ख़ूबूसूरत और बेदाग़ त्वचा की चाहत हर किसी को होती है . महिलाएं हर उम्र में खूबसूरत दिखना चाहती हैं .लेकिन आजकल गलत लाइफस्टाइल, तनाव या प्रदूषण के कारण महिलाएं कम उम्र में ब्यूटी प्रॉब्लम की शिकार हो रही हैं. इन्हीं में से एक है पिगमेंटेशन यानी चेहरे पर झाइयां. झाइयां आपके चेहरे पर काले दाग़ या धब्बों जैसी ही दिखती हैं. जो आपके चेहरे की ख़ूबसूरती को कम कर देती है. इसके लिए महिलाएं कई तरीके अपनाती रहती हैं. महिलाएं चेहरे के दाग व झाइयों को छुपाने के लिए मेकअप का सहारा लेती हैं पर ये तो वो भी जानती है कि मेकअप झाइयों का स्थायी इलाज नहीं है.

दोस्तों इस समस्या की सबसे बड़ी वजह है शरीर में मेलनिन की मात्रा का अधिक होना. लनिन से त्वचा,बाल और आँखों को अपना रंग मिलता है. आप जैसे ही धूप के संपर्क में आते है मेलेनोसाइट्स कोशिकाएं ज्यादा मेलनिन बनाना शुरू कर देती हैं और अगर स्किन में अधिक मेलनिन हो जाये तो आपकी त्वचा पर झाइयाँ होने लगती है. दोस्तों इनके अलावा भी झाइयाँ पड़ने के और भी कारण हो सकते है .आइये जानते है.

1-सेंसिटिव स्किन वाली महिलाओं में झाइयों की समस्या अधिक पायी जाती है.

2-प्रेग्नेंसी के बाद इसकी समस्या अधिक दिखाई देती हैं, जिसका कारण पोषक तत्वों की कमी है.

3- चेहरे पर झाइयां पड़ने का एक कारण मुंहासे भी है. इसके कारण चेहरे पर निशान पड़ जाते हैं, जो धीरे-धीरे झाइयां का रूप लेते हैं.

4- जो महिलाएं गर्भनिरोधक दवाओं का अधिक सेवन करती हैं उन्हें भी इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT