फिल्म की कहानी मुंबई के एक मध्यमवर्गीय चालनुमा बहुमंजिली इमारत में रह रही फ्लोरी मैंडोसा (रेणुका शहाणे) से शुरू होती है, जो कि अपनी खोली (मकान) बेचना चाहती हैं. उनके इस मकान को खरीदने के लिए सुदीप शर्मा (पुलकित सम्राट) आते हैं. मकान की कीमत 20 लाख रूपए है, मगर फ्लोरी अपने इस मकान को अस्सी लाख में बेचना चाहती हैं, पर सुदीप इस मकान को खरीदने के लिए बेताब हैं, क्योंकि उसे रेलवे स्टेशन के करीब वाले मकान की तलाश है. वैसे सुदीप इस तरह के मध्यमवर्गीय इलाके के लिए उपयुक्त नहीं है. तो दूसरी तरफ इस इमारत में रही वर्षा (मसुमेह मखीजा) और शंकर वर्मा (शर्मन जोशी) की प्रेम कहानी चलती रहती है, पर इन दोनों के नौकरी, माता पिता की अनुमति के आदर्श में बंधे होने के कारण वर्षा की शादी सुदीप शर्मा से हो चुकी होती है. वर्षा दुःखद व हिंसायुक्त जिंदगी जीती रहती है. इसी इमारत में रह रहे रिजवान (दधि पांडे) के बेटे सुहेल (अंकित राठी) और मालिनी (आएशा अहमद) की प्रेम कहानी है. इन तीनों कहानियों के दर्दनाक पलों में रंग भरने का प्रयास करती सूत्रधार लीला (रिचा चड्ढा) नजर आती हैं, जो कि अपरंपरागत विधवा है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT