम या टूटे हुए हैं तो या तो इन्हें बाहर निकाल कर सुखा दें या नए इन्सोल खरीद लें जो खासतौर पर बैक्टीरियल ग्रोथ को रोकने के लिए बना होता है.

2. अपने जूतों को हीटर के पास या धूप में सुखाएं

जूते की लेस को निकाल दें और इनकी टंग को बाहर निकालकर (अन्दर की ओर मौजूद सोल या कपड़ा) ऊपर कर दें ताकि जूते जल्दी सूख सकें. इन्हें सूखा रखने पर इनमें बदबू पैदा करने वाली बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकती है.

5 टिप्स: घर से ऐसे करें कौकरोच और छिपकली की छुट्टी

3. देवदार की लकड़ी के इन्सोल खरीदना है बेस्ट

देवदार की लकड़ी से बने इन्सोल एंटीफंगल होते हैं और बदबू दूर करने में मदद करते हैं. इसके अलावा देवदार की महक फ्रैश होती है और ये हल्के भी होते हैं, जिससे ये बदबू दूर करने और बैक्टीरिया की वृद्धि रोकने में सहायक होते हैं.

4. फेब्रिक सौफ्नर या कंडीशनर शीट का करें इस्तेमाल 

एक या दो फेब्रिक सौफ्नर या कंडीशनर शीट (जिन्हें आप ड्रायर में उपयोग करते हैं) को अपने हाथों में दबाकर बौल बना लें और जूतों को इस्तेमाल करने के बाद इस बौल को उनमें रख दें. इससे जूतों से अच्छी खुशबु आएगी और यह जूतों के भीतर की नमी भी सोख लेगा.

ये भी पढ़ें- 7 होममेड टिप्स: कपड़ों पर लगे दागों को कहें बाय  

5. खट्टे फलों के छिलकों को रखें

जूतों के अंदर ताजे संतरे, नींबू, या मोसंबी के छिलके रखें ताजे साइट्रस छिलकों को रखें, इसमें मौजूद एसेंशियल औयल होने के कारण अच्छी खूशबू आती है. ताजे साइट्रस छिलकों को रातभर अपने जूतों में रखें और जूतों के उपयोग से पहले इन्हें निकाल दें. इससे जूतों से पहले से बेहतर गंध आएगी. आप चाहें तो जूतों में लैवेंडर औयल की दो-दो बूंदें डाल सकती हैं. इससे जूतों में अच्छी खुशबू आएगी.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें