साधारणतया माना जाता है कि उम्र बढ़ने के साथ महिलाओं की खूबसूरती ढलने लगती है . 30 के बाद न तो चेहरे पर पहले वाली चमक रह जाती है और न बातों में वह जोश और दिल में उमंगों भरी हलचल .परिवार, बच्चों और काम में फंसी इंडियन महिलाएं थर्टीज के बाद जिंदगी जीना भूल जाती है. मगर दिल्ली की गुनीत विरदी के साथ ऐसी बात नहीं है. उन के चेहरे पर चमक और आंखों में जिंदगी के प्रति रवानगी पूरी तरह जिन्दा है.

गुनीत विरदी एक अवार्ड विजेता सेलिब्रिटी मेकअप आर्टिस्ट हैं जिन की सोशल मीडिया पर 2 लाख से ज्यादा फौलोइंग है. लोग उन की उपलब्धता के आधार पर अपनी शादी की तारीखें तय करते हैं. वे खूबसूरत भी हैं और ब्यूटी इन्फ्लुएंसर भी. वे इस बात को ले कर बहुत चूजी रहती हैं कि किस के साथ बाहर जाना है. पेज थ्री की दुनिया में हमेशा चमकते रहने वाली गुनीत की दुनिया बहुत अलग है. डिजाइनर स्टाइलिश ड्रेसेस , करीने से सजे ब्लो ड्राई किये बाल , खूबसूरती से मैनीक्योर किये नाखून, हाई क्लास जूलरी, शहर की शानदार पार्टियों में अपने आकर्षक व्यक्तित्व से चार चांद लगाती गुनीत को देख कर कोई नहीं कह सकता कि वह एक 9 साल की बेटी की मां हैं.

ये भी पढ़ें- धर्म के नाम पर राष्ट्रप्रेम

वह जल्द ही जी टीवी के पहले पेज 3 रियलिटी शो दिल्ली डार्लिंग्स में एक ऐसी ही महिला के रूप में आ रही हैं जो उन की रियल लाइफ भी है. इस शो में 10 ऐसी दिल्ली डार्लिंग्स देखने को मिलेंगी जो बेहद अमीर होने के साथ जुनूनी ,सहज और स्टाइलिश हैं. पेश है गुनीत विरदी से की गई बातचीत के खास हिस्से;

सवाल- आप का फिटनेस फंडा क्या है ?

आज के समय में खास कर दिल्ली जैसे मेट्रो सिटी में यदि आप खूबसूरत, फिट और ग्लैमरस नहीं हो तो कोई आप को घास नहीं डालता यानी पूछता नहीं. आप को खुद को प्रेजेंट करना आना चाहिए. यही इस शो में भी दिखाया गया है कि हम लोगों के ऊपर खूबसूरत दिखने का कितना बड़ा प्रेशर है. हल्का सा भी फैट आ जाए तो मजाक उड़ाया जाता है.

सवाल-  एक सर्वे के मुताबिक़ आज के समय में भी 59 % महिलाएं चुप रह जाती है. कोई भी महत्वपूर्ण फैसले की घड़ी हो वे अपनी बात सामने नहीं रखतीं?

जो पीछे रह गया या अपनी बात मन में रख ली वह पीछे रह जाता है. जब तक आप बोलोगे नहीं, आवाज नहीं उठाओगे अपना इंटरेस्ट नहीं दिखाओगे ,अपने मन की इच्छा या अपना पक्ष जाहिर नहीं करोगे तबतक कोई भी आप को सीरियसली नहीं लेगा. इसलिए जो मन में है वह बोलो, जिद करो. जहां जिद है, पैशन है वहां अच्छेअच्छे भी हार मान जाते हैं.

सवाल- आप ग्लैमर को कैसे डिफाइन करेंगी?

ग्लैमर बिलकुल भी आसान नहीं है. इस के पीछे हार्ड वर्क, पैसा, फैमिली, इमोशन सब कुछ इन्वॉल्व है. कई बार आप घर से लड़ कर या किसी बात पर परेशान हो कर निकलती हैं. ऐसे में आप का मूड ऑफ रहता है फिर भी स्माइल करनी होती है , ग्लैमर दिखाना होता है. मन में तनाव हो तो भी प्रेजेंटेबल और स्मार्ट दिखना पेशे की डिमांड होती है.

सवाल- आप काम के साथ परिवार और बच्चों को कैसे संभालती हैं?

जीवन में आगे बढ़ने के लिए फैमिली का सपोर्ट बहुत ज्यादा जरूरी होता है. मेरे पति बिज़नेसमैन हैं और एक 9 साल की बच्ची भी है. जाहिर है घर वालों के सपोर्ट की वजह से ही मैं बच्चे और काम को एक साथ संभाल पाती हूं.

सवाल- आप के अनुसार किटी पार्टीज का पौजिटिव एंगल क्या है?

किटी पार्टीज के दौरान हम सब अपने घरपरिवार से समय निकाल कर मिल पाते हैं. आपस में हंसीमजाक करते हैं. एन्जौय करते हैं. एक पौजिटिव माहौल मिलता है. हम आपस में एकदूसरे की बिचिंग भी करते हैं पर इस में भी हमें आनंद मिलता है. समय के साथ महसूस होने वाली बोरिंग लाइफ में यह सब एक स्पाइस जैसा है.

ये भी पढ़ें- फ्लेमिंगो- फोर अ न्यू लाइफ

सवाल- आप एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स  के बारे में क्या कहना चाहेंगी? क्या दिल्ली डार्लिंग्स इसे सही मानती हैं?

दिल्ली का कल्चर ऐसा है कि जैसेजैसे आप की उम्र बढ़ती जाती है आप हस्बैंड के साथ बोर होने लगती हैं या वे आप को अधिक समय नहीं दे पाते. ऐसे में हर महिला का ऐसा फ्रेंड हो सकता है जो उसे समझे ,जिस के साथ वह अपने मन की हर बात कह सके, जीवन के कुछ खूबसूरत लम्हे चुरा सके. यह कोई भी हो सकता है. कोई परिचित, ऑफिस कुलीग या बेस्ट फ्रेंड का पति भी हो सकता है. मैं यह बात समझती हूं कि छोटे शहरों में आज भी यह एक बहुत बड़ी बात होती है कि विवाहित महिला किसी गैरपुरुष से खुल कर बातें करे या दोस्ती रखे. लोग अजीबाजीब से कमैंट्स भी करने लगते हैं.

मगर मुझे नहीं लगता कि इस में कुछ भी गलत है. यदि आप की एक अच्छी नजर है, आप का रिलेशन बहुत अच्छा है , हेल्दी है तो इस में कोई दिक्कत नहीं. यह आप पर निर्भर करता है कि आप किस चीज को कैसे ले रहे हैं.

सवाल- आप का फैशन स्टेटमेंट क्या है?

मैं सिंपल , क्लासी , सोबर , डिसेंट और कम्फर्टेबल कपड़े पहनना पसंद करती हूं. जिस रूप में मैं खुद को देखना चाहती हूं वैसे ही कपड़े पहनती हूं.

ये भी पढ़ें- जितना पैसा उतना तनाव

Tags:
COMMENT