जब स्किन की जरूरत के अनुसार फेस क्रीम का प्रयोग नहीं होता है तो फेस पर क्रीम का प्रयोग करने के बाद भी फेस पर मनचाहा ग्लो नहीं आता है. अत: स्किन की बेहतर देखभाल के लिए स्किन की जरूरत के अनुसार ही फेस क्रीम का प्रयोग करना चाहिए.

नेचर्स ब्यूटी की मेकअप ऐक्सपर्ट मानसी गुप्ता कहती हैं कि वैसे तो हर फेस क्रीम का दावा होता है कि 1 या 2 हफ्तों में चेहरे में निखार देखने को मिलेगा, पर सही फेस क्रीम का प्रयोग न करने से फेस पर निखार की जगह नुकसान ज्यादा देखने को मिलता है. स्किन के कई प्रकार होते हैं. जैसे सैंसिटिव स्किन, ड्राई स्किन, औयली स्किन, कौंबिनेशन स्किन. चेहरे पर ग्लो पाने के लिए स्किन के हिसाब से ही फेस क्रीम का प्रयोग करें.

1. जैसी स्किन वैसी क्रीम

मानसी गुप्ता कहती हैं कि फेस क्रीम भी स्किन की ही तरह कई तरह से बनी होती है. इस में मौइस्चराजर वाली फेस क्रीम, ग्लिसरीन वाली फेस क्रीम, विटामिन सी वाली फेस क्रीम, ऐंटीऔक्सीडैंट के साथसाथ फेस क्रीम अब ओटमील और अमीनो पेप्टाइड्स वाली क्रीम भी मिलने लगी है. संवेदनशील त्वचा के लिए मौइस्चराइजर फेस क्रीम का प्रयोग करें. यह स्किन को लचीला बना कर उसे हैल्दी और फ्रैश दिखाने में मदद करती है. चेहरे पर आ रही  झुर्रियों को भी कम करने में मदद करती है.

ये भी पढ़ें- 10 टिप्स: सर्दियों में ऐसे दें लिप्स को नमी और शाइन

ड्राई स्किन के लिए ग्लिसरीन युक्त फेस क्रीम लाभकारी होती है. यह त्वचा को अंदर से बाहर तक हाइड्रेट और मजबूत बनाती है. इस का उपयोग करने से त्वचा का रूखापन दूर होता है. ग्लिसरीन फेस क्रीम त्वचा की नमी को बनाए रखने में मदद करती है. यह संवेदनशील त्वचा के लिए भी बेहतर होती है. विटामिंस और ऐंटीआक्सीडैंट क्रीम भी स्किन को हैल्दी बनाने का काम करती है.

2. मौइस्चराइजर और फाउंडेशन

मानसी गुप्ता कहती हैं कि अगर फेस की स्किन ड्राई होने के साथसाथ दानेदार भी हो तो मौइस्चराइजर और फाउंडेशन युक्त क्रीम का प्रयोग करें. यह चेहरे के दागधब्बे छिपाने का काम काफी अच्छी तरह करती है. यह क्रीम स्किन को कई तरह से फायदा पहुंचाती है. यह क्रीम स्किन को केवल सौफ्ट ही नहीं बनाती, बल्कि स्किन के मौइस्चर और शाइनिंग को बरकरार रखते हुए धूप से भी सुरक्षित रखती है. इस में मौइस्चराइजर और फाउंडेशन दोनों के फायदे होते हैं. जब इसे लगा कर मेकअप करती हैं, तो फेस पर शाइनिंग तो आती ही है, यह मेकअप को चेहरे पर लंबे समय तक भी टिकाने का काम करती है.

यह क्रीम प्राइमर, मौइस्चराइजर, फाउंडेशन, ट्रीटमैंट, कंसीलर और सनस्क्रीन का काम एकसाथ करती है.

बीबी क्रीम से स्किन सौफ्ट होती है और उस पर स्पौट भी नहीं दिखते हैं. अगर स्किन पर काफी कीलमुंहासे हैं या वह औयली है तो बीबी क्रीम का इस्तेमाल न करें.

बीबी क्रीम में मल्टीपल न्यूट्रिशंस होते हैं, जिस से स्किन को कई तरह से फायदा मिलता है. फेस के रंग को ठीक करने के लिए सीसी क्रीम का प्रयोग किया जाता है. सीसी यानी कलर करैक्शन क्रीम. यह क्रीम फेस के कलर को निखारने का काम करती है. यह फेस की हर समस्या को दूर करते हुए चेहरे की रंगत को एकसमान बनाने का काम भी करती है. अगर फेस पर काफी कीलमुंहासे हैं, तो सीसी क्रीम का प्रयोग बेहतर रहता है. अगर स्किन काफी ड्राई है तो यह क्रीम लगाने से पहले मौइस्चराइजर जरूर लगा लें.

3. फेस के लिए जरूरी सनस्क्रीन

मानसी गुप्ता कहती हैं कि सीसी क्रीम फेस की स्किन को सेमी मैट और शाइनिंग देती है, तो बीबी क्रीम फेस स्किन को मैट, मौइस्चराइज और शाइनिंग देती है. सीसी क्रीम का टैक्स्चर बीबी क्रीम की तुलना में हलका होता है. बीबी क्रीम अच्छे बेस का काम करती है और यह रोजाना के लुक को निखार देती है. सीसी क्रीम उन के लिए है, जिन की त्वचा में लालिमा की समस्या होती है. बीबी और सीसी दोनों ही क्रीमें त्वचा के साथ अच्छी तरह ब्लैंड हो जाती हैं और फेस को एकसमान कोमल और चमकदार रंगत देती हैं.

4. सनस्क्रीन 2 तरह का होता है

20 एसपीएफ युक्त क्रीम में कैमिकल बेहद कम होता है, जबकि कैमिकल सनस्क्रीन में 20 से ज्यादा एसपीएफ होता है. इस में काफी ज्यादा मात्रा में कैमिकल होता है. जितना ज्यादा एसपीएफ होगा उतना ही ज्यादा कैमिकल होगा. भारत में यूवी किरणें ज्यादा खतरनाक स्तर की नहीं होती हैं, इसलिए यहां कम कैमिकल वाले सनस्क्रीन का इस्तेमाल काफी होता है. ज्यादातर महिलाओं के लिए 25 से 30 एसपीएफ काफी होता है. फेस की स्किन के रखरखाव के लिए नाइट क्रीम का प्रयोग करना भी जरूरी होता है.

5. फेस स्किन को हैल्दी बनाने के टिप्स

– हैल्दी स्किन के लिए फेस के मेकअप को हटाना जरूरी होता है. मेकअप हटाने के लिए अच्छे मिल्क क्लींजर का प्रयेग करें. मिल्क क्लींजर से दिनभर की गंदगी को कौटन से साफ करें. इस के बाद चेहरे को अच्छे फेस वाश से धोएं.

– फेस की स्किन को सही रखने के लिए सप्ताह में 2 बार स्किन को अच्छी तरह ऐक्सफौलिएट करें. इस से स्किन पोर्स में से गंदगी निकल जाती है. इस से ऐक्ने और पिंपल्स कम होंगे. अगर फेस पर पहले से पिंपल्स हों तो उन्हें बचा कर चेहरे को स्क्रब करें.

ये भी पढ़ें- पलकों को बनाएं घना

– पूरे दिन की थकान और स्ट्रैस अंडरआई एरिया में दिखती है. इसीलिए बहुत जरूरी हो जाता है कि आंखों की खास देखभाल की जाए. इस के लिए बैस्ट क्वालिटी की आई क्रीम या जैल से आंखों की मसाज करें. इस के अलावा बादाम तेल या औलिव औयल से हलके हाथों से आंखों की मसाज करें.

– फेस को सुंदर बनाने के लिए लिप केयर जरूरी होती है. इसलिए रोजाना रात को होंठों पर बादाम तेल या घी लगा कर सोएं. इस से वे काले नहीं होंगे पिंक बने रहेंगे.

– फेस के लिए नाइट क्रीम बेहद जरूरी होती है. स्किन टाइप के हिसाब से नाइट क्रीम मिलती है. इसे लगाने से स्किन हाइड्रेट रहती है. स्किन का टैक्स्चर बेहतर होगा और रंगत एकजैसी हो जाएगी.

Tags:
COMMENT