#lockdown: गरमियों में घर पर ऐसे रखें हेल्थ का ख्याल

गरमी का मौसम हेल्थ से जुड़ी बहुत सी परेशानियां लेकर आता है.आजकल वैसे भी सब लोग लाक डाउन के चलते घर में रहने को मजबूर हैं. ज़्यादातर लोग समझ नहीं पा रहे के इस  समय अपने आहार और जीवनशैली में किस तरह बदलाव लाएं.  इन दिनों के मौसम के साथ जीवनशैली में भी ज़रूरी बदलाव लाने चाहिए. क्योंकि हमारा शरीर बदलते मौसम के लिए संवेदनशील होता है. इन गर्मियों के मौसम के भी अपने फायदे हैं.

गर्मियों के फल और सब्ज़ियां पोषक पदार्थों- जैसे फाइटोन्यूट्रिएन्ट्स और एंटीऔक्सीडेन्ट से भरपूर होती हैं, जो एजिंग की प्रक्रिया को धीमा करती हैं, शरीर को कैंसर जैसी बीमारियों से बचाती हैं, ब्लड प्रेशर को नियन्त्रित और दिल को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करती हैं. आइए मौसम को ध्यान में रखते हुए अपने शरीर को स्वस्थ बनाने के लिए अपनी जीवनशैली में कुछ सकारात्मक बदलाव लाएं.

बैरीज़ और नारियल पानी

रसबैरी, स्ट्रौबैरी, मलबैरी और इण्डियन बैरी में विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है, जो टिश्यूज़ यानि उतकों की मरम्मत करता है. इनके एंटीऔक्सीडेन्ट गुण प्रदूषण से सुरक्षित रखते हैं. स्ट्रौबैरी में विटामिन सी ज़्यादा मात्रा में होता है, इसके अलावा इनमें मौजूद फोलेट दिल की बीमारियों की संभावना को कम करता है. गर्मियों में मौसम में खूब नारियल पनी पीएं. इसमें कैलोरीज़ नहीं होती और यह प्राकृतिक एंटीऔक्सीडेन्ट है. कोला और सोडा जैसे पेय के बजाए नारियल पानी का सेवन करें और फ़र्क देखें.

ये भी पढ़ें- #coronavirus: रोजाना इस्तेमाल की चीजों को संक्रमित होने से बचाएं ऐसे

अपने आप को फूड पौइज़निंग से बचा कर रखें

गर्मियों के मौसम में फूड पौइज़निंग एक आम समसया है. इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि  बचा हुआ बासा खाना न खाएं, क्योंकि इस मौसम में खाना जल्दी खराब होता है. प्रदूषित पानी के सेवन से बचें. इसके बावजूद गैस्ट्रोएंट्राइटिस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं.

मेवों के बजाए प्याज़ और योगहर्ट का सेवन करें

मेवों में तेल और कार्बोहाइड्रेट अधिक मात्रा में होता है, जो शरीर की गर्मी बढ़ाते हैं. इसलिए गर्मियों में मेवों का सेवन न करें. इसके बजाए कच्चे प्याज़ में प्रोटीन, सोडियम, पोटेशियम, सैल्युलोज़, एक फिक्स और एक असेन्शियल औयल, 80 फीसदी से ज़्यादा पानी होता है. इन्हें खाने से भूख बढ़ती है, पाचन में सुधार आता है, शरीर का इलेक्ट्रोलाईट संतुलन बना रहता है. योगहर्ट के सेवन से आहार नाल में अच्छे बैक्टीरिया पनपते हैं, जो शरीर को ठंडा रखते हैं और पाचन में सुधार लाते हैं. अगर आपको इसका स्वाद पसंद नहीं है तो आप छाछ का सेवन कर सकते हैं.

डॉ. पी वेंकट कृष्णन, इंटरनल मेडिसिन, पारस अस्पताल गुड़गांव

ये भी पढ़ें- #coronavirus: जानिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के बारे में रोचक जानकारी

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें