डॉ सागरिका अग्रवालआईवीएफ एक्सपर्ट , इंदिरा आईवीएफ अस्पताल, नई दिल्ली

कोरोना वाइरस एक वैश्विक महामारी का रूप ले चुका है, पिछले कुछ दिनों से हमारे देश में भी इसके मामले लगातार बढ़ रहे हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे ग्लोबल इमरजेंसी घोषित कर दिया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़े बताते हैं कि कोरोना वायरस केवल बुजुर्गों और पहले से बीमार लोगों को ही अपना शिकार नहीं बना रहा है, बल्कि युवा और बच्चे भी तेजी से इसकी चपेट में आ रहे हैं. ऐसे में यह चिंता होना स्वाभाविक है कि कोविड-19 का संक्रमण प्रैग्नेंट महिलाओं और गर्भस्थ शिशुओं के लिए कितना खतरनाक है. दरअसल गर्भावस्था में महिलाओं का शरीर कईं बदलावों से गुजर रहा होता है और उनका इम्यून तंत्र भी संवेदनशील हो जाता है, जिससे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. तो जानिए प्रैग्नेंट महिलाओं के लिए कितना है खतरा कोविड-19 के संक्रमण का, मां से गर्भस्थ्य शिशु में ट्रांसफर होने की आशंका कितनी होती है? मां और बच्चे को सुरक्षित रखने के लिए कौन-कौनसे कदम उठाए जा सकते हैं?

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT