अक्सर मौनसून में हम बारिश में भीग जाते हैं. जिससे बारिश के बानी के साथ हमारी आंखों में धूल मिट्टी भी चली जाती है. आंखों में धूल मिट्टी जाने से ये नुक्सान पहुंचाती है. फेस का सबसे जरूरी और खूबसूरत अंग है हमारी आंखे, जिसका ख्याल रखना बहुत जरूरी है. इसीलिए आज हम आई 7 चौधरी आई सेंटर के डाक्टर राहिल चौधरी से हुई बातचीत के आधार पर मौनसून में आंखों का ख्याल कैसे रखें इसके बारे में बताएंगे.

1. धूल और गंदे पानी से रहें दूर

गंदे पानी को अपनी आंखों में न जानें दें. अगर आप बारिश में भीग गए हैं तो घर आ कर तुरंत साफ पानी से नहा लें या साफ पानी और साबुन से अपना चेहरा धो लें ताकि आंखों को बैक्टीरिया के संक्रमण से बचाया जा सके. अगर धूल भरी आंधी चल रही हो तो सनग्लासेस का इस्तेमाल करें. यह आप की आंखों को धूल से भी बचाएगा और परा-बैंगनी किरणों से इन की सुरक्षा भी करेगा. अपने घर के आसपास गंदा पानी न इकट्ठा होने दें क्यों कि इस से संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाता है.

ये भी पढ़ें- 4 टिप्स: मौनसून में बेसन से रहेगी खूबसूरती बरकरार

2. संक्रमित स्थानों और चीजों से रहें दूर

अगर आंखों का संक्रमण बहुत फैल रहा है तो स्विमिंग पुल न जाएं. कईं लोगों द्वारा इस्तेमाल किए जाने के कारण इन्हें बैक्टीरिया और दूसरे संक्रमणों का ब्रीडिंग ग्राउंड माना जाता है. अगर आप के आसपास किसी को आंखों का संक्रमण हुआ है या लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो उस से दूर रहें. उस की टौवेल, नैपकिंस या दूसरी कोई निजी चीज इस्तेमाल न करें.

3. कांटेक्ट लेंसों को करें अच्छी तरह साफ

बैक्टीरिया के संक्रमण से बचने के लिए अपने लेंसों को अच्छी तरह साफ करें. इन्हें लगाने के लिए हाथों का इस्तेमाल करना पड़ता है, इसलिए संक्रमण का खतरा अधिक होता है. लेंसों को छूने से पहले हाथों को अच्छी तरह साफ पानी से धोएं. अपने लेंसों की एक्सपाइरी डेट याद रखें. इस के बाद इन का इस्तेमाल बिल्कुल न करें. अपने कौंटेक्ट लेंसों को किसी के साथ साझा न करें. उन्हें निकालने के बाद भी अच्छी तरह धो कर ही रखें.  हाथों को पोंछने के लिए टौवेल के बजाय टिशु पेपर का इस्तेमाल करें. ये सूखे, साफ और फ्रेश होते हैं. वाटर प्रूफ मेकअप का इस्तेमाल करें बारिश के मौसम में मेकअप आसानी से निकल जाता है इसलिए महिलाओं को इस मौसम में वाटर प्रूफ आई मेकअप करना चाहिए. अपने मेकअप प्रोडक्ट्स को किसी के साथ साझा न करें. अगर आंखों के संक्रमण की चपेट में आ जाएं तो किसी भी तरह के मेकअप और कॉस्मेटिक का इस्तेमाल न करें.

ये भी पढ़ें- स्किन टोन के हिसाब से ऐसे चुनें लिपस्टिक और आईशैडो

4. अपने साथ रखें हमेशा आई ड्रौप्स

इस मौसम में आप को आंखों में और उस के आसपास खुजली हो सकती है, ऐसे में ठंडे पानी से आंखें धो लें. अगर समस्या बनी रहे तो जनरल फिजिशियन को दिखाएं और डौक्टर द्वारा प्रिस्क्राइब्ड आई ड्रौप्स डालें. अगर आई ड्रौप्स डालने के बाद भी खुजली और आंखों का लालपन दूर न हो तो किसी अच्छे नेत्र रोग विशेषज्ञ को दिखाएं. अपने बच्चों को संक्रमण से बचाएं. बच्चों में संक्रमण का खतरा अधिक होता है.  बारिश के मौसम में बच्चों की आंखें स्वस्थ्य रहें इस का विशेष प्रयास करना चाहिए. उन्हें पर्सनल हाइजीन के गुर सिखाएं. उन्हें समझाएं कि जब भी जरूरी हो अपने हाथों को साफ पानी या सेनेटाइजर से साफ करें क्यों कि आंखों का संक्रमण गंदे हाथों से उन्हें छूने और रगड़ने से फैलता है. बच्चों के नाखूनों को छोटा रखें क्यों कि बड़े नाखूनों में धूल जमा हो जाती है जो उन की आंखों में जा सकती है जब आंखें सीधे हाथों के संपर्क में आती हैं. उन्हें घर का बना साफ और पोषक भोजन खिलाएं ताकि उन का इम्यून तंत्र मजबूत हो और वे बारिश के मौसम में संक्रमण और दूसरी स्वास्थ्य समस्याओं की चपेट में आने से बच सकें.

Tags:
COMMENT